गुरुवार, 14 दिसंबर 2017

बाबू 40 हजार रिश्वत लेते गिरफ्तार-मुख्यमंत्री जलस्वावलंबन के बिल पास की रिश्वत

भीलवाड़ा भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने गुरुवार 14.12.2017 को चित्तौडग़ढ़ जिले के बेंगू में वन विभाग के कर्मचारी को 40 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। यह राशि जल स्वावलंबन द्वितीय चरण के तहत किए गए कार्य के बदले भुगतान करने की एवज में मांगी थी।

ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश गुप्ता को गत 4 दिसम्बर को सामरिया गांव वन प्रबंधन एवं सुरक्षा समिति प्रमुख बड़ी का खेड़ा निवासी नंदा भील और सचिव जलसागर निवासी रघुनाथ मीणा ने जल स्वावलंबन योजना में किए गए कार्य के भुगतान की एवज में रिश्वत मांगने की शिकायत की थी। परिवादियों ने बताया कि उन्होंने जल स्वावलंबन के अंतर्गत नाडी निर्माण कार्य कराया था। कार्य के चेक भुगतान के एवज में बेगूं में वन विभाग में बाबू सुनील सैनी ने 29.5 प्रतिशत कमीशन के रूप में रिश्वत की मांग की।

दो दिन पहले सुनील सैनी ने समिति के सदस्यों से 50 हजार रुपए रिश्वत के रूप में लिए थे। आरोपित सुनील सैनी वनरक्षक होकर कार्यालय में लिपिक का कार्य करता है। ऐसे में लेन-देन सुनील सैनी करता है। शिकायत के सत्यापन में ४० हजार रुपए देना तय हुआ। इस पर भीलवाड़ा एसीबी स्थित निरीक्षक निरीक्षक हनुमानसिंह चौधरी की अगुवाई में टीम तैयार की। टीम में हैड कांस्टेबल ईश्वरसिंह, रामपाल तेली, जयंत, अरविंद नारायण, अभिषेक, नेमीचंद पहाडि़या, गोपाल जोशी, हेमेन्द्र, प्रेमचंद एवं विनोद कुमार को शामिल किया गया।

टीम परिवादियों को साथ लेकर दोपहर में बेंगू पहुंची। वन विभाग के कार्यालय में सुनील सैनी बैठ मिला। परिवादी ने रिश्वत के ४० हजार रुपए सुनील को दे दिए। राशि लेने के बाद उसने पेंट की जेब में रख ली। इशारा मिलते ही एसीबी टीम ने दबिश दे दी। टीम ने उसे गिरफ्तार कर रिश्वत की राशि बरामद कर ली।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें