शनिवार, 13 जनवरी 2018

सरपंच को रिश्वत लेते श्रीगंगानगर एसीबी ने गिरफ्तार किया



श्रीगंगानगर। एसीबी ने ग्राम पंचायत सरदारपुरा जीवन के  सरपंच को साढ़े चार हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। सरपंच ने यह राशि प्रधानमंत्री आवास योजना में अनुदान राशि करीब डेढ़ लाख रुपए के चेक देने के एवज में ली थी। 

शनिवार  13.1.2018 को करीब बारह बजे भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की श्रीगंगानगर चौकी टीम ने एडिशनल एसपी राजेन्द्र डिढारिया की अगुवाई में यह कार्यवाही की। 

सरपंच रवीन्द्र कुमार  रिश्वत लेने के लिए परिवादी हरदीप सिंह के वर्कशॉप पर आया।यह वर्कशॉप लालगढ़ जाटान में बालाजी हीरो होण्डा वर्कशॉप के नाम से है। 

सरपंच ने परिवादी हरदीप सिंह से रिश्वत की राशि साढ़े चार हजार रुपए लेकर अपनी पेंट में डाल ली और इशारा होते ही एसीबी की टीम ने उसे दबोच लिया। उसकी पेंट से रिश्वत की राशि बरामद कर उसे गिरफ्तार किया है। 

एडशिनल एसपी डिढारिया ने बताया  कि जगमीतसिंहवाला निवासी परिवादी हरदीप सिंह ने एसीबी में शिकायत की थी। इसमें बताया कि उसे पिता जीत सिंह के नाम से प्रधानमंत्री आवास योजना में तहत मकान बनाने के लिए चयन किया गया था।

इस चयन होने पर पंचायत समिति प्रशासन ने 1 लाख 47 हजार रुपए की राशि अनुदान देने के लिए स्वीकृति की थी। प्रथम किस्त के रूप में तीस हजार रुपए उसके पिता के बैंक खाते में जमा भी हो गए। इस योजना में मकान का निर्माण भी शुरू हो गया लेकिन दूसरी किस्त आने से पहले ही उसके पिता की मृत्यु हो गई। एेसे में अनुदान राशि के लिए उसने सरपंच से संपर्क किया। सरपंच ने वारिस प्रमाण पत्र और अन्य दस्तावेज बनने के बाद दूसरी और तीसरी किस्त दिए जाने की बात कही।

उसने सरपंच से पंचायत समिति से सभी दस्तावेज बनाने के लिए बात कर ली, उससे दो हजार रुपए रिश्वत के लिए गए। सरपंच बाद में दस्तावेजों का सत्यापन करने के एवज में साढ़े चार हजार रुपए की मांग करने लगा। परिवादी ने लेनदेन की बात होने पर साढ़े चार हजार रुपए देना स्वीकार कर लिया लेकिन यह शिकायत भी एसीबी से कर दी। शिकायत का सत्यापन होने पर शनिवार को रिश्वत की राशि लेने के लिए सरपंच खुद ही परिवादी की लालगढ़ जाटान स्थित वर्कशॉप दुकान पर पहुंच गया। वहां पहले से तैयार एसीबी टीम ने रिश्वत लेते ही काबू कर लिया।




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें