Monday, November 20, 2017

राजस्थान में भी पद्मावती फिल्म पर किसी भी समय रोक लगाई जा सकती है।


आज  20.11.2017.राज्य के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया की अध्यक्षता में पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारियों की अहम बैठक शाम को हुई। बैठक में सिनेमा एक्ट के तहत इस फिल्म के प्रदर्शन पर राजस्थान में रोक लगाने के प्रावधानों पर विचार-विमर्श हुआ। इसके बाद संबंधित विभागों को कागजी कार्रवाई पूरी करने के निर्देश दिए गए हैं। 

इससे पहले मध्यप्रदेश,उत्तर प्रदेश,पंजाब और जम्मू कश्मीर में विवादित फिल्म पद्मावती के प्रदर्शन पर रोक लगाने की घोषणा की जा चुकी है। इसके बाद राजस्थान में इस फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने को लेकर सरकार पर दबाव बना हुआ है। सोशल मीडिया पर भी इस संबंध में राजस्थान सरकार ट्रोल हो रही है। 

राजस्थान में चित्तौड़ की महारानी पद्मावती पर बनी इस फिल्म को लेकर विरोध सबसे पहले राजस्थान में शुरू हुआ था। यहां तक कि शूटिंग के दौरान ही निर्देशक संजय ​लीला भंसाली के साथ मारपीट भी हो गई थी। अभी भी इसके विरोध में राजपूत समाज, करणी सेना, सर्व ब्राह्मण सभा समेत अनेक संगठन हैं और वे सभी इसके प्रदर्शन पर रोक लगाने की मांग कर रहे हैं। 

चार राज्यों में फिल्म पद्मावती के प्रदर्शन पर रोक लगाने की घोषणा हो चुकी है। इसके लिए इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने अपने-अपने तर्क दिए हैं

 मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पद्मावती राष्ट्रमाता है और इतिहास के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं होगी। इसलिए मध्य प्रदेश में फिल्म का प्रदर्शन नहीं होगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए फिल्म की रिलीज को लेकर आशंका व्यक्त कर चुके है।

 यूपी के ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य कह चुके है कि वे उत्तर प्रदेश में ​पद्मावती फिल्म का प्रदर्शन नहीं होने देंगे।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि इतिहास के साथ छेड़छाड़ करना सही नहीं है। इसलिए फिल्म का प्रदर्शन पंजाब में नहीं किया जाएगा।​ जिन राज्यों में फिल्म बैन को लेकर बात सामने आ रही है उनमें जम्मू व कश्मीर भी सम्मलित है।




No comments:

Post a Comment

Search This Blog