गुरुवार, 13 सितंबर 2018

हाईलाइन संपादक हरिमोहन सारस्वत गिरफ्तार: थानाधिकारी पर हमला व बलवा प्रकरण


सूरतगढ 13-9-2018.

पुलिस ने सिटी थाने की सीमा के पास में आज शाम को पत्रकार हरिमोहन सारस्वत को गिरफ्तार कर लिया। पत्रकार संगठन और कुछ और ने मुकदमें में हरिमोहन को फंसाने का आरोप लगाया मगर पुलिस ने हरिमोहन पर गंभीर आरोप लगाए और मुकदमेंं में प्रमुख आरोपी बताया हुआ है। हरिमोहन ने पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए 12-9-2018 को अग्रिम जमानत की अर्जी एडीजे कोर्ट में लगवाई मगर वह स्वीकार नहीं की गई।राजस्थान उच्च न्यायालय मेंं अग्रिम जमानत का आवेदन किये जाने का वकील ने बताया था,मगर यह नहीं हो पाया।पुलिस ने हरिमोहन को गिरफ्तार करने के लिए कोशिशें कर रखी थी। हरिमोहन की गिरफ्तारी होने से अब संभावना की जा रही है कि पुलिस सख्त है और अन्य प्रमुख भाषण देने वाले भी पकड़े जा सकते हैं। हरिमोहन की गिरफ्तारी के बाद नेताओं मेंं हलचल मची है।

सूरतगढ़ उपखंड कार्यालय के आगे 6-9-2018 को  थाना अधिकारी निकेत कुमार पारीक पर जानलेवा हमला करने,पुलिस बल पर हमला करने, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने षड़यंत्र करने के आरोप में 28 लोगों पर भारतीय दंड संहिता की धाराओं  307 332 353 336 109 153 147 149 120 बी के तहत  मुकदमा नंबर 434 दर्ज करके जांच लक्ष्मण सिंह सहायक सब इंस्पेक्टर को सौंपी गई थी।

 यह मुकदमा थाना अधिकारी निकेत कुमार पारीक की ओर से दर्ज करवाया गया था।

इसमें निकेत कुमार ने  राजू जाट और बाघ अली पर जान से मारने के लिए थानाधिकारी( खुद) पर हमला करने का आरोप लगाया था।

लिखा गया है कि सखी मोहम्मद,बाघ अली, राजू जाट और हरिमोहन सारस्वत ने षड्यंत्र रचा पुलिस बल पर हमला करने सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का जिसके तहत पुलिस बल पर हमला हुआ और निकेतकुमार पारीक पर जानलेवा हमला हुआ।

इन लोगों ने भड़काऊ भाषणों में कहा जनता जो चाहती है वह करती है सत्ता जनता जो चाहे होती है। यह कहते हुए भीड़ को साथ लेकर उपखंड कार्यालय में घुसने का प्रयत्न किया।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें