बुधवार, 9 मई 2018

वृद्धावस्था पेंशन के फॉर्म पेंडिंग रखने पर नायब तहसीलदार को 17 सीसी का नोटिस


मुख्यमंत्री जनसंवाद कार्यक्रम के अंतर्गत शिक्षा विभाग के धीमे डिस्पोजल पर कलक्टर ने जताई नाराजगी


राजस्व शिविरों का जिला स्तरीय अधिकारी समय समय पर करें विजीट - कलक्टर


श्रीगंगानगर, 9 मई। राजस्व लोक अदालत अभियान-न्याय आपके द्वार के अंतर्गत जीवनदेसर ग्राम पंचायत में आयोजित राजस्व शिविर में वृद्धावस्था पेंशन के फॉर्म पेंडिंग रखने पर जिला कलक्टर ने पदमपुर के नायब तहसीलदार को 17 सीसी का नोटिस देने के निर्देश दिए। जिला कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को बिजली, पानी, मौसमी बिमारियों इत्यादि को लेकर आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम ने ये निर्दश दिए। बैठक में जिला कलक्टर ने बिजली, पानी, मौसमी बिमारियों के अलावा जिले में चल रहे न्याय आपके द्वार अभियान, मुख्यमंत्री टजनसंवाद कार्यक्रम में आई परिवेदनाओं के निस्तारण, फ्लैगशिप योजनाओं की समीक्षा की। न्याय आपके द्वार अभियान की समीक्षा करते हुए जिला कलक्टर ने कहा कि सभी जिला स्तरीय अधिकारी ये सुनिश्चित कर लें कि वो खुद इन शिविरों का समय समय पर विजीट करें।  4 मई को पदमपुर की ग्राम पंचायत जीवनदेसर में आयोजित शिविर की समीक्षा करते हुए जिला कलक्टर ने शिविर में वृद्धावस्था पेंशन के फॉर्म पेंडिंग रखने पर पदमपुर के नायब तहसीलदार को 17 सीसी का नोटिस देते हुए कहा कि जब शिविर में एसडीएम, बीडीओ, समेत सभी अधिकारी वहां मौजूद है फिर पेंशन स्वीकृत क्यों नहीं की गई। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधिकारी को कहा कि पेंशन से संबंधित जो भी प्रकरण पेंडिंग है वो किस अधिकारी की वजह से पेंडिंग है इसकी जानकारी वो तत्काल दें ताकि संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जा सके। जिला कलक्टर ने सख्त लहजे में कहा कि जो कार्य शिविर में किए जाने हैं वो शिविर में ही होने चाहिए। उनकी पेंडेंसी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। पालनहार योजना, पेंशन इत्यादि की सेंक्शन शिविर में ही जारी करें। 


                            जिला कलक्टर ने बैठक में नाराजगी जताते हुए कहा कि न्याय आपके द्वार अभियान शिविरों की उन्होने पिछले दिनों विजीट की तो पाया कि विभागों के अधिकारी वहां बैठे रहते हैं उनसे जब परिवेदनाओं का पूछा जाता है तो सीधा सा जवाब दे देते हैं कोई परिवेदना ही नहीं आई। ये स्थिति ठीक नहीं है। जिला कलक्टर ने कहा कि जहां शिविर लगता है वहां सभी विभाग सर्वे करें कि किन किन लोगों को लाभान्वित किया जा सकता है ये कार्य चाहे तो संबंधित अधिकारी शिविर लगने से पहले करीब घंटा भर गांव का सर्वे कर आए या एडवांस टीम भेजकर सर्वे करवा लें ताकि शिविरों का पूरा लाभ गांव के लोगों को मिल सके। रेवन्यू विभाग से जब खाता विभाजन का पूछा जाता है तो कह देते हैं कोई आया ही नहीं। पटवारी खातेदारों से पहले संपर्क करेगा तभी तो वो आएंगे। संबंधित एसडीएम भी राजस्व शिविरों में पूरी लीडरशिप नहीं दे पा रहे हैं।


                     न्याय आपके द्वार शिविर को लेकर जिला कलक्टर ने बिजली विभाग के एसई से नाराजगी जताते हुए कहा कि शिविरों में आपके विभाग का कार्य ठीक नहीं है। वहां एक्सईएन लेवल का अधिकारी जेईएन लेवल के अधिकारी जैसा व्यवहार करता है जो जेईएन जवाब दे रहा है वहीं एक्सईएन जवाब दे रहा है फिर एक्सईएन को वहां लगाने की जरूरत ही कहां है। पंचायती राज विभाग को लेकर जिला कलक्टर ने सीईओ जिला परिषद को सभी बीडीओ को फ्लैगशिप योजनाओं का लाभ आमजन को देने के लिए निर्देशित किया। शिविर में पशुपालन विभाग की भी स्थिति ठीक नहीं होने का जिक्र करते हुए जिला कलक्टर ने कहा कि शिविरों में दवाई नहीं मिलने और स्टॉफ के नहीं आने की शिकायतें मिल रही है। पशुपालन के संयुक्त निदेशक द्वारा दवा पर्याप्त होने का जवाब देने पर जिला कलक्टर ने इन सब चीजों को व्यक्तिगत रूप से देखने के लिए निर्देशित किया।


                           इससे पहले बैठक में मुख्यमंत्री जनसंवाद कार्यक्रम के अंतर्गत आई परिवेदनाओं की विभागवार समीक्षा करते हुए जिला कलक्टर ने शिक्षा विभाग की पेंडेंसी ज्यादा होने पर नाराजगी जताते हुए सख्त लहजे में कहा कि आपके अधिकारी तो मीटिंग में ही नहीं आते , ऑपरेटरों को मीटिंग में भेज दिया जाता है। आप लोगों की गाड़ी ऑपरेटरों से चलती है ये स्थिति ठीक नहीं है। जिला कलक्टर ने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जो भी परिवेदना निस्तारित की जा चुकी है संबंधित व्यक्ति को इसके बारे में जानकारी मोबाइल फोन पर दो। अगर मोबाइल या  फोन नंबर नहीं है तो चिट्ठी लिखो। इसके अलावा बैठक में जिला कलक्टर ने फ्लैगशिप योजनाओं के अंतर्गत भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, राजश्री योजना, अन्नपूर्णा योजना, गौरव पथ, फसल बीमा योजना, शुभ शक्ति योजना इत्यादि की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ आमजन को देने के लिए कहा।  


                         बैठक में जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम के अलावा एडीएम श्री नखतदान बारहठ, सीईओ जिला परिषद श्री करतार सिंह पूनियां, एडीएम विजीलेंस श्री वीरेन्द्र वर्मा, नगर परिषद आयुक्त सुश्री सुनीता चौधरी, महिला एवं बाल विकास विभाग की उपनिदेशक सुश्री ऋषिबाला श्रीमाली, एडीपीएस श्रीमती रीना छींपा, महिला अधिकारिता के एडी श्री विजय कुमार, एडी श्री बीपी चंदेल ,एडी श्री गिर्राज मीणा, जिला श्रम अधिकारी श्री अमरचंद लोहारी,सीएडी के एसई श्री गोपाल कृष्ण, एसई आरयूआईडीपी श्री दिलीप गौड़, एसई बिजली डॉ. संजय वाजपेयी, एसीपी श्रीमती रूचि गोयल समेत अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे। 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें