शनिवार, 7 अप्रैल 2018

भाजपा नेता की नई पार्टी से भाजपा की राह कठिन

* नयी पार्टी भाजपा की जीत और राज में आने से  रोकेगी और किसी को जितवाने के बजाय हराने का यह कार्य आसान होगा व इसी प्रक्रिया मेंं अपने प्रत्याशियों को जितवाने के कार्य भी करेगी। आशा की जा रही है कि इसमें भाजपा के ही कार्यकर्ता प्रवेश करेंगे।

* करणीदानसिंह राजपूत *

राजस्थान में नये राजनीति दल ' भारत वाहिनी पार्टी ' का नाम चुनाव आयोग ने स्वीकृत कर दिया है। इस नयी पार्टी से भाजपा की  पावर और मुख्यमंत्री वसुंधराराजे की पावर में खटका पैदा हो गया है। 

भारत वाहिनी का आना कैसे हुआ

भाजपा नेता व सांगानेर से विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने भारत वाहिनी नाम से नई पार्टी का गठन किया है। 

घनश्याम तिवाड़ी ने अपने बेटे अखिलेश तिवाड़ी को पार्टी का अध्यक्ष बनाया है। 

भारत वाहिनी नाम से पार्टी बनाने के लिए चुनाव आयोग को कई महीने पहले आवेदन किया था।  चुनाव आयोग ने  भारत वाहिनी नाम से पार्टी को मंजूरी दे दी है, इस बारे में तिवाड़ी को पत्र भेजा है।

चुनाव आयोग का पत्र मिलने के बाद घनश्याम तिवाड़ी ने दीनदयाल वाहिनी से जुड़े सदस्यों को इसकी जानकारी दी।  आगामी 15 दिनों में दीनदयाल वाहिनी के प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक बुलाकर नए राजनीतिक दल के अध्यक्ष और अन्य कार्यकारिणी को लेकर फैसला किया जाएगा। भारत वाहिनी पार्टी का झंडा 5 रंगों का होगा।

माना जा रहा है कि जल्द ही घनश्याम तिवाड़ी प्रदेश पदाधिकारियों से लेकर बूथ लेवल तक पार्टी इकाईयों गठन करेंगे। 

यह भी जानकारी मिली है कि आगामी विधानसभा में भारत वाहिनी चुनाव लड़ने की तैयारियों में जुट गयी है। राजस्थान की 200 सीटें हैं और भारत वाहिनी पहली बार के 2018 के चुनाव में कितनी सीटों पर लड़ेगी? यह कुछ महीनों में तय हो जाएगा।

वैसे भाजपा के लिए खतरे की घंटी बजनी शुरू हो गई है।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें