रविवार, 25 मार्च 2018

वसुंधराराज में हाशिए पर लगाए गए नेताओं और कार्यकर्ताओं को मनाने के प्रयास





- करणीदानसिंह राजपूत -

वसुंधरा राजे सूरतगढ़ में 27 मार्च को आएंगी और तीन दिन जिले मेंं रहेंगी।

विदित रहे कि सूरतगढ़ शहर और गांव के भाजपा कार्यकर्ताओं और प्रमुख नेताओकी  विधायक राजेंद्र सिंह भादू की पटरी बैठी हुई नहीं है।

आपस में कोई मेल नहीं है।

वसुंधरा राजे के आगमन से पहले सभी नेताओं को टटोला जा रहा है।

 यह भी सच है कि विधायक और नेताओं कार्यकर्ताओं के बीच चल रही अनबन, कार्यकर्ताओं के कार्य नहीं होने के बारे में भारतीय जनता पार्टी संगठन की ओर से कभी कोई कदम नहीं उठाया गया।

 नगर मंडल देहात मंडल विधायक के सोच के हिसाब से कार्य करते रहे।

 जिला अध्यक्ष हरिसिंह कामरा की प्रमुख रुप से ड्यूटी बनती थी लेकिन वह भी चुप रहे।

सूरतगढ़ और श्रीगंगानगर से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों में इलाके के हर प्रकार के समाचार आते रहे। जनता के काम नहीं हो रहे इस प्रकार की रिपोर्ट छपती रही मगर विधायकों ने ध्यान नहीं दिया। वही  जिला अध्यक्ष ने भी कभी चिंतन और मनन नहीं किया। सबसे बड़ी कमजोरी यह रही कि कार्यकर्ताओं की और आम नागरिकों की किसानों की पीड़ाओं को जयपुर तक नहीं पहुंचाया। श्री गंगानगर जिले में कोई एक राजेंद्र भादू विधायक से नाराजगी हो ऐसा नहीं है,यह कहना उचित होगा कि संपूर्ण विधायकों से नाराजगी है।

 यह भी सच्चाई है कि श्री करणपुर से निर्वाचित और राज्य मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी की और से भी कभी कोई कदम नहीं उठाया गया। हालात यह रहे कि आम जनता को हर जगह पैसा देकर भारी रिश्वत देकर अपने काम करवाने पड़े। श्री गंगानगर और हनुमानगढ़ दोनों जिलों में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा रिश्वत लेते हुए पकड़े जाने के मामले इस बात के पक्के सबूत है कि इन दोनों जिलों में प्रतिदिन लाखों रुपए की रिश्वत बेधड़क ली जाती है। उसमें भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख कार्यकर्ताओं को भी इसी रिश्वत के रूप में ही अपने काम करवाने की मजबूरी है।

 सूरतगढ़ के अंदर इस कारण से भी कार्यकर्ता नाराज हैं।

पुलिस में महीनों तक मुकदमे दर्ज नहीं होते और फ़ाइलें थाने से लेकर जिला पुलिस अधीक्षक के कार्यालय के अंदर भी तीन तीन चार चार महीनों तक विचाराधीन कहकर दवाई रखी जाती है। हालात इतने बदल चुके हैं कि जनता कदम कदम पर वसुंधरा राज के विरुद्ध मानस बना चुकी है। 

किसी को भी पूछ लें उसका जवाब मिलेगा कि जनता इस बार भारतीय जनता पार्टी को सबक सिखाने के लिए उतावली है। वसुंधरा राजे चाहे जितनी संवाद यात्राएं निकाल लें   लेकिन अब जनता के मानस को बदल नहीं सकती। सूरतगढ़ क्षेत्र कुछ अधिक ही नाराज नजर आ रहा है।

सूरतगढ़ के कार्यकर्ताओं को वसुंधरा राजे के आने से पहले मनाने के प्रयास चल रहे हैं। हो सकता है वसुंधरा के आगमन के दिन सारे एक नजर आए मगर यह एकता टेंप्रेरी 3-4 घंटे की रहेगी।

 कड़वी सच्चाई यह है कि लोग और नाराज भाजपा कार्यकर्ता विधायक की शक्ल तक देखना पसंद नहीं करते। आज की नहीं पिछले 3-4 सालों से विधायक सेवा केंद्र पर हजारों लोगों का आवागमन नहीं हो रहा। लोग विधायक सेवा केंद्र पर पहुंचना नहीं चाहते। लोग मानते हैं कि विधायक मुस्कुराता है लेकिन उसकी मुस्कुराहट से काम नहीं हो रहे। 

आश्चर्यजनक है कि पिछले विधानसभा चुनाव में पुरानी धान मंडी में भाजपा मंच पर पूर्व राज्यमंत्री रामप्रताप कासनिया ने भाजपा को विजय बनाने के लिए फांसी खाने की घोषणा करते हुए राजेंद्र भादू का समर्थन किया था। लेकिन इस प्रकार के नेता भी हाशिए पर रखे गए और वह निरंतर नाराजगी में चलते रहे। न विधायक ने कभी परवाह की और न संगठन ने कभी परवाह की।

 पूर्व विधायक अशोक नागपाल को किस तरह से झूठी रिपोर्ट से जयपुर पहुंचा कर पार्टी से और जिला अध्यक्ष पद से निकलवाया गया था। वह सभी जानते हैं। 

वसुंधरा राजे के आगमन से पहले संभव है की नाराजगी की इस आग को थोड़ी देर के लिए दबा दिया जाए। 

वसुंधरा का यह आगमन जिसमें रिपोर्ट भी तैयार हो रही है। जयपुर के अधिकारी आए हुए हैं. वे सारी रिपोर्ट अभी वसुंधरा को देंगे की वर्तमान में किस किस विधायक की जनता में क्या छवि है। 

सूरतगढ़ नगर पालिका में करोड़ों का घोटाला पिछले 4 सालों में हुआ वह शहर की जागरूक जनता को मालूम है। हर निर्माण कार्य घोटालों से भरे हुए हैं। मगर विधायक चुप और संगठन भी चुप है। पूरा शहर खोदकर फेंक दिया गया है। मुख्य बाजार 9- 10 जनवरी को थडियां तोड़ने के नाम पर खुद गया और आज ढाई महीने होने को आए हैं मुख्य बाजार में नालों का निर्माण नहीं हुआ जो कि केवल पांच 7 दिन का ही काम था।

 इसी प्रकार से इसी राजस्व PWD और पुलिस का बुरा हाल है।

जनता त्रस्त है और भाजपा के नेता सत्ता में मस्त है। संगठन के जयपुर नेताओं की अनदेखी से भी ऐसे बुरे हालात हुए हैं।

जनता केवल 8 महीने की प्रतीक्षा में है।





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें