सोमवार, 30 अप्रैल 2018

सुब्रह्मण्यम स्वामी के ये बोल राजनीति में तूफान ला सकते हैं

अमृतसर (स.ह., वड़ैच) :भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व विधि एवं न्याय मंत्री और मौजूदा सांसद डा. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा कि दीपावली से पहले अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचन्द्र का भव्य मंदिर बनाने का काम शुरू होगा और 2 सप्ताह के भीतर कांग्रेस के बड़े नेता व पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम जेल जाएंगे। रविवार को अमृतसर में माधव निकेतन के मंच से ‘विश्व संवाद समिति’ पर देवर्षि नारद जयंती (पत्रकारिता दिवस) पर ‘पत्रकारिता में सोशल मीडिया का स्थान’ विषय पर आयोजित गोष्ठी में बतौर मुख्य वक्ता शिरकत करते हुए डा. स्वामी ने अपनी लच्छेदार बातों से कांग्रेस पर सीधे निशाना साधा।


श्री हरिमंदिर साहिब में आकर धन्य हो गया हूं

डा. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने श्री हरिमंदिर साहिब में माथा टेका और परिक्रमा में सेवा की। एस.जी.पी.सी. की तरफ से उन्हें सूचना अधिकारी सर्बजीत सिंह ने सम्मानित किया। उन्हें धार्मिक पुस्तकें देकर सम्मानित किया गया। डा. स्वामी ने कहा कि मैं श्री हरिमंदिर साहिब में आकर धन्य हो गया। 

 


स्वामी के ये बोल राजनीति में ला सकते हैं भूचाल


मैं भिंडरावाला का दोस्त रहा हूं, उन्होंने कभी मेरे से बात करते हुए खालिस्तान की मांग नहीं की थी। 1984 में जो श्री हरिमंदिर साहिब में हुआ उसमें विदेशी ताकतें शामिल थीं, इसका सबूत मैं आने वाले दिनों में दूंगा। यह घटना पूर्व नियोजित थी जिसकी स्क्रिप्ट कांग्रेस ने लिखी थी। सोनिया गांधी 2 दिन पहले मॉस्को गई हैं। मुझे लगता है कि वह भी 2019 के चुनाव को लेकर सोशल मीडिया को हथकंडा बनाने के लिए कोई चाल चलने गई हैं। वैसे सोनिया गांधी के पिता मॉस्को में कैद थे, वह हिटलर की फौज के सिपाही थे, बाद में उन्हें सजा पूरी होने से पहले रिहा कर दिया गया था। सोनिया गांधी के परिवार में कोई ग्रैजुएट नहीं है, वह खुद 5वीं पास हैं और एक रैस्टोरैंट में नौकरी करती थीं। हालांकि चुनाव लडऩे के समय सोनिया गांधी ने लिखा था कि कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी ने उन्हें इंगलिश की डिग्री दी थी। मैं कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी गया वहां पूछा तो पता चला कि सोनिया गांधी को कोई डिग्री दी ही नहीं गई थी। मैंने संसद में यह बात कही तो सोनिया गांधी ने कहा कि टाइपिंग मिस्टेक हो गई थी, अगर वह टाइपिंग मिस्टेक थी तो सदी की सबसे बड़ी टाइपिंग मिस्टेक के लिए गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में सोनिया गांधी का नाम दर्ज होना चाहिए। वरुण गांधी व मेनका गांधी को मैं सोनिया गांधी का परिवार नहीं मानता वह भाजपा के पारिवारिक सदस्य हैं।जवाहर लाल नेहरू को पंडित जवाहर लाल नेहरू कांग्रेस ने इसलिए कहा क्योंकि देश में हिन्दू परिवारों को पंडित बताकर वोट हासिल करना था जबकि गांधी परिवार सदैव अंग्रेजी व अंग्रेजों के पक्षधर रहा है। न तो रंग में कोई फर्क है और न काम में। देश का इतिहास तोड़-मरोड़ कर पढ़ाया जाता रहा है और आजादी के बाद से सत्ता में रही कांग्रेस खामोश रही क्योंकि जो कांग्रेस चाहती थी वही स्कूलों में पढ़ाया जाता रहा है। डा. मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री तो 10 साल रहे लेकिन उनकी हालत सर्कस के उस शेर की तरह थी जो इशारों पर नाचता भी है और गुर्राता भी है। पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम का बेटा जेल से लौटा है अब उनकी बारी है, 2 सप्ताह में जब चिदंबरम जेल जाएंगे तब उनसे पूछूंगा कि ‘हिन्दू आतंकवादी’ किसे कहते हैं। लंदन के मशहूर सेंट जोसन स्कूल में बच्चों को संस्कृति पढऩा लाजिमी कर दिया गया है और भारत में संस्कृति हटाने व अंग्रेजी लाने पर कांग्रेस सदैव जोर देती रही। 


मैं प्रधानमंत्री होता तो इंकम टैक्स हटा देता


पंचनद की बैठक में डा. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अगर मैं प्रधानमंत्री होता तो इंकम टैक्स हटा देता, रोजगार को बढ़ावा देने के लिए व्यापार नीति सरल करता, सेविंग पर ब्याज बढ़ा देता और कर्ज पर ब्याज कम कर देता। पंजाब में भाजपा अकाली पार्टी की नौकरी कब तक करेगी। आखिर भाजपा अपना स्टैंड क्यों नहीं लेती के सवाल पर स्वामी ने कहा कि अमित शाह सुनते ही नहीं हैं, मैं क्या करूं। स्वामी ने कहा कि पैट्रोल के दाम कम होने चाहिएं। पड़ोसी देश चीन अगर सही दिशा में चल रहा है तो हमें लडऩे की जरूरत नहीं है, लेकिन डरने की भी जरूरत नहीं है। जी.एस.टी. व नोटबंदी को जल्दबाजी में उठाया कदम बताते हुए उन्होंने कहा कि इसकी जरूरत थी लेकिन प्लानिंग के साथ। उन्होंने हंसते हुए कहा कि जेतली साहिब जब बीमार हुए और ऑप्रेशन कराने गए तो मोदी साहेब ने उनसे हस्ताक्षर करवा लिए ताकि काम रुके नहीं। 

साभार पंजाब केसरी 30-4-2018.



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें