Wednesday, November 29, 2017

ट्रांसपोर्टर से घूस लेते थानाधिकारी और दलाल एसीबी द्वारा गिरफ्तार

घूसखोर इंस्पेक्टर और उसके दलाल को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने रंगे हाथों धर लिया। एसीबी की यह कार्रवाई राजस्थान के भरतपुर जिले के कामां में की गई। 

एसीबी द्वारा गिरफ्तार आरोपी राकेश यादव, कामां थानाप्रभारी है और उसका दलाल आरोपी प्रताप उर्फ टिंकू यादव निवासी अंबेडकर चौराहा, कामां भरतपुर है।

रिश्वत के इस खेल का खुलासा भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, जयपुर व भरतपुर की संयुक्त टीम ने एएसपी आलोक सिंहल के निर्देशन में किया गया।

 थानाप्रभारी राकेश यादव को 40 हजार रुपए और उसके दलाल टिंकू यादव को 30 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया।

आईजी वीकेसिंह के मुताबिक पहाड़ी गांव, भरतपुर निवासी कल्याण सिंह गुर्जर ने एसीबी भरतपुर व जयपुर को शिकायत की थी कि कामां थानाप्रभारी राकेश यादव उसके पांच ट्रक चलवाने की एवज में सवा एक लाख रुपए की मंथली बंधी मांग रहा है।

दबाव बनाने के लिए थानाप्रभारी ने कल्याण सिंह के तीन ट्रक व एक जेसीबी को सोमवार  27.11.2017 । पकड़ लिया। जिन्हें छोड़ने की एवज में 70 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। एसीबी ने शिकायत का सत्यापन करवाया। जिसमें मंगलवार 28.11.2017  सुबह एसएचओ राकेश यादव ने रिश्वत के 30 हजार रुपए ले लिए और बाकी 40 हजार रुपए रात को मांगे।

एडिशनल एसपी आलोक सिंघल के निर्देशन में भरतपुर एसीबी के प्रभारी इंस्पेक्टर महेश शर्मा ने रात करीब 9.30 बजे ट्रेप की कार्रवाई शुरू की।

एसीबी के सामने शिकायतकर्ता कल्याण ने कामां थानाप्रभारी राकेश यादव को फोन कर रिश्वत की रकम के बारे में बात की। तब सीआई राकेश यादव ने दलाल प्रताप उर्फ टिंकू यादव के मार्फत 40 हजार रुपए देने और उसे साथ लेकर सरकारी आवास पर बुलाया।

परिवादी कल्याण सिंह गुर्जर रिश्वत लेकर दलाल प्रताप उर्फ टिंकू यादव के यहां पहुंचा। उसने ज्योंही 40 हजार रिश्वत ली। तभी आरोपी टिंकू को एसीबी ने दबोच लिया। इसके बाद एसीबी टीम थानाप्रभारी राकेश यादव के सरकारी आवास पर पहुंची। जहां उसे भी गिरफ्तार कर लिया।

+

भरतपुर/कामां। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो टीम ने मंगलवार 28.11.2017 रात करीब दस बजे कामां थाना प्रभारी राकेश यादव को उनके सरकारी निवासी पर दलाल टिंकू यादव के माध्यम से रिश्वत लेते रंगे हाथ धरदबोचा। थाना प्रभारी ने अवैध खनन सामग्री में पकड़ी एक गाड़ी को छोडऩे की एवज में एक लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी, जिसमें आरोपित ने सुबह तीस हजार रुपए ले लिए थे।

एसीबी के आईजी बी.के.सिंह ने बताया कि भरतपुर एसीबी कार्यालय को कामां थाना प्रभारी के खनन सामग्री की पकड़ी गाड़ी को छोडऩे की एवज में रिश्वत मांगने की शिकायत मिली थी। जिस पर एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सरजीत सिंह मीना ने सत्यापन कराया।

जिसमें शिकायत सही मिली। सूचना मिली कि दलाल टिंकू यादव निवासी अम्बेडकर कामां के माध्यम से मंगलवार को रिश्वत की राशि लेने वाला है। जिस पर जयपुर व भरतपुर की टीम को कामां भेजा गया।

थाना प्रभारी ने सुबह दलाल के माध्यम से 30 हजार रुपए ले लिए जबकि शेष राशि रात में देने की तय हुई। जिस पर एसीबी ने जाल बिछाया। दलाल रात करीब दस बजे थाना प्रभारी यादव के क्वार्टर पर पहुंचा और करीब 40 हजार रुपए रिश्वत की राशि देते हुए थाना प्रंभारी को रंगे हाथ पकड़ लिया।

 साथ ही थाना अधिकारी राकेश यादव के हरियाणा के नारनौल मूल निवास पर भी अपनी टीम भेज कर कार्रवाई की है।

गाडिय़ों को नहीं पकडऩे की एवज में हर माह सवा लाख रुपए मंथली का सौदा

साथ ही दलाल टिूंक यादव को भी गिरफ्तार कर लिया। कार्रवाई की सूचना मिलने पर कामां सीओ राय सिंह बैनीवाल भी मौके पर पहुंच गए। 

एसीबी ने मीडिया को सरकारी क्वार्टर से दूर रखा। आईजी ने बताया कि थाना प्रभारी ने खनन सामग्री से भरी गाडिय़ों को नहीं पकडऩे की एवज में हर माह सवा लाख रुपए मंथली का सौदा किया था।

कामां (भरतपुर) 29.11.2017.




No comments:

Post a Comment

Search This Blog