सोमवार, 1 जनवरी 2018

राजस्थान में चिकित्सा मंत्री पर आरोप लगाया और विधायक राजकुमार शर्मा ने खुद का इस्तीफा दिया


साल 2018 के प्रथम दिवस पर विधायक पूर्व चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर राजकुमार शर्मा ने राजस्थान सरकार के चिकित्सा मंत्री पर आरोप लगाते हुए इस्तीफे की मांग की ओर खुद का इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को सौंप दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि राजस्थान में मरीज ईलाज के अभाव में दम तोड़ रहे थे वहीं दूसरी ओर सरकार और हड़ताली चिकित्सक एक—दूसरे को मिठाई खिला रहे थे। इससे जाहिर होता है कि राजस्थान सरकार आमजन के प्रति संवदेनहीन है। 

 पूर्व चिकित्सा मंत्री और नवलगढ़ से विधायक डॉ राजकुमार शर्मा राजस्थान सरकार की संवेदनहीनता के विरोध में आज   1.1.2018 को डॉ शर्मा ने विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया। उनकी मांग है कि राजस्थान में चिकित्सक हड़ताल के दौरान जो सैंकड़ों मौत हुई है उनका जिम्मेदार राज्य के स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ हैं इस​लिए स्वास्थ्य मंत्री को पद से इस्तीफा देना चाहिए।

 डॉ शर्मा के अनुसार यदि स्वास्थ्य मंत्री इस्तीफा नहीं देते है तो उनका इस्तीफा स्वीकार किया जाना चाहिए। गौरतलब है कि बीते दिनों रही राजस्थान में डॉक्टर हड़ताल के कारण 300 से अधिक मरीजों की मौत हो गई थी। ​ सरकार और चिकित्सकों के अड़ियल रुख के कारण गई मरीजों की जान के बाद कोर्ट ने भी सख्त रुख अपनाते हुए हड़ताली चिकित्सकों पर कार्रवाई के आदेश दिए थे।

दिसंबर माह में दस दिन से अधिक समय तक चली हड़ताल के बाद सरकार के साथ समझौता हो सका था। इसके बाद जब हड़ताल खत्म हुई तो हड़ताली चिकित्सक व सरकार के कई मं​त्रियों ने एक—दूसरे का मुंह मीठा कराया था। इसी बात को लेकर विपक्ष व डॉ राजकुमार शर्मा ने नाराजगी व्यक्त की थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें