रविवार, 3 जून 2018

सूरतगढ में प्राइवेट डाक्टर और प्राइवेट हास्पिटल की रात्रि चिकित्सा बंद


- करणीदानसिंह राजपूत -

 शहर के कई प्रसिद्ध प्राइवेट डॉक्टरों और प्राइवेट हॉस्पिटल ने रात्रि कालीन चिकित्सा सेवाएं और देखरेख बंद कर दी है। 

प्राइवेट चिकित्सक से आपके कितने भी अच्छे संबंध हैं,पुराने परामर्श और चिकित्सा लेने वाले हैं तब भी रात्रि  की सेवा नहीं मिल पाएगी। चाहे कितनी भी आवश्यकता आपको हो। चाहे गंभीर हालत हो।

यदि आप किसी प्राइवेट चिकित्सक और प्राइवेट हॉस्पिटल में खुद की और परिवार की चिकित्सा सालों से ले रहे हैं, तब अच्छा होगा कि आप इस संबंध में बीमार होने से पहले ही डॉक्टर और हॉस्पिटल से इसकी जानकारी प्राप्त करके रखें। क्योंकि आप अचानक रात्रि में जाएं और वहां चिकित्सा नहीं मिल पाएगी तब क्या होगा?

चिकित्सकों को लगता है कि मामूली मामूली रोग पर भी लोग रात को परेशान करते हैं इसलिए यह रात्रि सेवाएं सेवाएं बंद कर दी है। कुछ डाक्टर तो पहले भी रात को सेवाएं नहीं देते थे।

अब पुराना जानकर रोगी हो तब भी उसे अगले दिन ही देखा जाएगा। यह तरीका काफी समय से चल चुका है लेकिन लोगों को मालूम नहीं है। ऐसी स्थिति में क्या किया जाए जब रात को कोई रोग अचानक प्रगट हो जाए?

 एक प्रसिद्ध प्राइवेट डॉक्टर की राय थी  कि रोगी सरकारी हॉस्पिटल में जाए या फिर एपेक्स मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल में जाए।

मेरा सवाल था कि क्या एपेक्स में रात में  सुविधा मिलेगी? तब यह कहा गया कि एपेक्स में व्यवस्था हो जाती है।

सूरतगढ़ के कुछ प्राइवेट चिकित्सकों ने अपने निजि हॉस्पिटल बंद कर दिए और और एपेक्स का संचालन शुरू कर दिया था।  इसके बाद जो प्राइवेट डॉक्टर और हॉस्पिटल बचे उनमें से अनेक ने रात को चिकित्सा सेवा देने बंद कर दी।

 इसलिए बहुत जरूरी है कि पहले ही सभी प्रकार की जानकारी कर ली जाए।  अनेक रोग ऐसे होते हैं जिनमें चिकित्सा की तत्काल आवश्यकता होती है। रोगी के परिवारजन गंभीर हालत में प्राइवेट चिकित्सालय पहुंचे और वहां जाकर मालूम हो कि डॉक्टर रात को उपलब्ध नहीं होगा तो रोगी के प्राण पर संकट आ सकते है।

ऐसी स्थिति में पूर्व में जानकारी प्राप्त कर लें तो तो उचित होगा। यह जानकारी गाँव वालों को भी रखनी चाहिए।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें