मंगलवार, 30 जनवरी 2018

आप विधायकों को अयोग्य ठहराने का आधार क्या था? आयोग बताए।

दिल्ली।हाईकोर्ट की खंडपीठ ने आप के पूर्व विधायकों की याचिकाओं पर चुनाव आयोग को चार दिन के भीतर अपनी सिफारिशों का आधार बताने का निर्देश दिया है। सिंगल जज ने सोमवार को इन याचिकाओं को खंडपीठ के समक्ष भेज दिया था।


जस्टिस संजीव खन्ना व जस्टिस चंद्रशेखर की खंडपीठ ने पूछा कि आयोग बताए कि किस आधार पर आयोग ने आप के विधायकों को अयोग्य ठहराने की सिफारिश राष्ट्रपति से की थी। 


खंडपीठ ने याचिकाओं पर सुनवाई के लिए सात फरवरी की तारीख तय की है। इस अवधि में आयोग उपचुनाव संबंधी कोई अधिसूचना जारी नहीं करेगा। चुनाव आयोग के हलफनामा आने पर आप के पूर्व विधायक उस पर अपना पक्ष रखेंगे।


सिफारिश सभी तथ्यों की पड़ताल पर की गई 


चुनाव आयोग के स्थायी अधिवक्ता अमित शर्मा ने कहा कि आयोग अपनी सिफारिशों पर कायम है और जो सिफारिश की गई वह सारे तथ्यों की पड़ताल के बाद की गईं थीं।


इस पर खंडपीठ ने कहा कि जो कहना है वह हलफनामा दायर कर कहें। इससे पहले हाईकोर्ट के सिंगल जज ने मामले में प्रतिवादी अधिवक्ता प्रशांत पटेल की आपत्ति के मद्देनजर संबंधित याचिकाओं को खंडपीठ के समक्ष भेज दिया था।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें