शुक्रवार, 9 मार्च 2018

सीवरेज:किशनगढ़ सूरतगढ एक समान,दोनों अध्यक्ष चुप


सीवरेज में घटिया काम के बाद भी भुगतान में रुचि

=====

राजस्थान की मार्बल नगरी किशनगढ़ का इन दिनों बुरा हाल है। सीवरेज लाइन बिछाने की वजह से शहर भर की सड़के खुदी पड़ी है। मरम्मत के अभव में रोजाना दुर्घटनाएं हो रही हैं। टेंडर की शर्तों के अनुरूप संबंधित फर्म को ही मरम्मत का काम करना है, लेकिन जिन क्षेत्रों में लाइन बिछाने का कार्य पूरा हो चुका है वहां भी सड़क की मरम्मत नहीं की जा रही है।

 सीवरेज लाइन का घटिया काम होने के लगातार आरोप लगा रहे हैं, लेकिन किशनगढ़ नगर परिषद प्रशासन की रुचि संबंधित फर्म को भुगतान करने में है। पूर्व में 4 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है और अब 8 करोड़ रुपए के भुगतान की तैयारी है। परिषद के भाजपाई अध्यक्ष सीताराम साहू को भी पता है कि सीवरेज का कार्य शर्तों के अनुरूप नहीं हो रहा है। अभी हाल में 21 किलोमीटर लाइन की टेस्टिंग हुई। इस टेस्टिंग में पाइप लाइन से पानी का बहाव हो ही नहीं सका। तीन चैथाई पानी पाइपों में ही भरा रह गया। असल में पाइपों  को ढलान के अनुरूप बिछाया ही नहीं गया। इस संबंध में नगर परिषद के ही एक इंजीनियर ने अपनी रिपोर्ट दी है। कायदे से इस रिपोर्ट के बाद  फर्म को भुगतान नहीं होना चाहिए। रिपोर्ट में आशंका जताई गई कि सीवरेज सिस्टम शुरू होने पर लाइन जाम हो सकती है और पूरे किशनगढ़ के हालात बिगड़ेंगे। जानकारों की माने तो इंजीनियर की रिपोर्ट को दरकिनार कर 8 करोड़ रुपए का भुगतान किया जा रहा है। इस पूरे मामले में परिषद के भाजपाई अध्यक्ष सीताराम साहू की चुप्पी आश्चर्यचकित करने वाली है। इस संबंध में किशनगढ़ के जागरुक लोगों ने क्षेत्रीय भाजपा विधायक भगीरथ चौधरी का भी ध्यान आकर्षित किया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें