शनिवार, 9 दिसंबर 2017

जल स्वावलम्बन अभियान तृतीय चरण जिला श्रीगंगानगर: उदयपुर गोदारान ( सूरतगढ़)

सूरतगढ़ 9.12.2017.

जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप ने कहा कि इन्द्रा गांधी नहर परियोजना के सुदृढ़ीकरण के लिये 3 हजार करोड़ रूपये की परियोजना हाथ में ली जायेगी, जिससे नहरी तंत्र मजबूत होगा तथा अंतिम छोर पर बैठे किसान को उसके हक का पूरा पानी मिलेगा। 

डॉ. रामप्रताप शनिवार को मुख्यमंत्री जलस्वावलम्बन अभियान के तीसरे चरण के शुभारम्भ के अवसर पर सूरतगढ़ पंचायत समिति क्षेत्र के गावं उदयपुर गोदारान में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि गत सरकार  ने ध्यान दिया होता तो यह कार्य 2014 तक पूर्ण होने थे, लेकिन राशि लेप्स हो गई। उन्होंने कहा कि राजस्थान के लिये पानी ही एक जीने का आधार है। इसके बिना कुछ भी संभव नही है। सरकार ने प्रदेश को स्वावलम्बी बनाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री जलस्वावलम्बन अभियान की शुरूआत की, जिसके सुखद परिणाम देखने को मिल रहे है। 

जल संसाधन मंत्री ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री ने राज्य की बागडोर संभालने के बाद नहरी तंत्र को बड़े नजदीक से देखा तथा इन कठिनाईयों को दूर करने के लिये एक व्यापक कार्यक्रम बनाया। उसी के अनुरूप प्रदेश में विकास के कार्य किये जा रहे हैं। जल की समस्या का समाधान करने के लिये एक बडे़ पैमाने पर अभियान चलाया गया। इसका उद्देश्य वर्षा की एक-एक बूंद को संजोकर रखना था। आमजन के सहयोग से जोहड़ों की खुदाई हुई, टांको का निर्माण, डिग्गियों का निर्माण एवं इस क्षेत्र में पक्के खालों का निर्माण किया गया। पक्के खालों से 30 प्रतिशत जल की बचत होती है। मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान से प्रदेश का बहुत सारा क्षेत्र डार्क जोन से बाहर आ गया है तथा भीषण गर्मी में विभिन्न क्षेत्र में टेंकरों से पानी पंहुचाया जाता था, उसमें भी काफी कमी आयी है। 

उन्होंने कहा कि जल स्वावलम्बन अभियान के तहत मक्कासर गांव में विद्यालय परिसर में कुण्ड का निर्माण किया गया तथा उसके वर्षा का जल (पालर पानी) संग्रहित हुआ। हमने पालर पानी व नहर के पानी की जांच करवाई, तो डब्ल्यूएचओ के मानकों के अनुसार वर्षा का पानी ज्यादा अच्छा था। राजस्थान में प्रारम्भ किये गये मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान को देखने के लिये देश के अन्य राज्यों तथा विदेशी नागरिक आने लगे हैं।

 

जल स्वावलम्बन अभियान हुआ सार्थकः- जिला कलक्टर


जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम ने कहा कि मुख्यमंत्री जलस्वावलम्बन अभियान का ग्रामीण क्षेत्र में यह तीसरा चरण है तथा अब शहरों में भी प्रारम्भ कर दिया गया है। इस अभियान की देशभर में सराहना हुई है। उन्होंने बताया कि अकेले उदयपुर गांव में 24 कार्य 138 लाख रूपये की राशि के मंजूर किये गये है, जिसमें 13 पक्के खालों के काम लिये गये है। 

जिला कलक्टर ने बताया कि मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के अन्तर्गत प्रथम चरण में 15 ग्राम पंचायतों के 121 गावों में 710 कार्य राशि 2786.48 लाख रूपये के पूर्ण किये गये। सभी कार्य पोर्टल पर ऑनलाईन किये जा चुके हैं। 17 कार्यां का तृतीय पक्ष मूल्यांकन भी किया जा चुका है, 16 कार्यों का तृतीय पक्ष मूल्यांकन प्रगतिरत है। 

उन्होंने बताया कि इस अभियान के अन्तर्गत द्वितीय चरण में 43 ग्राम पंचायतों के 440 गावों में 940 कार्य, राशि 4671.49 लाख रूपये के स्वीकृत किये गये हैं जिनमें से 939 कार्य पूर्ण किये जा चुके हैं तथा शेष 1 सीएडी विभाग का प्रगतिरत हैं जिसे शीघ्र पूर्ण कर लिया जायेगा। 919 कार्यां के कार्य पूर्णता प्रमाण पत्र ऑनलाईन किये जा चुके हैं। द्वितीय चरण अन्तर्गत 55 कार्यां का तृतीय पक्ष मूल्यांकन प्रगतिरत है। 

इस अभियान के तृतीय चरण अन्तर्गत 61 ग्राम पचांयतों के 556 गावोंं का चयन किया गया है एवं 9185 कार्यों का प्री-सर्वे कर डीपीआर तैयार करने का कार्य प्रगतिरत है। आज 8 दिसम्बर 2017 तक 1049 कार्यों का डीपीआर हेतु चयन किया जा चुका है। जिनमें से 787 कार्य राज्य सरकार स्तर से डीपीआर हेतु स्वीकृत किये जा चुके है एवं शेष 262 कार्य स्वीकृति हेतु प्रक्रियाधीन है। जिले में जनसहयोग अब तक 57.18 लाख जमा हो चुका है। 


जल स्वावलम्बन अभियान से जल स्तर बढ़ाः- श्री राजेन्द्र सिंह भादू


सूरतगढ़ विधायक श्री राजेन्द्र सिंह भादू ने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा इस क्षेत्र में डिग्गियों व टांकों व खेती के लिये जर्जर खालों को पक्का करने का कार्य बड़े पैमाने पर चल रहा है। सरकार द्वारा अब खाला निर्माण के लिये किसी तरह की हिस्सा राशि भी नही ली जा रही। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जल स्तर चिंताजनक स्थिति में था तथा लगभग 400 फिट के बाद ही पीने का पानी मिलता था। इस अभियान से जल स्तर बढ़ा है तथा अब 100 फिट पर भी पानी उपलब्ध है। श्री भादू ने कहा कि सूरतगढ़ क्षेत्र में अधिकांश कच्चे खालों को पक्का कर दिया गया है तथा जो खाले कच्चे रह गये है, उन्हें भी पक्का किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सूरतगढ़ शाखा का सुदृढ़ीकरण करने से इस क्षेत्र की सेम समस्या समाप्त हुई है तथा सेम वाली भूमि पर अब किसान फसल उगा रहे है। 

श्री भादू ने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना तथा प्रधानमंत्री आवास योजना से गरीब परिवारों को बहुत बड़ा लाभ मिला है। उन्होंने कहा कि सड़कों का विकास बड़ी तेज गति से हुआ है तथा शेष रह गयी सड़कों का भी निर्माण करवाया जायेगा। उन्होंने कहा कि गरीब विकास व सर्वांगीण विकास के लिये कोई कोर कसर नही छोड़ेगें। उन्होंने कृषि के लिये दिये जा रहे विशेष योजना में विधुत कनेक्शन की तारीफ की तथा सूरतगढ़ क्षेत्र की खसरा भूमि को राजस्व विभाग द्वारा नापने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने भामाशाह बीमा योजना, ढाणियों में बिजली के लिये दीनदयाल उपाध्याय योजना की तारीफ की। उन्होंने कहा कि अब तक 545 ढ़ाणियां चिन्हित की गई है, जिन्हें बिजली कनेक्शन दिया जायेगा। 

आयोजित कार्यक्रम में जिले के प्रभारी सचिव श्री चेशिखर अग्रवाल, पुलिस अधीक्षक श्री हरेन्द्र कुमार महावर, मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री विश्राम मीणा, श्री हरि सिंह कामरा, श्री प्रहलाद राय टॉक, श्री पेप सिंह राठौड़, नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती काजल छाबड़ा, सरपंच श्रीमती हमीदा सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी तथा भारी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।


आयोजित कार्यक्रम में प्रधान श्रीमती बिरमा देवी, उपप्रधान श्री रामकुमार भांभू ने भी अपने विचार व्यक्त किये। आयोजित कार्यक्रम के पश्चात अतिथियों द्वारा जल बचत के लिये तैयार प्रचार रथ को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें