Sunday, January 7, 2018

आनंद पाल सिंह एनकाउंटर मामले-सीबीआई जांच शुरू





आनंदपाल सिंह के साल 2017 में हुए एनकाउंटर के मामले में सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है। सीबीआई ने तीन मामले दर्ज किए हैं।

नवनिर्वाचित बार अध्यक्ष की बेटी के अपहरण का प्रयास, आरोपी महिला वकील की पिटाई

राजस्थान सरकार ने गृह मंत्रालय को इस मामले की सीबीआई जांच के लिए लिखा था। इसके बाद शनिवार 6.1.2018 को सीबीआई ने तीन विभिन्न मामलों में केस दर्ज किए हैं। इनमें पहला मामला आनंदपाल के एनकाउंटर, दूसरा मामला सांवराद में सभा के दौरान के सुरेंद्र सिंह मौत और तीसरा मामला सांवराद में 13 जुलाई को हुए उपद्रव को लेकर राजपूत नेताओं पर दर्ज मामलों की जांच का है। 

हालांकि बड़ी बात यह है कि सीबीआई ने आनंदपाल के एनकाउंटर को फर्जी बताए जाने को लेकर कोई एफआईआर दर्ज नहीं की है। 

तीनों एफआईआर में क्या है?

 सीबीआई द्वारा दर्ज की गई तीन एफआईआर में सबसे पहले दंगा भड़काने,गैर कानूनी तरीके से भीड़ को जमा करने और अपहरण का प्रयास करने के आरोप में सीबीआई ने राजपूत नेताओं जिनमें सुखदेव सिंह गोगामेड़ी,हनुमान सिंह खंगाता,महिपाल मकराना और आंनदपाल की बेटी चीनू और उनके वकील पर केस दर्ज किया है। इनके साथ साथ सीबीआई ने करीब 10 हजार से ज्यादा अज्ञात लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है। 

इसके अलावा सीबीआई ने स्पेशल आॅपरेशन ग्रुप के एसपी करण शर्मा द्वारा एनकाउंटर के  बाद रतनगढ़ थाने में गैंगस्टर आनंदपाल सिंह समेत 8 लोगों पर सरकारी कर्मचारियों पर हमला करने और गैर कानूनी तरीके से एक अपराधी को छुपाने के मामले में दर्ज एफआईआर का मामला अपने यहां दर्ज किया है। 

तीसरे मामले में सीबीआई ने सांवराद में हुई हिंसा के दौरान मारे गए सुरेंन्द्र सिंह नामक एक शख्स के पिता द्वारा सांवराद पुलिस पर उसके बेटे की हत्या करने के मामले को लेकर एफआईआर दर्ज की है।  

आपको याद होगा कि राजस्थान के गृहमंत्री ने पहले कहा था कि मेरी पुलिस ने सही किया है, जांच करा कोई सवाल ही नहीं उठता। उसके बाद सीबीआई जांच का पत्र लिखा गया। काफी समय से यह मामला लटका रहा और अब सीबीआई की जांच भी शुरू।


No comments:

Post a Comment

Search This Blog