शुक्रवार, 13 अप्रैल 2018

भाजपा प्रधान को अविश्वास से हटाने में भाजपा सदस्य भी साथ रहे

*अजमेर की पीसांगन पंचायत समिति में भाजपा की बुरी हार*

# भाजपा के सदस्यों ने ही पूर्व सांसद स्वर्गीय सांवरलाल जाट के समर्थक # प्रधान को हटाया।

=====

12-4-2018.

अजमेर के हाल ही के लोकसभा उपचुनाव में भाजपा की करारी हार के बाद अब 12 अप्रैल को जिले की पीसांगन पंचायत समिति में भी भाजपा की बुरी तरह हार हो गई। भाजपा के लिए शर्मनाक बात ये है कि पंचायत समिति के भाजपा सदस्यों ने ही अपनी पार्टी के प्रधान दिलीप पचार को हटवा दिया। कांग्रेस ने भाजपा के प्रधान के खिलाफ जो अविश्वास का प्रस्ताव रखा उस पर 12 अप्रैल को मत विभजन हुआ। 39 सदस्यों में से 33 ने अपने मताधिकार का उपयोग किया, इसमें से 32 मत अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में रहे यानि मात्र 1 सदस्य ने भाजपा के प्रधान का समर्थन किया, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी भाजपा की स्थिति कितनी खराब है। अपनी पार्टी के प्रधान को बचाने के लिए भाजपा देहात अध्यक्ष बीपी सारस्वत ने सत्ता की पूरी ताकत लगा दी, लेकिन नसीराबाद के कांग्रेस विधायक रामनारायण गुर्जर के सामने एक नहीं चली, इसे गुर्जर की राजनीतिक कुशलता ही कहा जाएगा कि भाजपा के सदस्यों ने भी अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिया। असल में दिलीप पचार भाजपा के सांसद स्व. सांवरलाल जाट की पसंद के थे। चुनाव में 39 सदस्यों में से 18 कांग्रेस और 18 ही भाजपा के जीते थे, 3 सदस्य निर्दलीय चुने गए, लेकिन सांसद जाट ने अपने प्रभाव से दिलीप पचार को प्रधान बनवा दिया। सांवरलाल जाट के निधन के बाद से ही पचार के खिलाफ आवाज उठने लगी थी, लेकिन उपचुनाव की वजह से मामला टलता रहा। अब पचार को हटवाने में ही भाजपा के सदस्यों ने सक्रिय भूमिका निभाई। 12 अप्रैल को भाजपा के सदस्य एडवोकेट अशोक सिंह रावत भंवर सिंह खोरी, अंजलि पराशर, शकुंतला ठाडा और संगीत रावत तो वोट डालने ही नहीं गए। अविश्वास प्रस्ताव कांग्रेस के सतपाल सिंह ने 13 सदस्यों के साथ रखा था। जानकार सूत्रों के अनुसार नवम्बर में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले ऐसी गतिविधियां भाजपा को नुकसान पहुंचाएगी। पंचायतीराज के नियमों के अनुसार अब उपप्रधान किस्मत कंवर को प्रधान का चार्ज दिया जाएगा।

भाजपा का सुपड़ा साफः

कांग्रेस के देहात अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह राठौड़ ने कहा कि पीसांगन पंचायत समिति का घटनाक्रम बताता है कि आगामी विधानसभा चुनाव में अजमेर जिले से भाजपा का सुपड़ा साफ हो जाएगा। राठौड़ ने इसे प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के नेतृत्व की जीत बताया है। भाजपा के प्रधान को हटाने के लिए राठौड़ ने विधायक गुर्जर का भी आभार जताया।

एस.पी.मित्तल) (12-04-18)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें