शनिवार, 21 जुलाई 2018

भारतीय स्टेट बैंक सूरतगढ:खाता खुलवाने में बैंक मित्रों को परेशानी



सूरतगढ़। एसबीआई पुराना बस स्टैंड बैंक के पास की शाखा में बैंक मित्रों के माध्यम से नए खाते खोलने का रिकॉर्ड महीनों तक पड़ा रहता है और संबंधित बैंक अधिकारी उस पर नजर तक नहीं डालते।इससे बैंक मित्र तो परेशान होते ही हैं खाता खुलाने वाले लोग ही परेशान होते हैं सरकार की योजना है अधिक से अधिक लोगों को बैंक से से जोड़ा जाए जाए लेकिन सूरतगढ़ में बैंक मित्रों के माध्यम से बैंक मित्रों के माध्यम से नया खाता खुलाने वालों को परेशानी का शिकार होना पड़ता है खाता रिकॉर्ड के बाद तत्काल खोलदिया जाना चाहिए लेकिन डेढ़ 2 महीने तक उस पर गौर नहीं किया जाता यदि फार्म भरने में कोई चूक रही हो तो बैंक मित्र को बताने पर ही यह दूर की जा सकती है। बैंक में किस कमी से खाता नहीं खोला जा रहा या महीनों तक का समय लगाया जा रहा है इस बाबत बैंक कोई उत्तर बैंक मित्रों को नहीं देता।  बैंक मित्र शिकायत करने से से दूर रहना चाहते हैं कि अगर शिकायत की गई तो अधिकारी और ज्यादा जानबूझकर परेशान करेंगे सूरतगढ़ के इस बैंक के  करीब छह बैंक मित्र शहर में और अन्य गांव में है।

 उच्च स्तरीय बैंक जहाँ शिकायत की जाती है वह हनुमानगढ़ में है। प्रधानमंत्री अभियान को अधिक से अधिक सफल बनाना चाहते चाहते हैं लेकिन बैंक खुद ही बाधा बने हुए हैं।

बैंक में भीड़ से बचने के लिए वृद्ध स्त्री पुरूष और छात्रवृति के इच्छुक विद्यार्थी बैंक मित्र के पास जाते हैं। लेकिन बैंक में तो अधिकारी को ही यह कार्य निपटाना होता है।

बैंक मित्र शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भी है। उच्च शाखा को जांच करनी चाहिए कि बैंक मित्रों के यहां से प्रस्तुत रिकॉर्ड  कितने दिन से रुके पड़े हैं और इसके लिए काम रोकने वाले को दोषारोपित कर एक्शन लिया जाना चाहिए। संबंधित बैंक के शाखा प्रबंधक से भी जवाब तलबी होनी चाहिए कि ऐसी अनदेखी और लापरवाही क्यों हो रही है।

बैंक मित्र परेशानी से हतोत्साहित हो रहे हैं। बैंक मित्र विभिन्न प्रकार के कार्य निपटाते हैं और यह योजना सरकारी योजना है।

अभी कुछ दिन पूर्व आपातकाल लोकतंत्र रक्षक गुरनाम सिंह कम्बो सिख को शाखा में खाता खोलने से मना कर दिया गया। कहा गया कि अंगुलियों की रेखाएं नहीं आ रही है,जबकि इस हालत में भी खाता खोला जाता है।



****************************







                                                           


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें