शुक्रवार, 31 अगस्त 2018

रेल यात्रा में 53 प्रकार के यात्रियों को किराए में छूट: महत्वपूर्ण जानकारी:


* करणीदानसिंह राजपूत *

- रोगियों सहित अनेक प्रकार की रियायतें-

- विभिन्न श्रेणियों में 25 प्रतिशत से 100 प्रतिशत तक की रियायतें-


भारतीय रेलवे में वर्तमान समय में टिकट की कीमतों पर 53 विभिन्न श्रेणियों के अन्तर्गत छूट व रियायतें उपलब्ध करवाई जाती है। यह छूट व रियायतें विभिन्न श्रेणियों के अन्तर्गत 25 प्रतिशत से 100 प्रतिशत तक होती है। 

 उत्तर पश्चिम रेलवे के जनसम्पर्क अधिकारी तरूण जैन ने बताया कि ऑफ लाइन अथवा रिजर्वेशन ऑफिस (विन्डो) से टिकट करवाने पर दिव्यांग जनों,मरीजों, वरिष्ठ नागरिकों, पुरस्कार विजेता (अवार्ड), शहीदों की विधवाओं, छात्रों, युवाओं, किसानों, कलाकारों व खिलाड़ियों, मेडिकल प्रोफेशनल्स और अन्य लोगों को रियायतें उपलब्ध करवायी जाती हैं। ऑन लाइन माध्यम से टिकट बुक करायी जाती है तो इंडियन रेलवे कैटरिंग एवं टूरिज्म कारर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) पर सिर्फ वरिष्ठ नागरिकों को ही छूट उपलब्ध करवायी जाती है। 


दिव्यांगजनों हेतु रियायतः

 दिव्यांगों (अस्थि विकलांगता) या पक्षाघात से पीड़ित दिव्यांगजनों जो कि किसी दूसरे की मदद के बिना नहीं चल सकते है, दृष्टि दिव्यांग एवं मानसिक रूप से दिव्यांगजनों को एक सहचर (एस्कार्ट) कर रहे व्यक्ति के साथ प्रथम एवं द्वितीय वातानुकूलित शयनयान में 50 प्रतिशत एवं अन्य सभी श्रेणियों में 75 प्रतिशत की छूट की जाती है, जबकि ऐसे यात्रियों को शताब्दी एवं राजधानी रेल सेवाओं की तृतीय वातानुकूलित श्रेणी में 25 प्रतिशत की छूट दी जाती है। मूक एवं बधिर व्यक्ति को जो या तो अकेले सफर कर रहा है या फिर किसी सहचर के साथ सफर कर रहा है तो उसे द्वितीय श्रेणी शयनयान और प्रथम श्रेणी में 50 प्रतिशत की छूट उपलब्ध करवायी जाती है। 


बीमार व्यक्तियों हेतु रियायतें


अकेले अथवा किसी सहचर के साथ सफर कर रहे केन्सर मरीजों को जो कि उपचार अथवा चैकअप के लिए यात्रा कर रहे होते है तो उन्हें द्वितीय श्रेणी, प्रथम श्रेणी और वातानुकूलित चेयरकार में 75 प्रतिशत की छूट उपलब्ध करवायी जाती है, वही ऐसे यात्रियों को स्लीपर एवं तृतीय वातानुकूलित कोच में 100 प्रतिशत की छूट अर्थात् मुफ्त में टिकट उपलब्ध करवाया जाता है वहीं द्वितीय एवं प्रथम वातानुकूलित कोच में 50 प्रतिशत तक की रियायत उपलब्ध करायी जाती है। यह रियायत सहचर के लिए भी लागू होती है, केवल स्लीपर एवं तृतीय वातानुकूलित शयनयान में सहचर यात्रा को 75 प्रतिशत रियायत ही मिलती है। थैलिसीमिया, ह्नदय तथा किडनी (गुर्दा रोग) से सम्बन्धी बीमारी से जूझ रहे मरीजों जो कि सर्जरी के लिए अकेले या किसी सहचर के साथ यात्रा कर रहे हों, तो उन्हें द्वितीय श्रेणी, स्लीपर, प्रथम श्रेणी, तृतीय वातानुकूलित शयनयान एवं वातानुकूलित कुर्सीयान में 75 प्रतिशत की रियायत दी जाती है जबकि प्रथम एवं द्वितीय वातानुकूलित शयनयान में 50 प्रतिशत की रियायत दी जाती है।  हीमोफीलिया से ग्रसित रोगी को द्वितीय श्रेणी, स्लीपर, प्रथम श्रेणी, तृतीय वातानुकूलित शयनयान एवं वातानुकूलित कुर्सीयान के किराये में 75 प्रतिशत की रियायत सहचर के साथ उपलब्ध है। टीबी एवं लूपास वल्गेरिस जैसी बीमारियों से ग्रसित रोगियों को इलाज अथवा आवधिक चैकअप पर जाने हेतु सहचर के साथ द्वितीय श्रेणी, स्लीपर, प्रथम श्रेणी में 75 प्रतिशत की रियायत उपलब्ध है। नान इन्फेक्टियस लेप्रोसि से ग्रसित रोगियों को इलाज अथवा आवधिक चैकअप कराने जाने के लिए द्वितीय श्रेणी, स्लीपर एवं प्रथम श्रेणी के किराये में सहचर के साथ किराये में 75 प्रतिशत की रियायत दी गई है। एड्स (एआईडीएस) से ग्रसित रोगियों को द्वितीय श्रेणी में नामित केन्द्रों पर इलाज/आवधिक चैकअप हेतु जाने के लिए द्वितीय श्रेणी में 50 प्रतिशत रियायत उपलब्ध करायी गई है। एपलास्टिक एनिमिया/सिकल सेल एनिमिया रोगों से ग्रसित रोगियों को इलाज/आवधिक चैकअप हेतु जाने के लिए स्लीपर, वातानुकूलित कुर्सीयान, वातानुकूलित द्वितीय एवं तृतीय श्रेणियों में यात्रा करने हेतु किराये में 50 प्रतिशत रियायत उपलब्ध है।


वरिष्ठ नागरिकों हेतु रियायतें


  60 वर्ष के ऊपर आयु के समस्त पुरूषों को 40 प्रतिशत एवं 58 वर्ष से ऊपर आयु की महिलाओं को किराये में 50 प्रतिशत की छूट उपलब्ध करवाई जाती है यह छूट राजधानी शताब्दी एवं दूरन्तों जैसे रेल सेवाओं में भी दी जाती है।


पुस्कार विजेताओं को प्रदत्त रियायतें


अपनी सेवा के दौरान उत्कृठ सेवा के प्रदर्शन से राष्ट्रपति पुलिस मेडल प्राप्त पुरूष को 50 प्रतिशत एवं महिलाओं को 60 प्रतिशत राजधानी, शताब्दी एवं जन शताब्दी सहित समस्त श्रेणियों में रियायत प्रदान की गई है।


 उद्योगों के अन्तर्गत नवाचार एवं उत्पादकता से सम्बद्ध प्रधानमंत्री श्रम पुरस्कार से नवाजित सभी को द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों के किराये में 75 प्रतिशत रियायत उपलब्ध है। 


शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ठ सेवा देने पर राष्ट्रपति द्वारा प्रदत्त राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त शिक्षकों को द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत रियायत उपलब्ध है।

राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार प्राप्त बच्चों को उनके परिजनों के साथ द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत रियायत उपलब्ध करायी गयी है। 

युद्ध में हुए शहीद की विधवाओं, आईपीकेएफ सेवा में श्रीलंका में शहीद हुए जवानों की विधवाओं, संसद में सेवा के दौरान शहीद हुए पुलिस एवं सेना के सेवकों की विधवाओं को, सेना के ऐसे जवानों की विधवाओं को जिन्होंने आंतकवादी गतिविधियों के दौरान शहीद हुए एवं ऑपरेशन विजय के दौरान शहीद हुए सैनिकों की विधवाओं को द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों के किराये में 75 प्रतिशत तक रियायत प्रदान की गई है।


छात्रा/छात्राओं हेतु रियायत


ऐसे छात्रा जो कि छुट्टियों के दौरान अपने गृह क्षेत्र जाने आने एवं शैक्षणिक दौरों पर आने जाने के लिए सामान्य श्रेणी के छात्र व छात्राओं को द्वितीय एवं शयनयान में 50 प्रतिशत एवं एमएसटी व क्यूएसटी के लिए भी 50 प्रतिशत की रियायत उपलब्ध है।  अनुसूचित जाति व जनजाति के छात्रों हेतु यह रियायत 75 प्रतिशत रखी गयी है। ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों को वर्ष में एक बार शैक्षणिक दौरे पर जाने हेतु द्वितीय श्रेणी में 75 प्रतिशत को रियायत उपलब्ध है। ग्रामीण क्षेत्रों के सरकारी स्कूल की छात्राओं को जो कि राष्ट्रीय स्तर पर मेडिकल, इंजीनियरिंग इत्यादि प्रवेश परीक्षाओं में जाने हेतु द्वितीय श्रेणी में 75 प्रतिशत की रियायत।

केन्द्रीय कर्मचारी चयन आयोग एवं संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित मुख्य लिखित परीक्षाओं में भाग लेने हतु छात्र/छात्राओं को द्वितीय श्रेणी में 50 प्रतिशत रियायत। विदेशी छात्रों को भारत सरकार द्वारा आयोजित की जाने वाली सेमीनारों में भाग लेने एवं छुट्टियों के दौरान ऐतिहासिक क्षेत्रों में भ्रमण पर जाने हेतु द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत की रियायत। 35 वर्ष तक के रिसर्च स्कॉलर्स को अपनी रिसर्च के कार्य से भ्रमण पर जाने के लिए द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों के 50 प्रतिशत की रियायत। स्टूडेन्स एव नान स्टूडेन्टस जो कि कैम्प्स कार्य हेतु जाते है उनके लिए द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 25 प्रतिशत तक की रियायत। केडिट एवं सामुद्रिक इंजीनियरिंग प्रशिशुओं को नेविगेशनल/इंजीनियरिंग ट्रेनिंग इत्यादि में गृह नगर से सेवा कार्य तक जाने हेतु द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत तक रियायत उपलब्ध है। 


युवाओं हेतु रियायतें

राष्ट्रीय एकीकरण कैम्पों में भाग लेने जाने वाले युवाओं को इस योजना के तहत राष्ट्रीय युवा परियोजना में भाग लेने पर द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत रियायत उपलब्ध है। मानव उत्थान सेवा समिति में भाग लेने पर द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 40 प्रतिशत रियायत उपलब्ध है। 

  बेरोजगार युवाओं को इस योजना के तहत अगर वे सरकारी अन्डर टेकिंग, म्युनसिपल कारपोरेशन, विश्व विद्यालय एवं पब्लिक सेक्टर संस्थाओं में साक्षात्कार हेतु जाने के लिए द्वितीय एवं शयनयान में 50 प्रतिशत की रियायत केन्द्र एवं राज्य सरकारों में नौकरी हेतु साक्षात्कार में जाने हेतु द्वितीय श्रेणी में 100 प्रतिशत एवं शयनयान में 50 प्रतिशत की रियायत उपलब है। 

भारत स्काउट एवं गाइड से सम्बद्ध छात्र/छात्राओं को स्काउटिंग ड्यूटी पर जाने हेतु द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत की रियायत उपलब्ध है।


किसानो हेतु रियायतें

किसानों एवं औद्योगिक मजदूरों को कृषि एवं औद्योगिक प्रदर्शनियों में भाग लेने जाने हेतु द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 25 प्रतिशत तक रियायत। सरकार द्वारा प्रायोजित विशेष रेल सेवाओं में यात्रा करने वाले किसानों को द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 33 प्रतिशत तक रियायत। किसानों एवं दुग्ध उत्पादकों को राष्ट्रीय स्तर की शिक्षा एवं ट्रेनिंग लेने हेतु इंस्टीट्यूट में जाने हेतु द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत तक रियायत। भारतीय कृषक समाज एवं सर्वोदय समाज, वर्धा द्वारा आयोजित की जाने वाली राष्ट्रीय वार्षिक सम्मेलन में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों के किराये में 50 प्रतिशत तक रियायत उपलब्ध है। 


कलाकारों एवं खिलाड़ियों हेतु रियायत्


कलाकारों को अभिनय करने जाने हेतु द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 75 प्रतिशत रियायत, प्रथम श्रेणी, वातानुकूलित कुर्सीयान, वातानुकूलित द्वितीय एवं तृतीय श्रेणी में 50 प्रतिशत राजधानी, शताब्दी एवं जनशताब्दी रेलसेवाओं की वातानुकूलित कुर्सीयान तृतीय एवं द्वितीय शयनयान श्रेणियों में 50 प्रतिशत की रियायत उपलब्ध है। फिल्म तकनीशियनों को फिल्म बनाने सम्बन्धी कार्य हेतु जाने के लिए स्लीपर श्रेणी में 75 प्रतिशत, प्रथम श्रेणी, वातानुकूलित कुर्सीयान, द्वितीय एवं तृतीय वातानुकूलित शयनयानों में 50 प्रतिशत की, जिसमें शताब्दी एवं राजधानी गाड़ियाँ शामिल हैं, रियायत प्रदान की गई है। 

अखिल भारतीय व राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेने जाने वाले प्रतिभागियों को द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 75 प्रतिशत तथा प्रथम श्रेणी में 50 प्रतिशत रियायत उपलब्ध है।  

राष्ट्रीय पर्वतारोहण संस्थान द्वारा चलाये गये पर्वतारोहण अभियानों में भागीदारी करने वाले प्रतिभागियों को द्वितीय एवं स्लीपर श्रेणियों में 75 प्रतिशत एवं प्रथम श्रेणी में 50 प्रतिशत की रियायत उपलब्ध है।

अधीस्वीकृत पत्रकारों को प्रेस कार्य हेतु सभी मेल/एक्सप्रेस रेल सेवाओं में छूट 50 प्रतिशत  उपलब्ध। अधीस्वीकृत पत्रकार अपनी पत्नी/सहचर एवं 18 वर्ष तक की उम्र के बच्चे के साथ वित्तीय वर्ष में 2 बार राजधानी/शताब्दी/जन शताब्दी रेल सेवाओं में 50 प्रतिशत रियायत के साथ यात्रा कर सकते है। 


मेडिकल प्रोफेशनल्स को रियायत


एलोपैथिक डॉक्टर किसी भी कार्य से भ्रमण करते है तो इन्हें सभी रेल सेवाओं की समस्त श्रेणियों में 10 प्रतिशत की रियायत उपलब्ध है।  नर्स एवं मिडवाइव्स को छुट्टियों अथवा ड्यूटी पर जाने हेतु द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 25 प्रतिशत रियायत उपलब्ध है। 

अन्य सम्मेलनों, वर्कशाप इत्यादि में भाग लेने जाने हेतु के प्रदत्त रियायतें

   राष्ट्रीय स्तर की पंजीकृत सामाजिक/शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक संस्थाओं में प्रतिनिधियों को राष्ट्रीय वार्षिक अधिवेशन में भाग लेने, भारत सेवा दल बैंगलुरू के सदस्यों को कैम्प, बैठकों, रैलीयों एवं ट्रैकिंग आयोजनों में भाग लेने, अन्तर्राष्ट्रीय मानव सेवा समिति के सदस्यों को सामाजिक कार्य/सेवा हेतु, प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्कूलों के शिक्षकें को शैक्षणिक दौरों पर जाने व सेन्ट जोन एम्बूलेंस बिग्रेड एवं रिलीफ वेलफेयर एम्बूलेस केम्पों एवं प्रतियोगिताओं में भागीदारी के लिए तथा उपरोक्त सभी को द्वितीय एवं शयनयान श्रेणियों में 25 प्रतिशत तक की रियायत उपलब्ध है। 

( नियम बदलते रहते हैं:ताजा जानकारी रेलवे से लेते रहेंं)

---------------



गुरुवार, 30 अगस्त 2018

एमपी: शिवराज के जूते-चप्‍पल बांटने पर बवाल

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान भले ही न हुआ हो, लेकिन सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस एक-दूसरे पर जमकर हमले बोल रहे हैं। दोनों ही दलों को आलोचना के मौके की तलाश रहती है।


सीएम शिवराज को मिला कानूनी नोटिस


मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान भले ही न हुआ हो, लेकिन सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस एक-दूसरे पर जमकर हमले बोल रहे हैं। दोनों ही दलों को आलोचना के मौके की तलाश रहती है। राज्य सरकार द्वारा तेंदूपत्ता मजदूरों को बांटे गए जूते-चप्पल में हानिकारक रसायन होने की बात सामने आने पर कांग्रेस ने भाजपा सरकार पर हमलों की बौछार कर दी। वहीं भाजपा को इस मसले पर सुरक्षात्मक रुख अपनाना पड़ा। राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तेंदूपत्ता का काम करने वाले मजदूरों का दिल जीतने के लिए मुख्यमंत्री चरणपादुका योजना शुरू की। इस योजना के जरिए भाजपा आदिवासियों के घर-घर तक पहुंचने की तैयारी में जुटी थी, तभी एक रिपोर्ट सामने आई और उसमें कहा गया कि इन जूते-चप्पलों के निर्माण में जिस रसायन का उपयोग किया जा रहा है, वह कैंसर जैसी बीमारी पैदा कर सकता है। इसके बाद कांग्रेस ने सरकार पर हमलों का दौर शुरू कर दिया। अब तक 10 लाख से ज्यादा जूते-चप्पल बांटे जा चुके हैं।

राज्य की चुनाव प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का कहना है, “आदिवासियों के हक और सम्मान की बात करने वाली भाजपा सरकार का ये कारनामा देखिए, 10 लाख आदिवासियों को बांटे गए कैंसर वाले जूते-चप्पल। 

केंद्रीय चर्म संस्थान की जांच में इसका खुलासा भी हो गया है। राज्य के वनमंत्री गौरी शंकर शेजवार ने दावा किया कि आदिवासियों को बांटे गए जूते और चप्पलों में किसी तरह का हानिकारक रसायन नहीं है। इसकी जांच नोएडा की फुटवेयर, डिजाइन एवं डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट और चेन्नई की चर्म अनुसंधान संस्थान में की गई, जिसमें प्रतिबंधित रसायन एजेंडओ नहीं है।

वहीं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिह ने नोएडा के फुटवेयर, डिजाइन एवं डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट और चेन्नई की चर्म अनुसांान संस्थान की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की मांग की है। समाजवादी नेता गोविंद यादव का कहना है कि सरकार को यह बात स्पष्ट करनी चाहिए कि जो जूते-चप्पल बांटे गए हैं, वे किस कंपनी के हैं, किससे खरीदी की गई है, उनकी जिस संस्थान से जांच कराई गई है, उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक करें। सरकार सिर्फ यह कहकर नहीं बच सकती कि जूते-चप्पलों में घातक रसायन नहीं हैं। दुर्भाग्यपूर्ण है कि सरकार इस मसले को गंभीरता से ले ही नहीं रही है।

आदिवासियों को बांटे गए जूतों में अगर वास्तव में घातक रसायन है तो यह चिंता की बात है। सत्तापक्ष का मौन रहना तो समझ में आता है, मगर विपक्षी दल कांग्रेस का सिर्फ संवाददाता सम्मेलनों और विज्ञप्तियां जारी करने तक सीमित रहना कई सवाल खड़े करता है। राज्य की कांग्रेस इकाई के किसी भी बड़े नेता ने आदिवासियों के बीच पहुंचकर यह जानने की कोशिश नहीं की कि क्या वास्तव में इन जूतों से उन्हें कोई दिक्कत हो रही है।


SC/ST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, एक ही राज्य में ले सकेंगे आरक्षण का लाभ


नई दिल्ली 30, 2018.

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि एक राज्य के अनुसूचित जाति और जनजाति समुदाय के सदस्य दूसरे राज्यों में सरकारी नौकरी में आरक्षण के लाभ का दावा नहीं कर सकते यदि उनकी जाति वहां SC/ST के रूप में अधिसूचित नहीं है। न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने सर्वसम्मति के फैसले में कहा कि किसी एक राज्य में अनुसूचित जाति के किसी सदस्य को दूसरे राज्यों में भी अनुसूचित जाति का सदस्य नहीं माना जा सकता जहां वह रोजगार या शिक्षा के इरादे से गया है। संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एनवी रमण, न्यायमूर्ति आर भानुमति, न्यायमूर्ति एम. शांतानागौडर और न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर शामिल हैं।


संविधान पीठ ने कहा, ‘‘एक राज्य में अनुसूचित जाति के रूप में अधिसूचित व्यक्ति एक राज्य में अनुसूचित जाति के रूप में अधिसूचित होने के आधार पर दूसरे राज्य में इसी दर्जे का दावा नहीं कर सकता।’’  न्यायमूर्ति भानुमति ने हालांकि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अजा-अजजा के बारे में केन्द्रीय आरक्षण नीति लागू होने के संबंध में बहुमत के दृष्टिकोण से असहमति व्यक्त की। पीठ ने 4:1 के बहुमत के फैसले में कहा कि जहां तक दिल्ली का संबंध है तो अजा-अजजा के बारे में केन्द्रीय आरक्षण नीति यहां लागू होगी।

संविधान पीठ ने यह व्यवस्था उन याचिकाओं पर दी जिनमें यह सवाल उठाया गया था कि क्या एक राज्य में SC/ST के रूप में अधिसूचित व्यक्ति दूसरे राज्य में आरक्षण प्राप्त कर सकता है जहां उसकी जाति को अजा-अजजा के रूप में अधिसूचित नहीं किया गया है। पीठ ने इस सवाल पर भी विचार किया कि क्या दूसरे राज्य के SC/ST सदस्य दिल्ली में नौकरी के लिए आरक्षण का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

( पंजाब केसरी)

ऋण माफी लोगों को सीएम संवाद वास्ते जयपुर ले जाएंगे:4 सितंबर को जनसंवाद


श्रीगंगानगर, 30 अगस्त2018.

 राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास सहकारी निगम लिमिटिड श्रीगंगानगर से विभिन्न योजनाओं में प्राप्त किये गये ऋण वाले लाभार्थियों का 31 मार्च 2018 तक मूल मय ब्याज कुल राशि 2 लाख रूपये तक शेष है, को मुख्यमंत्री राजस्थान सरकार द्वारा बजट घोषणा वर्ष 2018-19 में ऋण माफ किया गया है। इन लाभार्थियों की संख्या 750 है। इन लाभार्थियो से मुख्यमंत्री 4 सितम्बर 2018 को जनसंवाद करेगी। इस संबंध में जिला प्रशासन एवं अनुजा निगम कार्यालय श्रीगंगानगर द्वारा लाभार्थियों को सूचना दी जा रही है। राज्य सरकार, अनुजा निगम के प्रयासों से प्राप्त ऋण से प्रारम्भ किये गये स्वरोजगार से मुख्यमंत्री को अवगत करवाना है। 

अधिकारियों ने बताया कि श्रीगंगानगर जिले की 750 लाभार्थियों को बसों के माध्यम से 3 सितम्बर 2018 सायं 6 बजे जिला मुख्यालय व पंचायत समिति मुख्यालय से जयपुर ले जाया जायेगा। 

-----------


प्रतीक्षा यात्रियों की सुविधा हेतु 8 जोड़ी रेलगाडियों में बढाये वातानुकूलित डिब्बे


* प्रतीक्षा सूची के रेल यात्रियों को राहत, एक माह तक उपलब्ध होंगी अतिरिक्त सीटें *

श्रीगंगानगर, 30 अगस्त 2018.

रेलवे प्रशासन द्वारा लंबी प्रतीक्षा सूची को देखते हुये यात्रियों की सुविधा हेतु 8 रेलगाडियों में वातानुकूलित डिब्बों की अस्थाई बढोतरी की गई है।   

    उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री तरूण जैन ने बताया कि 

गाडी संख्या 19715/19716 जयपुर-लखनऊ-जयपुर त्रि-साप्ताहिक एक्सप्रेस में जयपुर से 2 सितम्बर 2018 से 30 सितम्बर 2018 तक एवं लखनऊ जंक्शन से 3 सितम्बर 2018 से एक अक्टूबर 2018 तक एक सैकण्ड मय थर्ड एसी श्रेणी डिब्बें की अस्थाई बढोतरी की गई है। इस बढोतरी से इस गाडी के मार्ग के मुख्यतः दौसा, भरतपुर, मथुरा, कासगंज, कानपुर अनवरगंज, कानपुर सेट्रल जंक्शन एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को सैकण्ड मय थर्ड एसी श्रेणी की 56 बर्थ अधिक उपलब्ध हो पायेगी। 

गाडी संख्या 14712/14711 श्रीगंगानगर-हरिद्वार-श्रीगंगानगर एक्सप्रेस में एक सितम्बर 2018 से 30 सितम्बर 2018 तक एक थर्ड एसी श्रेणी डिब्बे की अस्थाई बढोतरी की जा रही है। इस बढोतरी से इस गाडी के मुख्यतः भटिण्डा, धुरी, अम्बाला, सहारनपुर एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को प्रत्येक फेरे में थर्ड एसी की 64 बर्थ अधिक उपलब्ध हो पायेगी। 

गाडी संख्या 12482/12481 श्रीगंगानगर-दिल्ली-श्रीगंगानगर एक्सप्रेस में श्रीगंगानगर से 2 सितम्बर 2018 से एक अक्टूबर 2018 तक एवं दिल्ली से  3 सितम्बर 2018 से 2 अक्टूबर 2018 तक एक थर्ड एसी डिब्बे की अस्थाई बढोतरी की जा रही है। इस बढोतरी से इस गाडी के मुख्यतः .भटिण्डा, जाखल, जीन्द, रोहतक एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को प्रत्येक फेरे में थर्ड एसी की 64 बर्थ अधिक उपलब्ध हो पायेगी। 


गाडी संख्या 14731/14732 दिल्ली-फजिल्का-दिल्ली एक्सप्रेस में दिल्ली से 2 सितम्बर 2018 से एक अक्टूबर 2018 तक एवं फजिल्का से 3 सितम्बर 2018 से 2 अक्टूबर 2018 तक एक थर्ड एसी डिब्बे की अस्थाई बढोतरी की जा रही है। इस बढोतरी से इस गाडी के मुख्यतः सोनीपत, पानीपत, कुरूक्षेत्रा, अंबाला, धुरी, भटिण्डा  एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को प्रत्येक फेरे में थर्ड एसी की 64 बर्थ अधिक उपलब्ध हो पायेगी।


 गाडी संख्या 22478/22477 जयपुर-जोधपुर-जयपुर सुपरफास्ट एक्सप्रेस रेल सेवा में एक सितम्बर 2018 से 30 सितम्बर 2018 तक एक थर्ड एसी श्रेणी डिब्बें की अस्थाई बढोतरी की जा रही है। इस बढोतरी से इस गाडी के मार्ग के मुख्यतः जयपुर, फुलेरा, कुचामन सिटी, मकराना, डेगाना, मेडता रोड, राई का बाग एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को प्रत्येक फेरे में थर्ड एसी श्रेणी की 64 सीटें अधिक उपलब्ध होगी। 


 गाडी संख्या 12489/12490 बीकानेर-दादर-बीकानेर द्वि-साप्ताहिक सुपरफास्ट एक्सप्रेस में बीकानेर से एक सितम्बर 2018 से 29 सितम्बर 2018 एवं दादर से 2 सितम्बर 2018 से 30 सितम्बर 2018 तक एक थर्ड एसी श्रेणी डिब्बें की अस्थाई बढोतरी की गई है। इस बढोतरी से इस गाडी के मार्ग के मुख्यतः जोधपुर, जालौर, पालनपुर, अहमदाबाद, वडौदरा, सूरत एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को प्रत्येक फेरे में थर्ड एसी श्रेणी की 64 बर्थ अधिक उपलब्ध हो पायेगी। 


गाडी संख्या 14707/14708 बीकानेर-बान्द्रा टर्मिनस-बीकानेर एक्सप्रेस में बीकानेर से एक सितम्बर 2018 से 30 सितम्बर 2018 तक एवं बान्द्रा टर्मिनस से 2 सितम्बर 2018 से एक अक्टूबर 2018 तक एक थर्ड एसी श्रेणी के डिब्बे की अस्थाई बढोतरी की गई है। इस बढोतरी से इस गाडी के मार्ग के मुख्यतः जोधपुर, आबूरोड, अहमदाबाद, वडोदरा एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को प्रत्येक फेरे में थर्ड एसी की 64 बर्थ अधिक उपलब्ध हो पायेगी।


 गाडी संख्या 19601/19602 उदयपुर-न्यूजलपाईगुडी-उदयपुर साप्ताहिक एक्सप्रेस में उदयपुर से एक सितम्बर 2018 से 29 सितम्बर 2018 तक एवं न्यूजलपाईगुडी से 3 सितम्बर 2018 से एक अक्टूबर 2018 तक एक थर्ड एसी श्रेणी डिब्बें की अस्थाई बढोतरी की गई है। इस बढोतरी से इस गाडी के मार्ग के मुख्यतः चित्तोडगढ, अजमेर, जयपुर, दिल्ली, लखनऊ, गोरखपुर, छपरा, कटिहार एवं अन्य स्टेशनों के यात्रियों को थर्ड एसी की श्रेणी की 64 बर्थ अधिक उपलब्ध हो पायेगी।

---------------


बुधवार, 29 अगस्त 2018

सूरतगढ़ थर्मल:तकनीकी कर्मचारियों ने इंटक के नेतृत्व में काली पट्टी बांधकर किया विरोध प्रदर्शन।


सूरतगढ़ तापीय परियोजना में करीब 18 वर्षो से कार्यरत तकनीकी कर्मचारियों को एसीपी पर 3600 ग्रेड पे का लाभ देने एवम रिस्ट्रक्चरिंग(पुनःसर्जन)के तहत बढ़े हुए तकनीकी कर्मचारियों के पदों पर पदोन्नति करने की मांग को लेकर इंटक के नेतृत्व में सूरतगढ़ थर्मल के तकनीकी कर्मचारियों ने दोनों थर्मल में एक से आठ नम्बर इकाई तक काली पट्टी बांध कर विरोध प्रकट किया।

सूरतगढ़ विद्युत उत्पादन मजदूर यूनियन के महामंत्री नरेंद्र सिंह सिसोदिया ने बताया कि 18 वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके सैकड़ो तकनीकी कर्मचारियों को 9 वर्ष के अंतराल के बाद मिलने वाला दूसरा एसीपी लाभ 2800 के हिसाब से ग्रेड पे 10 ए पर ही दिया जा रहा है। जबकि ये 3600 हिसाब से  हमे ग्रेड पे 11 पर में फिक्स किया जाना चाहिए। इसके अलावा चार माह पूर्व विभाग द्वारा सृजित वरिष्ठ तकनीकी कर्मचारी द्वितीय के पदों पर भी आज तक पदोन्नति नही की गई है। इसी के विरोध में इंटक संगठन द्वारा बुधवार से काली पट्टी बांध कर लगातार विरोध प्रकट जायेगा। इसके अलावा आगामी 31 अगस्त को परियोजना मुख्य द्वार पर सुबह 8 बजे से 10:30 बजे तक विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। इसी कड़ी में 4 सितम्बर को सभी तकनीकी कर्मचारियों के साथ इंटक परियोजना मुख्य द्वार पर एक दिन का धरना प्रदर्शन करेगी।

 इंटक अध्यक्ष श्याम सुंदर शर्मा ने बताया कि इसके साथ साथ सभी तकनीकी कर्मचारियों द्वारा मुख्यमंत्री व श्रीमान डी सी सामंत अध्यक्ष वेतन विसंगति कमेटी राजस्थान सरकार  को पोस्ट कार्डअभियान चलाकर इस सम्बन्ध में अवगत कराया जायेगा। जिसके तहत लगातार पोस्टकार्ड मुख्यमंत्री के नाम पोस्ट किए जा चुके है। उन्होंने बताया कि आगामी 6 सितम्बर को बीकानेर संभाग में शुरू हो रही गौरव यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री के गंगानगर प्रवास के दौरान उत्पादन निगम के सीएमडी द्वारा श्रमिक संगठनों के साथ संवादहीनता की भी शिकायत की जाएगी।



भूमि आवंटन पर कांग्रेस सरकार की रोक को वसुंधरा ने हटाया: जानें भूमि कहां की है?


जयपुर 29-8-2018.

‌राज्य सरकार ने सीमा से सटे जैसलमेर जिले की इंदिरा गांधी नहर परियोजना की दूसरे चरण की बारानी भूमि आवंटन पर गत करीब नौ साल से लगी रोक हटाकर बड़ा सियासी दांव खेला है। कैबिनेट ने मंगलवार को सर्कुलेशन से इसके प्रस्ताव को मंजूरी दी है।

 अब जैसलमेर जिले में अगले कुछ दिनों में भूमि आवंटन के लिए आवेदन लेने का काम शुरू होगा।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने जैसलमेर में राजस्थान गौरव यात्रा के दौरान 24 अगस्त को जमीन आवंटन से रोक हटाने की घोषणा की थी। इसके बाद राजस्व विभाग ने इसका प्रस्ताव बनाकर कैबिनेट के समक्ष पेश किया।

 जैसलमेर जिले में लाखों-करोड़ों बीघा बारानी भूमि उपलब्ध है। अब आमजन सहित अस्पताल, स्कूल, कार्यालयों, सड़क एवं रेल लाइन के लिए भी बारानी भूमि दी जा सकेगी। आवंटन उपनिवेशन आयुक्त जैसलमेर करेंगे।

2008 में आए थे 27 हजार आवेदन

1976 से जैसलमेर में बारानी भूमि आवंटन पर रोक थी। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने उनके पिछले कार्यकाल में भी चुनाव से ठीक पहले 18 अगस्त, 2008 को रोक को हटाया था। इसके बाद करीब 27 हजार से अधिक आवेदन सरकार के पास आए थे। हालांकि दिसम्बर 2008 में प्रदेश में सरकार बदली और अशोक गहलोत मुख्यमंत्री बने। गहलोत ने 25 अगस्त 2009 को बारानी जमीन आवंटन पर फिर रोक लगा दी। इसके चलते आवंटन के लिए आए सभी आवेदन खारिज कर दिए गए।

रोक हटाने की मांग काफी समय से चल रही थी।


जिले के भाजपा नेताओं व लोगों ने बार-बार भूमि आवंटन से रोक हटाने के लिए मांग उठाई और जनवरी में हजारों जिलावासियों ने इसे लेकर पूर्व विधायक सांगसिंह भाटी के नेतृत्व में प्रदर्शन भी किया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने इसे गंभीरता से लिया।


मंगलवार, 28 अगस्त 2018

अध्यक्ष रेलवे बोर्ड ने “स्मार्ट कोच” का निरीक्षण किया:क्या विशेषता है?जानिए

* मोर्डन कोच फैक्टरी रायबरेली द्वारा “मेक इन इंडिया” के तहत,

स्वदेशी तौर पर बनाये जा रहे है यह नये स्मार्ट कोच,*

- जल्द ही बनायें जायेगे इस प्रकार के 100 “स्मार्ट रेल डिब्बे”-

श्रीगंगानगर, 28 अगस्त2018.

 रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष श्री अश्वनी लोहानी ने मंगलवार को  सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर नवनिर्मित “स्मार्ट कोच” का निरीक्षण किया। इस अवसर पर उनके साथ मार्डन कोच फैक्टरी रायबरेली के महाप्रबंधक श्री राजेश अग्रवाल, उत्तर रेलवे के प्रमुख मुख्य यांत्रिक इंजीनियर श्री अरून अरोरा तथा यांत्रिक विभाग के अन्य उच्च अधिकारी भी उपस्थित थे। श्री लोहानी अत्याधुनिक तकनीक से युक्त “स्मार्ट कोच” को देखकर अत्यन्त आश्वस्त दिखे। ये स्मार्ट कोच स्वदेशी तौर पर “मेक इन इंडिया” के तहत बनाये गये हैं तथा उन्होने कहा कि जल्द ही इस प्रकार के 100 स्मार्ट रेल डिब्बे निर्मित किये जायेंगे । 

उन्होने कहा कि मॅडर्न कोच फैक्ट्री, रायबरेली ने एक स्मार्ट कोच नं. 18155 एलएसीसीएन बनाया है। यह कोच एलएचबी प्लेटफार्म पर निर्मित है और सिंगल विंडो  के माध्यम से सभी सेंसरों की स्थिति की निगरानी के लिए केंद्रीकृत कंप्यूटर और अत्याधुनिक सेंसरों से लैस है। कोच की मुख्य विशेषताएं एक्सल बॉक्स पर कंपन आधारित सेल्फ पावर हार्वेसि्ंटग सेंसर बियरिंग व्हील दोष और ट्रैक पर हार्ड स्पॉट का अनुमान लगायेगा, इससे रेलवे को आवश्यकता के आधार पर अपने रखरखाव की  योजना बनाने में मदद मिलेगी और लाइन विफलताओं को भी दूर किया जा सकेगा । 

  “पीआईसीसीयू“ (यात्रा सूचना और कोच कंप्यूटिंग यूनिट) के रूप में जानी जाने वाली केंद्रीय प्रसंस्करण इकाई मूल रूप से औद्योगिक ग्रेड कंप्यूटर है, जिसमें रिमोट सर्वर पर अपवाद रिपोर्ट भेजने के लिए जीएसएम नेटवर्क प्रदान किया गया है। पीआईसीसीयू मुख्य रूप से कोच रखरखाव और यात्रा इंटरफ़ेस के द्वारा 4 महत्वपूर्ण क्षेत्रों की निगरानी करेगा, जिनमें कोच डायग्नोस्टिक प्रणाली, सुरक्षा और निगरानी प्रणाली, एयर कंडीशनिंग, डिस्क ब्रेक सिस्टम, फायर डिटेक्शन और अलार्म सिस्टम जल स्तर सूचक जैसी अन्य उप प्रणालियों वाला इंटरफेस तथा जीपीएस आधारित यात्रा उदघोषणा और सूचना प्रणाली और डिजिटल गंतव्य बोर्ड होंगे।

उन्होने बताया कि यात्रा सूचना प्रणाली यात्रियों को ट्रेन के अगले स्टेशन के बारे में सूचित करेगी और अगले स्टेशन पर आने का अपेक्षित समय भी दर्शायेगी। यह प्रणाली ट्रेन की गति भी दिखा सकती है। जल स्तर सूचक पानी के रिफिलिंग की आवश्यकता के बारे में एसएमएस के माध्यम से रखरखाव कर्मचारियों की अग्रिम जानकारी दे सकता है। कृत्रिम खुफिया क्षमता वाले सीसीटीवी रेलयात्रियों की सुरक्षा में वृद्धि करेगा और ऑन-बोर्ड रेलवे कर्मचारियों के व्यवहार और गतिविधियों की निगरानी भी करेगा। सीसीटीवी की फुटेज़ यात्रा के दौरान किसी भी अप्रिय घटना की जांच और अपराधियों की पहचान करने में रिमोट कंट्रोल सेंटर से सीधे हस्तक्षेप करते हुए मदद करेगा। दूरस्थ स्थान से चलती हुई रेलगाड़ी के एसी तापमान की निगरानी की जा सकती है और आवश्यकता पड़ने पर यात्रियों के आराम को बढ़ाने के लिए तापमान को नियंत्रित किया जा सकता है।

यह प्रणाली ब्रेक सिस्टम की निगरानी करने में भी सक्षम है और सिस्टम में किसी भी त्रुटि के बारे में अनुरक्षण कर्मचारियों को अग्रिम रूप से सूचित कर सकती है ताकि सुधारात्मक कार्रवाई और रखरखाव की योजना बनाई जा सके। 


कोच रेलयात्रियों (विशेष रूप से महिला और बच्चे) और ट्रेन के गार्ड के बीच परस्पर सम्पर्क स्थापित करने के लिए आपातकालीन टॉक बैक सिस्टम भी प्रदान किया गया है ताकि आवश्यक सहायता प्रदान की जा सके।

उन्होने बताया कि कोच में वाई-फाई हॉट स्पॉट सूचना प्रणाली भी प्रदान की गई है। यात्रा स्वयं डिवाइस से जुड़ सकते हैं और अपने मोबाइल फोन, टैब और लैपटॉप पर फिल्म, गाने और सरकारी योजना आदि जैसे कार्यक्रम देख सकते है। सभी स्मार्ट कोच में रखरखाव के तौर-तरीके को बदल दिया जाएगा और यात्रियों को विश्व स्तरीय सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।

 स्मार्ट कोच की प्रणाली कोचों और ट्रैकों के निवारक रखरखाव से अनुमानित रखरखाव में भी मदद करेग। रखरखाव की आवश्यकता कम हो जाएगी और लागत प्रभावी होगी और लक्षित रखरखाव की योजना पहले से ही बनाई जा सकती है। सभी प्रणालियों व उपकरणों की अतिरिक्त लागत लगभग 12-14 लाख रुपये होगी जो एक वर्ष या इतनी ही अवधि में वसूल की जा सकती हैं। इस कोच के अनुभवों का लाभ उठाने के लिए 100 और स्मार्ट कोच तैयार करने के लिए एक पायलट परियोजना शुरू की जा रही है 


निहालचंद ने सांसद निधि से स्वचालित व्हील चेयर भेंट की


श्रीगंगानगर, 28 अगस्त 2018.

सांसद एवं पूर्व केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री निहालचंद ने मंगलवार को अटल सेवा केन्द्र जिला परिषद के परिसर में विशेष योग्यजन सादुलशहर निवासी सुमित कुमार को स्वचालित व्हील चेयर भेंट की। 

प्रदेश की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान लालगढ़ में श्री सुमित कुमार ने प्रार्थना पत्र देकर स्वचालित व्हील चेयर की मांग की थी। माननीय मुख्यमंत्री ने स्वचालित व्हील चेयर प्रदान करने के निर्देश दिये। सांसद श्री निहालचंद ने सांसद क्षेत्र विकास योजना के तहत 74.2 हजार रूपये की राशि की अभिशंसा की। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के माध्यम से स्वचालित व्हील चेयर क्रय कर प्रार्थी को उपलब्ध करवायी। 

इस अवसर पर सहायक निदेशक श्री बी.पी.चंदेल, श्री हरिसिंह कामरा, श्री सुशील श्योरान, श्री हरभगवान सिंह बराड़, डॉ. बृजमोहन सहारण, श्री रमजान अली चौपदार, श्री ओमी नायक, श्री जुगल डूमरा, श्री सुरेन्द्र जलंधरा, श्री सीताराम बिश्नोई, श्रीमती अंजु सैनी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


पीएम मोदी की हत्या करने की साजिश:गिरफ्तारियां:5 राज्यों में छापे: माओवादियों पर आरोप


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्‍या की साजिश रचने के मामले में नया मोड़ आ गया है। माओवादियों की साजिश की तह तक जाने के लिए पुलिस ने पांच राज्‍यों के 8 ठिकानों पर एक साथ छापे मारे हैं। न्‍यूज एजेंसी यूएनआई के अनुसार, इस मामले में लेखक पी. वारावारा राव को हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया है। तकरीबन सात घंटे तक चली छानबीन के दौरान उनके घर से कई दस्‍तावेज बरामद किए गए हैं। मालूम हो कि दिल्‍ली स्थित सामाजिक कार्यकर्ता रोना विल्‍सन के घर पर मारे गए छापे में एक चिट्ठी बरामद की गई थी, जिससे पीएम मोदी की हत्‍या की साजिश का खुलासा हुआ था। पुणे पुलिस को संदेह है कि इस पत्र में वारावारा राव के नाम का भी उल्‍लेख था। माओवादियों के पत्र के सामने आने के बाद पुलिस ने पूर्व में भी कई जगहों पर छापा मारा था, लेकिन पीएम मोदी की हत्‍या की माओवादी साजिश के मामले में यह अब तक कि सबसे बड़ी कार्रवाई है। पुलिस ने महाराष्‍ट्र, गोवा, तेलंगाना, दिल्‍ली और झारखंड में संयुक्‍त तौर पर एक साथ छापे मारे हैं।

+

पुणे पुलिस ने कुछ दिन पहले भीमा कोरेगांव में हुए हिंसक प्रदर्शन के मामले में 5 दलित कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किये गये दलित कार्यकर्ताओं में से एक रोना जैकब विल्सन के लैपटॉप से पुलिस को एक पत्र बरामद हुआ था। इस पत्र से पता चला है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जिस तरह से हत्या की गई थी, उसी तरह से पीएम मोदी की भी हत्या की साजिश रची जा रही थी। अब इस मामले को लेकर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा कि ‘ मैं यह नहीं कहता कि यह पूरी तरह से गलत है। लेकिन यह पीएम मोदी का पुराना हथकंडा भी हो सकता है। जब वो मुख्यमंत्री थे और जब उनकी लोकप्रियता कम होने लगी थी तो इस तरह की कहानियां प्रचारित कई गई थीं। इसलिए इसमें कितनी सच्चाई है इसकी जांच होनी चाहिए।

इधर सीपीआई (एम) के जनरल सेक्रेटरी सीताराम येचुरी ने भी इस पूरे मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। सीताराम येचुरी ने कहा है कि देश के अंदर सुरक्षा संस्थाएं हैं वो अपना काम करेंगी। अभी तक तो नेताओं की हिफाजत यह संस्थाएं करती रही हैं और आगे भी करेंगी। जब उनसे पूछा गया कि क्या ऐसी खबरें प्रचारित की जा रही हैं इसपर सीपीआई (एम) के जनरल सेक्रेटरी ने कहा कि अभी इसपर कुछ नहीं कहा जा सकता क्योंकि मामला अदालत में और जांच के बाद ही पता चलेगा की असलियत क्या है?

इससे पहले पुणे पुलिस ने जो ख़त बरामद किया है उसमें इस बात का जिक्र है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जिस तरह से हत्या की गई थी उसी तरह से ही रैली के दौरान मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की जा सकती है। कहा जा रहा है कि यह ख़त किसी माओवादी नेता को लिखा गया है। इस ख़त में कहा गया है कि मोदी के नेतृत्व वाला हिंदू कट्टरवाद आदिवासियों के जीवन को बर्बाद कर रहा है।

पत्र में लिखा हुआ है कि- ‘पीएम मोदी का पूरे देश में बढ़ता दायरा हमारी पार्टी के लिए हर लिहाज से बड़ा खतरा है. मोदी लहर का फायदा उठाते हुए बीजेपी देश के 15 से ज्यादा राज्यों में अपनी सरकार बनाने में सफल रही है. ऐसे में हमें पीएम मोदी के खात्मे को लेकर सख्त कदम उठाने ही होंगे. हम सोच रहे हैं कि राजीव गांधी हत्याकांड की तरह इसे भी अंजाम दिया जाए ताकि देखने में यह आत्महत्या या दुर्घटना जैसा लगे. एक और राजीव गांधी हत्याकांड को अंजाम देने के लिए पीएम के रोड शो को टार्गेट किया जा सकता है’। फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले की जांच में जुटी है।

+

पुणे पुलिस ने एक पत्र बरामद किया है, जिसमें बेहद चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। दरअसल इस पत्र से पता चला है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जिस तरह से हत्या की गई थी, उसी तरह से पीएम मोदी की भी हत्या करने की साजिश रची जा रही थी। इस पत्र में पीएम मोदी को किसी रोड शो के दौरान निशाना बनाए जाने की बात कही गई है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। बता दें कि बीते बुधवार पुणे पुलिस ने महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव में हुए हिंसक प्रदर्शन के मामले में 5 दलित कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था। पुणे पुलिस ने दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर रोना जैकब विल्सन, सुधीर धावले, शोमा सेन, महेश राउत और सुरेंद्र गाडलिंग को गिरफ्तार किया था। पुलिस का कहना है कि इन दलित कार्यकर्ताओं के संबंध माओवादियों के साथ है, जिसकी फिलहाल जांच चल रही है। इन्हीं गिरफ्तार दलित कार्यकर्ताओं में से एक रोना जैकब के लैपटॉप से पुलिस ने पीएम मोदी की हत्या की साजिश वाला पत्र बरामद किया है।

पुणे पुलिस द्वारा बरामद किया गया पत्र किसी माओवादी नेता को लिखा गया है। जिसमें कहा गया है कि “हिंदू कट्टरवाद हमारे एजेंडे की प्रमुख चिंता है। कई नेताओं ने इस मुद्दे को गंभीरता से उठाया है। हम समान विचारधारा के लोगों के साथ गठजोड़ करके इस मुद्दे पर काम कर रहे हैं। मोदी के नेतृत्व वाला हिंदू कट्टरवाद आदिवासियों के जीवन को बर्बाद कर रहा है। बिहार और पश्चिम बंगाल में मिली जबरदस्त हार के बावजूद मोदी ने 15 राज्यों में सफलतापूर्वक भाजपा की सरकार बना दी है। यदि भाजपा और मोदी की यही रफ्तार कायम रही तो इससे पार्टी को काफी नुकसान हो सकता है। पत्र में कहा गया है कि कामरेड किशन और कुछ अन्य वरिष्ठ कामरेड मोदी राज को खत्म करने के लिए कोई ठोस कदम उठाना चाहते हैं। इसके लिए राजीव गांधी जैसे हमले के बारे में सोचा जा रहा है। हालांकि यह आत्मघाती हो सकता है और हम इसमें फेल भी हो सकते हैं, लेकिन इसके बावजूद पार्टियों PB/CC को हमारे इस सुझाव पर विचार करना चाहिए। इसके लिए मोदी के रोड शो को निशाना बनाना असरदार साबित हो सकता है।”

पुणे पुलिस ने गिरफ्तार किए गए आरोपियों के पास से पेन ड्राइव, हार्ड डिस्क और कुछ अन्य दस्तावेज भी बरामद किए हैं। पुणे के ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस रविंद्र कदम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया है कि “हम इनके लिंक और कनेक्शन की जांच कर रहे हैं। हमने कई घरों पर भी छापेमारी की है। रोना जैकब विल्सन के घऱ से हमने एक पेन ड्राइव, हार्ड डिस्क और कुछ अन्य दस्तावेज बरामद किए हैं, जिन्हें फिलहाल फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया है। हमें पता लगा है कि रोना विल्सन और सुरेंद्र गाडलिंग के नक्सलवादियों के साथ संबंध हैं। सुरेंद्र गाडलिंग को कोर्ट में पेश किया गया है, जहां से उसे 8 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।”



सोमवार, 27 अगस्त 2018

श्रीगंगानगर जिल में विधानसभा चुनाव तैयारी: प्रकोष्ठ गठित: सबसे पहले

* अधिकारियों की जिम्मेदारियां तय*

श्रीगंगानगर, 27 अगस्त 2018. विधानसभा आम चुनाव 2018 के दौरान चुनाव एवं चुनाव पूर्व प्रबंधन व कार्यों के निष्पादन के लिये विभिन्न कार्यों के लिये प्रभारी अधिकारी व अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी लगाये गये है। 

जिला कलक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी श्री ज्ञानाराम ने बताया कि निर्वाचन शाखा के लिये प्रभारी अधिकारी उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री नख्तदान बारहठ, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम तहसीलदार श्री सुरेन्द्र पारीक, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय मुख्य आयोजना अधिकारी श्री कालीचरण, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय भादवांवाला के प्रधानाचार्य श्री विजयकांत पाठक तथा अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी चतुर्थ अतिरिक्त प्र.अ. चुनाव शाखा श्री लक्ष्मीनारायण सांखला को लगाया गया है। 

कानून व्यवस्था एवं रूट चार्ट प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी अतिरिक्त जिला कलक्टर सर्तकता श्री गोपाल राम बिरदा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी उपखण्ड अधिकरी श्री सौरभ स्वामी तथा अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी (पुलिस) अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री सुरेन्द्र सिंह को लगाया गया है। 

मतदाता, मतगणना दलों का गठन प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद सुश्री चिन्मयी गोपाल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम जिला सूचना विज्ञान अधिकारी श्री अश्वनी कुमार पालीवाल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय अतिरिक्त जिला सूचना विज्ञान अधिकारी श्री परमजीत सिंह तथा अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय प्रवक्ता कम्प्यूटर पॉलिटेकनीक कॉलेज श्री परविन्द्र सिंह को लगाया गया है। 

 यातायात एवं पीओएल प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी अतिरिक्त जिला कलक्टर सर्तकता श्री गोपालराम बिरदा एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी जिला परिवहन अधिकारी सुश्री सुमन को लगाया गया है। 

भण्डार प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी जिला रसद अधिकारी सुश्री ऋषिबाला श्रीमाली, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम राजस्व अधिकारी नगर परिषद श्री जुबेर खान तथा अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय प्रवर्तन अधिकारी रसद विभाग श्री राकेश सोनी को लगाया गया है।

 ईवीएम प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी अतिरिक्त जिला कलक्टर सर्तकता श्री गोपालराम बिरदा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम सहायक निदेशक लोक सेवाएं श्री मुकेश बारहठ, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय जिला सूचना विज्ञान अधिकारी श्री अश्वनी कुमार पालीवाल तथा अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय अतिरिक्त जिला सूचना विज्ञान अधिकारी श्री परमजीत सिंह को लगाया गया है। 

प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी उपजिला निर्वाचन अधिकारी श्री नख्तदान बारहठ, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम जिला आबकारी अधिकारी श्री अमरनाथ अग्रवाल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक श्री सुरेन्द्र सोनी तथा अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय अधीक्षक आईटीआई श्री गौरीशंकर को लगाया गया है। 

मतपत्र मुद्रण प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी जिला कोषाधिकारी श्री सुनील ढाका एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम सहायक लेखाधिकारी जिला कोषालय श्री प्रेम प्रकाश गोयल को लगाया है। 

लेखा प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी लेखाधिकारी सार्वजनिक निर्माण विभाग श्री चन्द्रमोहन छाबड़ा तथा अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम लेखाधिकारी जिला परिषद श्री मनोज मोदी को लगाया गया है।

डाक मतपत्रा एवं फेसिलिटेशन प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी महाप्रबंधक शुगरमिल श्री सुभाषचन्द्र शर्मा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक श्री विजय कुमार एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय परिविक्षा एवं कारागृह कल्याण अधिकारी सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग श्री प्रेमा राम को लगाया गया है। 

सामान्य व्यवस्था एवं मतगणना प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी जिला आबकारी अधिकारी श्री अमरनाथ अग्रवाल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम उपखण्ड अधिकारी श्री सौरभ स्वामी, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय तहसीलदार श्री सुरेन्द्र पारीक, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय जोधपुर विधुत वितरण निगम के अधीक्षण अभियंता श्री के.के.कस्वां, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी चतुर्थ अधिशाषी अभियंता पीडब्ल्यूडी श्री सुमन बिनोचा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी पंचम महाप्रबंधक बीएसएनएल श्री दिनेश कुमार गर्ग, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी षष्टम अधिशाषी अभियंता जिला परिषद श्री प्रेम अग्रवाल एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी सप्तम अधिशाषी अभियंता पीएचईडी श्री वी.के.जैन को लगाया गया है। 

सांख्यिकी के लिये प्रभारी अधिकारी सहायक निदेशक आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग श्री गिरिराज मीणा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी सहायक सांख्यिकी अधिकारी श्री अनिल शर्मा को लगाया गया है। 

 आईटी सैल के लिये प्रभारी अधिकारी एनालिस्ट कम प्रोग्रामर डीओआईटी श्री राहुल छिम्पा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रोग्रामर डीओआईटी पंचायत समिति पदमपुर श्री आशीषदत एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय सहायक प्रोग्रामर कृषि विस्तार श्री गगनदीप सिंह को लगाया गया है। 

क्रय कमेटी के लिये प्रभारी अधिकारी उपजिला निर्वाचन अधिकारी श्री नख्तदान बारहठ, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम लेखाधिकारी कलेक्ट्रेट श्री रामजीलाल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय कोषाधिकारी श्री सुनील ढ़ाका एवं स्टोर कीपर निर्वाचन शाखा के वरिष्ठ सहायक श्री राजेश महेन्द्रा को लगाया गया है। 

विधि प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी सहायक निदेशक अभियोजन श्री ओम प्रकाश आर्य, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम सहायक विधि परामर्श नगरपरिषद श्री हेमराज सोनी, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय कनिष्ठ विधि अधिकारी कलेक्ट्रेट श्री राजेन्द्र सेवटा को लगाया गया है।

 निर्वाचन व्यय प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी राजस्व अपील अधिकारी श्री कन्हैयालाल स्वामी, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम कोषाधिकारी श्री सुनील ढाका एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय उप कोषाधिकारी श्री प्रेमप्रकाश गोयल को लगाया गया है।

पेड न्यूज प्रकोष्ठ, एमसीएमसी एवं मीडिया प्लान प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी उपखण्ड अधिकारी श्री सौरभ स्वामी एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी सहायक सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी श्री रामकुमार राजपुरोहित को लगाया गया है। 

स्वीप प्लान प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिलापरिषद सुश्री चिन्मयी गोपाल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम सहायक परियोजना अधिकारी जिला परिषद श्री विक्रम जोरा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक श्री शिवराम सिंह यादव, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय जिला शिक्षा अधिकारी प्रारम्भिक श्री हरचन्द गोस्वामी एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी चतुर्थ सहायक सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी श्री रामकुमार राजपुरोहित को लगाया गया है।

 आचार संहिता एवं शिकायत प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी आयुक्त नगरपरिषद सुश्री सुनीता चौधरी, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम नगरपरिषद सचिव श्री लाजपत बिश्नोई, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय सहायक निदेशक महिला अधिकारी विभाग श्री विजय कुमार एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय सहायक अभियंता खनिज विभाग श्री छगन लाल को लगाया गया है। 

जिला नियंत्रण कक्ष एवं हैल्पलाईन कक्ष के लिये प्रभारी अधिकारी उपनिदेशक राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग श्री आलोक अग्निहोत्रा एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम वरिष्ठ पशु चिकित्सा अधिकारी श्री नरेश गुप्ता को लगाया गया है। 

 चुनाव पर्यवेक्षक व्यवस्था प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी उपायुक्त वाणिज्य कर श्री सी.पी.मीणा, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम प्रबंधक निदेशक केन्द्रीय सहकारी बैंक श्री दीपक कुक्कड़, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय उप पंजीयक श्री सुरेन्द्र पारीक एवं अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय सहायक आबकारी अधिकारी श्री भूपेन्द्र सिंह को लगाया गया है। 

आवास व्यवस्था प्रकोष्ठ के लिये प्रभारी अधिकारी आयुक्त नगरपरिषद सुश्री सुनीता चौधरी, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी प्रथम अधिशाषी अभियंता सार्वजनिक निर्माण विभाग श्री हरीकिशन नागपाल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी द्वितीय सहायक निदेशक सामाजिक न्यायिक एवं अधिकारिता विभाग श्री बी.पी.चंदेल, अतिरिक्त प्रभारी अधिकारी तृतीय तहसीलदार श्री सुरेन्द्र पारीक को लगाया गया है।

 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण पदाधिकारी एवं रिटर्निंग अधिकारी समस्त तहसीलदार एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारी के इलेक्शन सैटअप प्रकोष्ठ के लिये समस्त रिटर्निंग अधिकारी, समस्त सहायक रिटर्निंग अधिकारी, समस्त उपखण्ड अधिकारी एवं समस्त तहसीलदार को लगाया गया है। 

-------------

शनिवार, 25 अगस्त 2018

नरेंद्र मोदी के 2019 में पुनः प्रधानमंत्री बनने का चास आधा रह गया




(पंजाब केसरी नेशनल डेस्क)

वैश्विक अर्थशास्त्र और राजनीति पर व्यापक रूप से लिखने वाले अर्थशास्त्री और निवेशक रुचिर शर्मा ने दावा किया है कि नरेंद्र मोदी के 2019 में प्रधानमंत्री बनने के फिर से चांस घट गए हैं। विश्वभर के समाचार पत्रों के स्तंभकार के तौर पर लिखने वाले शर्मा ने बताया कि 2019 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने की संभावना 99 फीसदी से 50 पर आ गई है।

रुचिर शर्मा 24 चुनाव कवर कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि 2017 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने की संभावना 99 फीसदी थी। लेकिन 2018 में यह घटकर 50 फीसदी रह गई है। बता दें कि शर्मा ने इसके पीछे कोई खास वजह नहीं बताई। उनके कहना है कि अलग-अगल बंटे विपक्ष के 2019 में एक साथ आने के संकेत बन रहे हैं। अपनी आने वाली किताब ‘डेमोक्रेसी ऑन रोड’ के लिए काम कर रहे रुचिर शर्मा ने कहा कि 2014 में बीजेपी 31 फीसदी वोटशेयर के साथ जीती थी क्योंकि उस समय विपक्ष बंटा हुआ था। सीटों का शेयर असंगत था और वोट एक जगह केंद्रित था।

शर्मा ने कहा 2019 के चुनाव एकदम अलग होने वाले हैं। अब नाटकीय रूप से आंकडों का अंतर बदल गया है। अब चुनाव 50-50 होने जा रहा है और गठबंधनों को ज्यादा अवसर मिलने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरी तरह से बंटा हुआ विपक्ष अब वास्तव में एकजुट होने के संकेत दे रहा है। कोई नहीं चाहता कि चुनाव नतीजे एक तरफा रहें। अर्थशास्त्री की विश्व की राजनीति पर गहरी नजर है, खासकर भारत पर।

रुचिर की आने वाली किताब संभवता 2019 चुनाव से पहले फरवरी में लॉन्च होगी। उनका दावा है कि चुनावों को लेंस के तौर पर इस्तेमाल करते हुए उनकी अंतदृष्टि उपलब्ध कराएगी कि भारतीय लोकतंत्र कैसे काम करता है। शर्मा के पास भारत में दो दर्जन चुनाव कवर करने का अनुभव है और वे यह काम 1990 से कर रहे हैं।

रुचिर 2004 के चुनाव को याद करते हुए बताते हैं, कि तब अटल बिहारी वाजपेयी के साथ भी आज जैसी स्थिति बन गई थी। उन्होंने कहा कि जब वाजपेयी के खिलाफ विपक्ष एकजुट होने लगा था, तब यही सवाल खड़ा हो गया था, कि वाजपेयी नहीं तो प्रधानमंत्री कौन बनेगा? और ऐसी स्थिति में चुनाव एक्सीडेंटल बन गया था।

80 लोकसभा सीटों वाले उत्तर प्रदेश को माइक्रोसोम्स बताते हुए शर्मा ने कहा कि अगर सपा और बसपा के बीच राज्य में गठबंधन होता है, तो चुनाव में बीजेपी का सूपड़ा साफ कर देगा और गठबंधन नहीं होता, तो बीजेपी जीतेगी। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में अभी भी जाति के आधार पर वोट डाला जाता है।

25-8-2018.








बाबा रामदेव की पतंजलि जींस भी बेचेगी:लड़कियों की जींस भी होगी

बाबा रामदेव के नेतृत्व वाला पतंजलि आयुर्वेद ग्रुप घरेलू उपभोग के बाजार में उथल-पुथल मचाने के बाद अब कपड़ा बाजार में भी उतरने की योजना बना रहा है। 

पतंजलि जल्द ही अपने कपड़ों का ब्रांड ‘परिधान’ लॉन्च करने वाला है। एक टीवी इंटरव्यू के दौरान पतंजलि के एमडी और को-फाउंडर आचार्य बालकृष्ण ने इस खबर की पुष्टि की है। आचार्य बालकृष्ण का कहना है कि पतंजलि किसी थर्ड पार्टी द्वारा इन-हाउस कपड़ों का निर्माण कराएगी।

 हिंदुस्तान यूनिलीवर, नेस्ले और कोलगेट आदि एफएमसीजी कंपनियों को भारतीय बाजार में बड़ा झटका देने के बाद अब पतंजलि लीवाइस और रेंगलर जैसे फैशन ब्रांड को भी टक्कर देने की तैयारी में है।

आचार्य बालकृष्ण के अनुसार, इस कारोबार की देखरेख के लिए नोएडा में एक टीम बनायी गई है।

पतंजलि की योजना बड़े-बड़े शहरों में अपने ब्रांड ‘परिधान’ के करीब 100 एक्सक्लूसिव स्टोर खोलने की योजना है। 

पतंजलि के संस्थापक बाबा रामदेव ने कुछ समय पहले बताया था कि कपड़ों के अपने ब्रांड के तहत उनकी कंपनी करीब 3000 प्रोडक्ट बाजार में उतारेगी, जिसमें बच्चों के पहनावे, योगा, खेल, टोपियां,जूते, तौलिए,चद्दरें आदि शामिल होंगे।

बाबा रामदेव ने बताया था कि सबसे खास उनकी स्वदेशी जींस होंगी, जिन्हें भारतीय मौसम के हिसाब से तैयार किया जाएगा।

आचार्य बालकृष्ण का इस स्वदेशी जींस को लेकर कहना है कि जींस एक पश्चिमी पहनावा है और हम या तो उसका बहिष्कार कर सकते हैं या फिर उसे अपना सकते हैं। लेकिन अपनाने के लिए उसे अपनी संस्कृति के हिसाब से तैयार करना पड़ेगा। चूंकि जींस लोगों के बीच काफी प्रसिद्ध हैं, इसलिए इन्हें भारतीय समाज से दूर नहीं किया जा सकता। स्वदेशी जींस असल में जींस का भारतीयकरण होगा, इसके स्टाइल, डिजाइन और फैब्रिक में भारतीयता झलकेगी। आचार्य बालकृष्ण के अनुसार, उनकी जींस महिलाओं के लिए थोड़ी ढीली होगी, ताकि वह भारतीय संस्कृति के हिसाब से आरामदायक लगे। आचार्य का मानना है कि उनकी स्वदेशी जींस लोगों को बेहद पसंद आएगी। उनके अनुसार, डेनिम जींस विदेश से आती हैं या फिर विदेशी कंपनियों द्वारा यहीं पर मैन्यूफैक्चर की जाती हैं। ये सभी पश्चिमी सभ्यता और डिजाइन्स पर आधारित होती हैं और भारतीय सभ्यता के हिसाब से यह उपयुक्त नहीं है। हमारी जींस भारतीय पहनावे के अनुरुप ही होगी।


पूर्वचेयरमेन बनवारीलाल पर यौनशोषण आरोप: हाईकोर्ट में तारीख 5-9-2018.





सूरतगढ़ 25-8-2018.

कांग्रेसी नेता पूर्व पालिकाध्यक्ष बनवारीलाल मेघवाल, ओम साबनिया व सिपाही रोहताश पर अनुसूचित जाति की महिला का यौन शोषण करने के आरोप के मामले में राजस्थान उच्च न्यायालय में आगामी तारीख 5 सितंबर 2018  की है। 

उच्च न्यायालय में पत्रावली कई बार तारीखों पर आई लेकिन उस पर सुनवाई नहीं हो पाई थी। अभी 23-8-2018 तारीख थी जिस पर अगले दिन की तारीख 24-8-2018 दी गई। इस दिन भी दोनों पक्षों के वकीलों की दलीलें नहीं हो पाई। इसके बाद अगली तारीख 5-9-2018 दी गई। 5 सितंबर को दोनों पक्षों के वकीलों की दलीलें सुनी जाएंगी। उसी दिन बनवारीलाल व रोहतास की रिट पर निर्णय दिया जा सकता है।

विदित रहे की इन तीनों पर रेप व देह शोषण का आरोप है। उक्त मुकदमा 10-10-2010 को अदालत के आदेश से सिटी पुलिस थाने में दर्ज हुआ था।

इस मामले में पुलिस ने दो बार अंतिम रिपोर्ट लगाकर सूरतगढ़ की अदालत में पेश की और दोनों बार चुनौती दी गई जिस पर अदालत ने दोनों बार प्रसंज्ञान लिया। बनवारीलाल ने श्रीगंगानगर अदालत में भी सूरतगढ़ की अदालत के प्रसंज्ञान लिए जाने को चुनौति देते हुए अपील की थी। 

सूरतगढ़ की अदालत द्वारा अभियुक्तों के वारंट जारी होने वाले थे कि बनवारीलाल ने राजस्थान उच्च न्यायालय में पुनर्विचार  482 के तहत रिट लगादी।  उसके बाद रोहताश ने भी अलग से उच्च न्यायालय में पुनर्विचार रिट लगादी।

पीडि़ता खुद दो तीन बार उच्च न्यायालय में तारीख पेशी पर मौजूद रही थी। इस बार भी पीड़िता 23 अगस्त को उच्च न्यायालय में पेश हुई थी।

============================













शुक्रवार, 24 अगस्त 2018

6 को एसडीएम आफिस ठप्प की घोषणा-कांग्रेस बसपा आप माकपा नेता:



सूरतगढ 24-8-2018.

माकपा नेता सखी मोहम्मद की गिरफ्तारी और पुलिस द्वारा पट्टा पिटाई  के मामले में नागरिक संघर्ष

समिति की प्रेस कॉन्फ्रेंस  24-8-2018 को हुई। 

पत्रकारों को बताया गया कि 39 दिन से धरना प्रदर्शन हो रहे हैं लेकिन शासन प्रशासन को परवाह नहीं है। विधायक व सांसद ने गौर नहीं किया है।

 प्रेस वार्ता में  पूर्व विधायक गाजल मील, बलराम वर्मा,मदन ओझा,लक्ष्मण शर्मा, अमित कल्याणा सत्य प्रकाश सियाग आदि ने घोषणा की कि अगला कदम सख्त करते हुए 6 सितंबर को सूरतगढ के एसडीएम कार्यालय का कामकाज ठप्प किया जाएगा जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी पुलिस की होगी।

प्रेसवार्ता में परसराम भाटिया,ओम सोमानी व नागरिक संघर्ष समिति के सचिव राजेंद्र मुद्गल भी मौजूद थे।







गुरुवार, 23 अगस्त 2018

दोनों जिला शिक्षा अधिकारी नहीं आए: स्कूल सलाहकार समिति बैठक में

*दोनों डीईओ के नही आने पर कलक्टर ने लिया गंभीरता से*

छात्रों के बोद्धिक स्तर में सुधार हमारा उद्देश्यः- जिला कलक्टर

श्रीगंगानगर, 23 अगस्त 2018.

 जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम ने कहा कि छात्रों के बोद्धिक स्तर में सुधार व नामांकन को बढ़ावा देने से ही छात्रों का मूल विकास माना जायेगा। 

जिला कलक्टर गुरूवार को कलेक्ट्रेट सभा हॉल में जिला स्तरीय स्कूल सलाहाकार समिति की बैठक में बोल रहे थे। बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक व प्रारम्भिक के उपस्थित नही होने पर उन्होंने असंतोष व्यक्त किया तथा चेताया कि भविष्य में इसकी पुनरावृति न हो। बैठक में बताया कि जिले में 1428 राजकीय प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विधालय संचालित है, जिनकी आधारभूत सरंचना विकसित की जा रही है। घडसाना में कस्तुरबा गांधी बालिका आवासीय विधालय में सरकार ने 50 छात्राओं की क्षमता को बढ़ाकर 100 कर दिया गया है। रायसिंहनगर, अनूपगढ़, घड़साना, विजयनगर क्षेत्रा की ऐसी 11 से 15 वर्ष आयु के मध्य की अनामांकित व ड्रापआउट छात्राएं प्रवेश ले सकती है। प्रवेश इसी माह के अंत तक

दिया जायेगा। 

जिला कलक्टर ने बताया कि इन विधालयों में 284 उत्कृष्ट विधालय चिन्हित किये गये है। 50 ऐसे विधालय है, जिनके पास खेल मैदान के लिये भूमि नही है। जिला कलक्टर ने निर्देश दिये कि शिक्षण संस्थाओं के आस-पास जो भी राजरकबा है, उन्हें चिन्हित कर आवंटन करने के प्रार्थना पत्रा एसडीएम को प्रस्तुत करें। 234 विधालयों में खेल मैदान है, जिनमें से 91 खेल मैदान अभी विकसित करने की आवश्यकता है। जिले में 384 शिक्षण संस्थाओं के पास, ऊपर से बिजली की एलटी व हाई वोल्टेज लाईने जा रही है, ऐसे विधालयों की सूची भी अधीक्षण अभियंता विधुत को देने के निर्देश दिये है। जिला कलक्टर ने बताया कि जिले में अब तक इस संस्थाओं में 69173 विधार्थियों का नामांकन हुआ है तथा शाला दर्शन कार्यक्रम संचालित है। 

बैठक में एडीपीसी श्री अनिल स्वामी, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी श्री राजेश अरोड़ा, रायसिंहनगर प्रधान श्री इन्दु सारस्वत, समिति के सदस्य श्री पतराम, श्री श्याम सुन्दर माहेश्वरी सहित शिक्षण संस्थाओं के पदाधिकारियों ने भाग लिया।


उत्तर पश्चिम रेलवे -केरल बाढ़ पीडितों की राहत हेतु योगदान


श्रीगंगानगर, 23 अगस्त। गम्भीर प्राकृतिक आपदा से जूझ रहे केरल प्रदेश में हजारों लोग बारिश और बाढ के कारण बेघर हो गये है, जिससे जानमाल को काफी क्षति हुई है तथा केरल वासियों को पशुधन तथा सम्पत्ति का नुकसान हुआ है। ऐसी कठिन परिस्थिति में केरल वासियों की आर्थिक सहायता करने के लिए उत्तर पश्चिम रेलवे भी इस संकट की घडी में केरल के लोगों की इस आपदा के समय हर संभव मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। केरल में अतिवृष्टि के कारण बाढ़ आ जाने से विपत्तिग्रस्त निवासियों को त्वरित सहायता की आवश्यकता है। भारतीय रेल राज्य सरकार की एजेन्सियों, सार्वजनिक क्षेत्रा उपक्रम तथा अन्य सरकारी एजेन्सियों के माध्यम से केरल के लिए निःशुल्क राहत सामग्री का परिवहन कर रही है। 

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री तरूण जैन ने बताया कि केरल के निवासियों की मदद के लिए उत्तर पश्चिम रेलवे के कर्मचारी व अधिकारी प्रधानमंत्रा राष्ट्रीय राहत कोष में अपनी एक दिन का वेतन प्रदान कर बाढ पीडितों की मदद में योगदान प्रदान करेगे। इसके अतिरिक्त उल्लेखनीय है कि उत्तर पश्चिम रेलवे पर केरल में स्थित किसी भी स्टेशन को भेजे जाने वाले राहत सामग्री के परिवहन के लिए कोई भाड़ा नहीं लिया जा रहा है। यह सुविधा मालगाड़ी के साथ-साथ पार्सल वहन पर भी लागू है। सभी सरकारी संगठन तथा मण्डल रेल प्रबन्धक द्वारा अनुमोदित अन्य संगठन राहत सामग्री केरल के लिए निःशुल्क बुक कर सकते है। 

उन्होने बताया कि 24 अगस्त 2018 को गाडी संख्या 12988 अजमेर-एर्नाकूलम मरूसागर एक्सप्रेस में केरल बाढ पीडितों की मदद के लिये 8 टन राहत सामग्री का परिवहन रेलवे द्वारा किया जा रहा है। इसमें माई एफएम तथा विभिन्न एनजीओ द्वारा इस रेलसेवा से राहत सामग्री भेजी जा रही है।  

जोहड़ पायतन व जल बहाव क्षेत्र से अतिक्रमण हटे-कलेक्टर ज्ञानाराम


श्रीगंगानगर, 23 अगस्त 2018.

जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम ने कहा कि जोहड़ पायतन की भूमि तथा जल बहाव क्षेत्रा में किसी प्रकार के अतिक्रमण हो, उन्हें हटाये जाये। 

जिला कलक्टर गुरूवार  23-8-2018 को कलेक्ट्रेट सभा हॉल में जल बहाव अतिक्रमण से संबंधित बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि राजस्थान राजस्व मंडल अजमेर में जोहड़ पायतन के अतिक्रमण से संबंधित 342 प्रकरण विचारणीय है, जिनमें से 10 का निर्णय हुआ है। उन निर्णयों की प्रतियां मंगवाकर संदर्भित निर्णय के रूप में काम में लिये जाये। घग्घर नाली बैल्ट में किये गये अतिक्रमण के संबंध में 49 अतिक्रमणियों के विरूद्ध पुलिस में प्राथमिकी दर्ज की गई है। घग्घर बैल्ट के डिपरेशन संख्या 1 से 18 में 5 से 18 तक क्षेत्र श्रीगंगानगर जिले में आता है। इस बहाव क्षेत्र में जिन किसानों ने अतिक्रमण कर फसल बुवाई की है, उनके विरूद्ध एलआर एक्ट की धारा 91 में कार्यवाही के लिये संबंधित तहसीलदार को विभाग प्रकरण प्रस्तुत करेगा। जल बहाव क्षेत्र में किसी तरह की रूकावट नही होनी चाहिए। श्रीगंगानगर जिले में किसी तरह का डेम नही होने के कारण इस बिन्दु पर कोई चर्चा नही हुई। 

बैठक में एसडीएम श्री सौरभ स्वामी, सूरतगढ़ एसडीएम श्रीमती सीता शर्मा, जल संसाधन विभाग के अधीक्षण अभियंता श्री प्रदीप रूस्तगी, पीडब्ल्यूडी के अधीक्षण अभियंता श्री वी.एल.धनकड़, अधीशाषी अभियंता श्री विजय कुमार पुरोहित सहित अन्य अधिकारियों ने भाग लिया। 









पत्रकार कुलदीप नैयर का निधन:(95 वर्ष) आपातकाल विरोधी रहे।


नई दिल्ली 23-8-2018.

प्रख्यात पत्रकार, लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता कुलदीप नैयर का निधन 22 -8-2018 बुधवार देर रात हो गया. उनकी उम्र 95 साल थी और वह पिछले तीन दिनों से राजधानी नई दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती थे.


काफी समय से उनकी सेहत नासाज़ थी. आज यानी 23 अगस्त की दोपहर तकरीबन एक बजे लोधी रोड पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.


कुलदीप नैयर उन लोगों में से एक थे, जिन्होंने आपातकाल का खुलकर विरोध किया और आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था अधिनियम (मीसा) के तहत जेल भी गए.


‘बियॉन्ड द लाइंस’, ‘इंडिया आफ्टर नेहरू’, ‘डिस्टेंट नेबर्स: अ टेल आॅफ द सबकॉन्टिनेंट’, ‘वॉल ऐट वाघा – इंडिया पाकिस्तान रिलेशंस’, ‘सप्रेशन आॅफ जजेस’, ‘द जजमेंट: इन्साइड स्टोरी आॅफ इमरजेंसी इन इंडिया’, ‘विदाउट फीयर: द लाइफ एंड ट्रायल आॅफ भगत सिंह’ और ‘इमरजेंसी रिटोल्ड’ समेत तकरीबन 15 किताबें लिखने वाले कुलदीप नैयर ने इंडियन एक्सप्रेस अख़बार का संपादक रहने के साथ ही 1990 में ब्रिटेन स्थित भारतीय उच्चायोग में बतौर उच्चायुक्त अपनी सेवाएं भी दी थीं.


14 अगस्त 1923 को सियालकोट (अब पाकिस्तान) में जन्मे कुलदीप नैयर ने अपनी पत्रकारिता की शुरुआत उर्दू अख़बार ‘अंजाम’ से की थी. वह अंग्रेज़ी अख़बार ‘द स्टेट्समैन’ के दिल्ली संस्करण के संपादक रहे. इसी दौरान आपातकाल का विरोध करने की वजह से उन्हें जेल भी जाना पड़ा.


पत्रकार और लेखक होने के साथ-साथ वह सामाजिक कार्यकर्ता भी रहे हैं. वर्ष 1996 में संयुक्त राष्ट्र गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का भी वह हिस्सा थे. 1997 में उन्हें राज्यसभा का सदस्य नामांकित किया गया.


अमृतसर में भारत-पाकिस्तान (अटारी बाघा) सीमा पर साल 2000 से 14 और 15 अगस्त को शांति बनाए रखने के उद्देश्य से वह मोमबत्तियां जलाया करते थे. यह सिलसिला एक दशक से ज़्यादा समय तक चला.


इसके अलावा भारतीय जेलों में बंद पाकिस्तानी क़ैदी और पाकिस्तान की जेलों में बंद भारतीय क़ैदी, जिनकी सज़ा पूरी होने के बाद भी उन्हें रिहा नहीं किया गया था, उनके लिए भी वह मुहिम चलाते थे.


वर्ष 1985 से कुलदीप नैयर तकरीबन 80 पत्र-पत्रिकाओं में 14 भाषाओं में कॉलम लिख चुके थे. इनमें बेंगलुरु का ‘डेक्कन हेरल्ड’, ‘द डेली स्टार’, ‘द संडे गार्जियन’, ‘द न्यूज़’, ‘द स्टेट्समैन’, ‘प्रभा साक्षी’ और पाकिस्तान के अख़बार ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ और ‘डॉन प्रमुख’ हैं.


पाकिस्तान के लाहौर स्थित फोरमैन क्रिश्चियन कॉलेज से उन्होंने बीए आॅनर्स किया और लाहौर में ही लॉ कॉलेज से एएलबी की डिग्री हासिल की. वह सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव नायर के पिता थे.


इसके अलावा 1953 में कुलदीप नैयर ने एक स्कॉलरशिप मिलने के बाद अमेरिका की नॉर्थ वेस्टर्न यूनिवर्सिटी के मेडिल स्कूल आॅफ जर्नलिज़्म से पत्रकारिता की पढ़ाई की थी.


साल 2015 में पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए उन्हें रामनाथ गोयनका पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इसके अलावा उनके नाम से कुलदीप नैयर पत्रकारिता सम्मान भी मीडिया में काम करने वाले लोगों को दिया जाता है.


बुधवार, 22 अगस्त 2018

अनूपगढ से सूरतगढ़ होते भटिंडा तक रेल चलाने की संभावना प्रबल



श्रीगंगानगर, 22 अगस्त। अनूपगढ़ से पंजाब के बठिंडा के लिए सूरतगढ़, हनुमानगढ़ के रास्ते नयी ट्रेन चलाने की दिशा में प्रयास किए गए हैं। 

    जेडआरयूसीसी के पूर्व सदस्य श्री भीम शर्मा ने बताया कि इस संबंध में पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री सांसद श्री निहालचंद ने मंगलवार को जयपुर में उत्तर पश्चिम रेलवे के उच्चाधिकारियों के साथ बैठक की। उत्तर पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री टी. पी. सिंह ने सांसद श्री निहालचंद को आश्वस्त किया कि इस संबंध में जल्दी ही ट्रेन चलाने की कार्रवाई की जाएगी । उन्होंने बताया कि इस संबंध में बीकानेर रेल मंडल की ओर से काफी समय पूर्व प्रस्ताव बनाकर भेजा जा चुका है, लेकिन अनूपगढ़ जैसी सीमावर्ती मंडी को पर्याप्त रेल सुविधाएं अभी तक उपलब्ध नहीं हुई है। सांसद ने श्रीगंगानगर-नांदेड साप्ताहिक गाड़ी का ठहराव केसरीसिंहपुर, गजसिंहपुर व जैतसर में ठहराव करने हनुमानगढ़ के रास्ते नांदेड़ के लिये ट्रैन शुरू करने सहित अन्य समस्याओं पर चर्चा की।

-----------



श्रीगंगानगर सीट कांग्रेस में चल रहा तूफान:अरोड़ा को टिकट से टालना बहुत मुश्किल:



- पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिये संकेत, जयपुर में पूर्व सीएम से मिले अरोड़ा समाज के कश्मीरीलाल जसूजा ओर शिवदयाल गुप्ता-

श्रीगंगानगर 22-8-2018.

श्रीगंगानगर शहर से  जयपुर तक श्रीगंगानगर विधानसभा सीट खासी चर्चा बनी हुई हैं। अरोड़ा,वणिक,जाट व ब्राह्मण समुदाय के नाम टिकटार्थियों में हैं और हर रोज नया नाम हलचल मचा देता है।

श्रीगंगानगर में मुख्य जातिगत समीकरण के तहत अरोड़ा समाज के उम्मीदवार को ही टिकट देने की बात तय मानी जा रही हैं। पहले पूर्व केन्द्रीय मंत्री ओर कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की अध्यक्ष शैलजा ने भी अपने एक बयान में यह बात कहीं थी, तो वहीं आज जयपुर में पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी इसके संकेत दिये हैं। अगर सबकुछ ठीक रहा तो श्रीगंगानगर से अरोड़ा समाज के चहेते ओर वरिष्ठ पदाधिकारी कश्मीरीलाल जसूजा को उम्मीदवार बनाया जा सकता हैं। फिलहाल पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

ने टिकट के लिये प्रयासरत्त कांग्रेसियों को फिल्ड में जाकर कार्य करने को कहा हैं। वहीं बुधवार को जयपुर से पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आये बुलावे पर जयपुर पहुंचे जिला कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष कश्मीरीलाल जसूजा ओर ब्लाक कांग्रेस कमेटी (देहात) के अध्यक्ष शिवदयाल गुप्ता ने पूर्व मुख्यमंत्री सहित अन्य प्रदेश नेताओं से बातचीत की। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत ने श्रीगंगानगर जिले का फीडबैक लिया ओर अरोड़ा समाज की मंशा पर यह बोलते हुए मुहर भी लगा दी कि आना वाला समय आपका भी हो सकता हैं, क्योंकि जिसके पास ज्यादा जनाधार होगा, टिकट वहीं ले जायेगा। जिला कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष कश्मीरीलाल जसूजा ने मुलाकात के दौरान पूर्व सीएम गहलोत को बताया कि श्रीगंगानगर में सबसे ज्यादा जनाधार अरोड़ा बिरादरी का हैं ओर वे काफी समय से टिकट के लिये प्रयासरत्त हैं एवं उनकी समाज में भी पैठ बहुत अच्छी हैं ओर तो ओर पिछली बार टिकट नहीं मिलने के बाद भी उन्होंने कांग्रेस का दामन नहीं छोड़ा था, हालांकि कई लोग पार्टी छोड़कर निर्दलीय चुनाव में खड़े हो गये थे, लेकिन उन्होंने आजतक कभी ऐसा नहीं किया। हमेशा कांग्रेस का सच्चा सिपाही बनकर कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार को जिताने में जी-जान लगा दिया था। वहीं अब फिर विधानसभा चुनाव होने वाले हैं इसलिये श्रीगंगानगर विधानसभा सीट से अरोड़ा समाज को टिकट दी जायें, यहीं समाज की मांग हैं।  मुलाकात के दौरान कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष कश्मीरीलाल जसूजा से पूर्व सीएम गहलोत ने चुनावी तैयारियों के बारे में समीक्षा की तो जसूजा ने गहलोत को आश्वसत किया इस बार श्रीगंगानगर जिले के सभी विधानसभा सीटें कांग्रेस के ही झोली में आयेगी, जिसके लिये कांग्रेस कमेटी के सभी पदाधिकारी ओर सदस्य एकजुटता के साथ कार्य कर रहे हैं, आने वाला समय कांग्रेस का ही होगा। 


गुरूद्वारा बाबा दीप सिंह में 23 को उमड़ेगी सिख संगत





*हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर जिलों के सिख प्रतिनिधियों-सेवादारों की होगी अहम बैठक*

श्रीगंगानगर, 22 अगस्त। श्री गुरूग्रंथ साहिब जी महाराज के 312वें सम्पूर्णता दिवस के उपलक्ष्य में वीरवार 23 अगस्त को प्रात: 11 बजे पदमपुर रोड स्थित गुरूद्वारा बाबा दीप सिंह जी शहीद मेें श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ की समूह सिख संगत की एक सामूहिक बैठक का आयोजन किया जाएगा। बैठक में सभी गुरूद्वारों के ग्रंथी, रागी, प्रचारक, कथावाचक, सेवादार, कविश्री भाग लेंगे। जत्थेदार तख्त श्री दमदमा साहिब ज्ञानी हरप्रीत सिंह खालसा के सान्निध्य में होने वाली इस बैठक में दोनों जिलों की संगत भी भाग लेगी। 

गुरूद्वारा बाबा दीप सिंह के मुख्य सेवादार तेजेन्द्रपाल सिंह टिम्मा ने बताया कि दोनों जिलों की सामूहिक बैठक बुलाने का उद्देश्य समाज से जुड़े मुद्दे हैं। इन मुद्दों पर चिंतन करने और उन पर ठोस निर्णय के लिए यह सामूहिक बैठक बुलाई गई है। टिम्मा ने बताया कि बीते कुछ समय से कुछ ऐसी अप्रिय घटनाएं हुई, जिससे सिख समाज की भावनाओं को ठेस पहुंची। कभी नकल रोकने के नाम पर परीक्षार्थियों से कड़े, कृपाण उतरवाना, तो कभी नस्लीय टिप्पणी। बैठक में इस तरह की अशोभनीय हरकतों को रोकने के लिए एक ठोस रणनीति बनाई जाएगी। टिम्मा ने याद दिलाया कि गत दिनों परीक्षा में जब बेटियों से मंगलसूत्र, कृपाण, कड़ा उतरवाया गया, तो सिखों ने एकता का परिचय देते हुए इसका कड़ा विरोध किया। इसके बाद जयपुर में जाकर जनप्रतिनिधियों-अधिकारियों से मुलाकात की। तब जाकर सरकार बैकफुट पर आई। इसी तरह की एकता भविष्य में भी बनी रहे, इसके लिए सभी दोनों जिलों के सभी गुरूद्वारों को सूचना दे दी गई है। टिम्मा ने बताया कि गुरूद्वारों के प्रबंधन व विभिन्न सामाज भलाई के कार्यों में ग्रंथी, रागी, प्रचारक, कथावाचकों का अहम योगदान रहता है। गुरूद्वारा के प्रबंधन के दौरान उन्हें विभिन्न तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। बैठक में उक्त समस्याओं का भी समाधान किया जाएगा।  इसके अलावा  सामाजिक कुरीतियों को दूर करने, समाज भलाई के कार्यों को बढ़ावा देने सहित विभिन्न मुद्दों पर भी विचार-विमर्श करके रणनीति बनाई जाएगी। टिम्मा ने बताया कि दोनों जिलों से इस बैठक में हजारों की संख्या में सिख प्रतिनिधि, सेवादार आदि भाग लेंगे। इसके लिए सभी गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटियों को भी सूचना दे दी गई है। 

(तेजेन्द्रपाल सिंह टिम्मा,

मुख्य सेवादार,

94140-89123,

श्रीगंगानगर)




सूरतगढ-पंकज शर्मा पुराने मोटर मार्केट यूनियन के प्रधान निर्वाचित

सूरतगढ़ 21 अगस्त 2018.

पुराने बस स्टैंड के पास स्थित मोटर मार्केट के पंकज शर्मा एक बार फिर सर्वसम्मति से प्रधान चुने गए।

 पुराना मोटर मार्केट यूनियन के सदस्यों की एक बैठक 21 अगस्त को आहूत की गई। बैठक में इंद्रजीत सिंह सोढ़ी, सुंदरलाल जैन, पोपी मोयल, राजू सोनी, परमजीत सिंह कलसी, मनोज अंगी, दीपक बजाज, कृष्णलाल आहूजा, रामस्वरूप वर्मा, हनुमान वर्मा, सतीश, राजीव, संजय चोपड़ा, राजिंदर सिंह, संजय कांडा, रेंवतराम सोनी, गुरुचरण सिंह, राजा सग्गू, कुलदीप, अवतार शर्मा व गोपाल आदि शामिल हुए।

बैठक में सभी की सर्वसम्मति से पंकज शर्मा को यूनियन का प्रधान चुना गया ।

पंकज शर्मा पुराना मोटर मार्केट यूनियन के दूसरी बार प्रधान चुने गए हैं । इससे पूर्व वे 2010 में भी प्रधान के पद का निर्वहन बखूबी कर चुके हैं ।













मंगलवार, 21 अगस्त 2018

अशोक चांडक का कांग्रेस में प्रवेश:श्रीगंगानगर में कांग्रेस का वजन बढा:




कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट की अध्यक्षता में जयपुर में   दिनांक 21-8 2018 को हुए एक कार्यक्रम मेंअशोक चांडक श्रीगंगानगर का कांग्रेस पार्टी में प्रवेश हुआ।

अशोक चांडक गंगानगर के नामी उद्योगपति हैं I वे नगर परिषद के चेयरमैन अजय चांडक के बड़े भाई है I चांडक परिवार का श्री गंगानगर की राजनीति में दबदबा रहा है I 

नगर परिषद चेयरमैन अजय चांडक भाजपा की टिकट पर पार्षद बने थे और भाजपा के समर्थन से ही वे नगर परिषद के चेयरमैन चुने गए थे I मगर बाद में अजय चांडक को भाजपा ने पार्टी से निष्काषित कर दिया था I चांडक परिवार और भाजपा के संबंधों में खटास चल रही है I विधानसभा सभा चुनाव 2018 के कुछ समय पहले अजय चांडक के कांग्रेस में जाने से श्रीगंगानगर की राजनीति  के पक्ष और विपक्ष में खलबली मच गई है I आगामी चुनाव में यह प्रवेश असरदार होगा।

 विधानसभा चुनाव में अशोक चांडक के कारण कांग्रेस पार्टी को बड़ा लाभ मिलना तय है I

संभावनाएं यह भी जताई जा रही है कि चांडक परिवार कांग्रेस की टिकट पर चुनाव मैदान में उतर सकता है I

चांडक का बयान आया है कि वे बिना शर्त के कांग्रेस में आए हैं।मगर राजनीति में ऐसे बयान कोई सच्चाई व्यक्त नहीं करते।



                         

           


सोमवार, 20 अगस्त 2018

सूरतगढ:एडवोकेट दीपक मोदी का अंतिम संस्कार सम्पन्न: दुर्घटना में आकस्मिक मृत्यु

सूरतगढ़ 20-8-2018.एडवोकेट दीपक मोदी का आज सुबह 11 बजे अरोड़वंश आदर्श कल्याण भूमि में अंतिम संस्कार किया गया।पुत्र ने मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार मेंं परिजन,मित्र,वकील,राजनीतिक कार्यकर्ता,पत्रकार,व्यापारी आदि शामिल हुए। विधायक राजेंद्र भादू,पूर्व विधायक गंगाजल मील,कांग्रेस नेता विमलकुमार पटावरी  (जैन),बलराम वर्मा आदि अंतिम संस्कार पर उपस्थित थे।

कल दि. 19-8-2018 शाम को करीब 4:30 बजे सड़क दुर्घटना डिग्री कॉलेज के सामने निरंकारी भवन के पास में राष्ट्रीय उच्च मार्ग नंबर 62 पर हुई जिसमें दीपक मोदी का निधन हो गया।दीपक मोदी मोटरसाइकिल पर सवार मानकसर की तरफ से आ रहे थे। वे अपनी बाईं साईड पर  सही चल रहे थे।

ट्रक सामने से आया और पूरी तरह अपनी साईड छोड़ गलत होता हुआ दूसरी ओर सड़क से नीचे जाकर दीपक मोदी की मोटरसाइकिल को टकर मारी। ट्रक ने बाइक को कुचल दिया। बाइक। बाइक और दीपक ट्रक के नीचे दब गए। दीपक मोदी( 62 वर्ष) की घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गयी। मोदी का निवास श्रीगौशाला के पास है।

 दीपक मोदी भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता श्याम कुमार मोदी, राजकुमार मोदी,नारी उत्थान केंद्र की अध्यक्ष श्रीमती राजेश सिडाना, वस्त्र व्यापारी सुशील मोदी के छोटे भाई थे।

सुशील मोदी की ओर से ट्रक चालक के विरुद्ध मुकदमा करवाया गया है। ट्रक चालक एक्सीडेंट के बाद मौके से भाग गया।

शनिवार, 18 अगस्त 2018

श्रीगंगानगर जिले में भाजपा के सर्वाधिक पॉपुलर 3 नेता




* करणीदानसिंह राजपूत *

सत्ताधारी भाजपा के राजनेताओं में 3 नामों को प्रमुखता से स्थान दिया जा सकता है।ये नाम हैं सांसद के रूप में निहालचंद मेघवाल राज्य मंत्री के रूप के रूप में सुरेंद्र पाल सिंह टीटी और विधायक के रुप में राजेंद्र सिंह भादू। 

इन सभी की कार्यप्रणाली की कार्यप्रणाली भारतीय जनता पार्टी की योजनाओं को विकास रूप में पूर्ण करने व कार्यों को अधिक से अधिक प्रचारित करने की रही है और अधिक से अधिक फंड लगाने की रही है।

 विदित रहे कि श्रीगंगानगर अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट से सांसद बने निहालचंद मेघवाल ने लगातार कोशिश करके श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिलों में रेलगाड़ियों की बढ़ोतरी करके आम जनता को बहुत बड़ी सुविधा प्रदान की है, लंबी दूरी की गाड़ियां जो बीकानेर में रुक जाती थी उनको गंगानगर तक विस्तार दिया विस्तार दिया है। इनके कार्यकाल में कुछ ही महीनों में रेलगाड़ियों का विस्तार हुआ है जो अपने आप में में एक रिकॉर्ड माना जाना चाहिए। श्री गंगानगर जिले के विभिन्न संगठन जिले के विभिन्न संगठन दूर की गाड़ियों को गंगानगर तक विस्तार देने की मांग करते रहे हैं उनकी मांग को निहालचंद ने ने बहुत खूबी के साथ आगे बढ़ाया और यह साबित किया कि कि उनकी सरकार जनहित में आगे है।


राजस्थान के सीमा क्षेत्र में श्री करणपुर से से विधायक और वर्तमान में राज्य मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी भी अपने कार्यकाल में राजस्थान सरकार की उपलब्धियों को पब्लिक के सामने लाने और लाभान्वित करने में करने में लाभान्वित करने में करने में बहुत आगे रहे। सुरेंद्र पाल सिंह टीटी एक ऐसे मंत्री हैं जिन्हें राजस्थान सरकार की हर योजना योजना योजना की जानकारी कंठस्थ है।

वे योजनाओं के बारे में विस्तार से समझाते हुए लगातार दो-तीन घंटे तक वक्तव्य दे सकते हैं। वक्तव्य देना एक कला हो सकती है है है हो सकती है है है कला हो सकती है है है लेकिन योजनाओं को विकास के रूप में स्था

पित करने में अग्रणीय रहे हैं। इसी कारण वे मुख्य मंत्री वसुंधरा राजे के नजदीकी मंत्रियों में माने जाते हैं।

राजनीतिक क्षेत्र में काम करने के कारण उनके आलोचक भी काफी हो सकते हैं मगर विकास कार्यों को गति देने वाला कभी भी पीछे नहीं रह सकता।

सूरतगढ़ क्षेत्र से निर्वाचित होकर पहली बार विधान सभा में पहुंचे में पहुंचे राजेंद्र सिंह भादू ने अपने विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्यों की झड़ी झड़ी लगा दी। 

सरकारी बैठकों  और विधानसभा क्षेत्र की बैठकों में में भादू की सर्वाधिक उपस्थिति है ।

अनेक कार्य जो पिछली सरकारों में नहीं हो पाए थे वे राजेंद्र सिंह भादू ने पूरे करवाए हैं। भादू की योग्यता है कि राजस्थान सरकार ने जो बजट उपलब्ध करवाया उससे भी अधिक बजट लाने की कोशिश सदैव की है।

 यही कारण है कि राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने श्रीगंगानगर दौरे में गंगानगर मुख्यालय पर 28 मार्च को आयोजित अनेक विकास कार्यों का लोकार्पण किया था तब मंच पर राजेंद्र सिंह भादू की प्रशंसा की और कहा कि वह अधिक से अधिक बजट लाते अधिक बजट लाते रहेहैं। श्रीगंगानगर जिले के ये तीन नेता भाजपा की योजनाओं को गति देने में लोकप्रिय हैं।

 

 



यह ब्लॉग खोजें