शुक्रवार, 29 दिसंबर 2017

श्रीगंगानगर:किन्नू फल महोत्सव में गाय,भैंस व फूल पत्ता गोभी प्रतियोगिताएं होंगी- तिथि जानें



रामलीला मैदान में 2 दिन चलेगा किन्नू महोत्सव


किन्नू सहित विभिन्न प्रतियोगिताएं भी होंगी


श्रीगंगानगर, 29 दिसम्बर। जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम ने कहा कि कृषि प्रधान एवं किन्नू फल में अग्रणी जिला गंगानगर में पहली बार 16 व 17 जनवरी 2018 को रामलीला मैदान में दो दिवसीय विशाल किन्नू महोत्सव का आयोजन किया जायेगा। 


जिला कलक्टर शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाहॉल में किन्नू महोत्सव की तैयारियों से संबंधित बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रथम दिन 16 जनवरी को किन्नू फल से संबंधित आयोजन होगें। किन्नू उत्पादन तकनीक, जल, उर्वरक प्रबंधन, किन्नू फल प्रसंस्करण, कीट रोग प्रबंधन, किन्नू विपणन इत्यादि पर विभिन्न विश्व विधालयों, कृषि अनुसंधान केन्द्रों के अलावा हरियाणा कृषि विश्व विधालय, सीफेट अबोहर के वैज्ञानिकों द्वारा किसानों को जानकारी दी जायेगी। 

जिला कलक्टर ने कहा कि किन्नू महोत्सव व किसान मेला व कृषि प्रदर्शनी में किन्नू उत्पादक किसानों को आमंत्रित किया जाये, ऐसे किसान जो किन्नू उत्पादन में अग्रणी है, उनके अनुभव भी बांटे जाये। किन्नू फल के व्यापारी, उद्यमी तथा फलों का प्रसंस्करण करने वाली ईकाईयों के स्वामियों को भी आमंत्रित किया जाये। जिला कलक्टर ने कहा कि किसान के सामने अपनी फसल या फल उत्पादन के पश्चात विपणन की समस्या आती है। उत्पादकों को विपणन का एक अच्छा प्लेटफार्म देना होगा। 


बैठक में बताया कि किन्नू महोत्सव के दूसरे दिन पशुपालन विभाग, डेयरी, बैंकर्स, सहकारी, एग्रोप्रोसेसिंग से संबंधित कार्यक्रमों के अलावा उन्नत नस्ल के पशुओं व सब्जियों की प्रतियोगिताएं भी होगी। प्रथम दिन किन्नू फल की प्रतियोगिताएं होगी। दूसरे दिन सब्जियों में फूलगोबी, पत्तागोबी, गाजर की प्रतियोगिताएं होगी। प्रथम विजेता को 2500 रूपये, द्वितीय विजेता को 1500 रूपये तथा तृतीय विजेता को 1000 रूपये का नगद पुरस्कार दिया जायेगा। इसी प्रकार पशु नस्ल में भी गाय (साहिवाल) एवं भैंस (मुर्रा) की उन्नत नस्लों की प्रतियोगिताएं होगी। 


किन्नू महोत्सव एवं मेले के प्रमुख आकर्षण


जिला कलक्टर ने बताया कि किन्नू महोत्सव में किन्नू के साथ-साथ बीज उर्वरक, कीटनाशक रसायन, जलप्रबंधन तकनीकी ड्रिप, मिनी स्प्रिंकलर, फव्वारा, सौर उर्जा, उन्नत कृषि यंत्रा, मशीनरी, पौध सरंक्षण उपकरण, ट्रेक्टर आदि आकर्षण के केन्द्र रहेंगे। इसके अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी होगा। महोत्सव में कृषक परामर्श केन्द्र होगा, जिसमें किसानों की समस्याओं व शंकाओं का समाधान होगा व योजनाओं की जानकारी दी जायेगी। किन्नू महोत्सव में विभिन्न प्रकार की 90 से 100 स्टॉल लगाई जायेगी। 

बैठक में एडीएम सर्तकता श्री वीरेन्द्र कुमार वर्मा, कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक श्री वी.एस.नैण, उपनिदेशक कृषि एवं पदेन परियोजना निदेशक आत्मा डॉ. जे.आर.मटोरिया, उपनिदेशक कृषि डॉ. सतीश कुमार शर्मा, पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. राजकुमार मिढ़ढा, एलडीएम श्री जसपाल सिंह भट्टी, उद्योग अधिकारी श्रीमती संतोष, महिला अधिकारिता सहायक निदेशक श्री विजयकुमार तथा श्री मदन जोशी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें