Monday, November 20, 2017

मेडिकल की 54 छात्राओं पर भारी जुर्माना: जूनियर से रैगिंग की शिकायत


रैगिंग के मामले पर बिहार के दरभंगा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल ने सख्त एक्शन लेते हुए वहां पढ़ने वाली 54 लड़कियों पर 13.50 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। इन लड़कियों के खिलाफ वहां पढ़ने वाली एक जूनियर ने शिकायत दर्ज करवाई थी।

कॉलेज प्रशासन ने हर लड़की पर 25 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है, जिसका कुल जोड़ 13.50 लाख होगा। 

यह जुर्माना 25 नवंबर तक जमा कराना है। तय दिनांक तक जुर्माना नहीं दिया तो उनके खिलाफ कोई और एक्शन भी लिया जा सकता है।

MCI के कहने पर हुआ एक्शन

क्या है मामला: मेडिकल की एक फर्स्ट ईयर की छात्रा ने अपनी सीनियरों पर आरोप लगाया था कि वे उसको कई दिनों से परेशान कर रही हैं। जिन 54 लड़कियों के खिलाफ एक्शन लिया गया है और जिसने शिकायत दर्ज करवाई है उसकी पहचान फिलहाल नहीं बताई गई है। 

कॉलेज प्रशासन ने यह एक्शन मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) की शिकायत पर लिया है। एक्शन के लिए MCI ने ही कॉलेज को पत्र लिखा था। हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कॉलेज के प्रिंसिपल ने बताया कि शिकायत पर कार्रवाई एंटी रैगिंग लॉ के तहत हो रही है।

दरभंगा। एक जूनियर से रैगिंग मामले में दोषी दरभंगा मेडिकल कॉलेज की 54 छात्राओं पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया। इन छात्राओं पर शुक्रवार को प्राचार्य डॉ. आरके सिन्हा ने ये कार्रवाई की।

छात्राओं को ये राशि 25 नवंबर तक जमा करानी होगी। ऐसा नहीं करने की सूरत में छात्राएं क्लास अटेंड नहीं कर सकेंगे। वहीं मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने इनके अभिभावकों को भी बुलाया है।

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई), दिल्ली के आदेश पर गठित जांच टीम की रिपोर्ट आने के बाद यह कार्रवाई हुई। ओल्ड छात्रावास की एक छात्रा ने रैगिग से तंग आकर 11 नवंबर को एमसीआई से शिकायत की थी। अपनी शिकायत में छात्रा ने सीनियर्स पर बदसलूकी के साथ ही मारपीट के आरोप लगाए थे और खुद के तनाव में आने की बात भी लिखी थी।

16 नवंबर को एमसीआई ने प्राचार्य को सख्त कार्रवाई का आदेश दिया। कहा कि आरोपी छात्राओं को चिह्नित कर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आधार पर प्राथमिकी दर्ज कराई जाए। उसी दिन प्राचार्य ने सात सदस्य कमेटी बनाई। एमबीबीएस के पहले और तीसरे सेमेस्टर की सभी छात्राओं को 17 नवंबर को प्राचार्य ने अपने चैंबर में तलब किया।

शुक्रवार को दोनों सेमेस्टर की छात्राएं कमेटी और प्राचार्य के समक्ष दोबारा पेश हुईं। कमेटी के सामने छात्राओं ने रैगिंग की बात को सिरे से खारिज कर दिया। तब छात्राओं से कहा गया कि अगर यहां शिकायत करने में परेशानी हो तो गुप्त रूप से जानकारी दें। इस पर छात्राओं ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इसके बाद प्राचार्य ने दोनों सेमेस्टर की छात्राओं आदेश दिया।

दरभंगा 19.11.2017.

 


No comments:

Post a Comment

Search This Blog