गुरुवार, 21 सितंबर 2017

हरियाणा में खराब रिपोर्ट वाले विधायकों को​ टिकट नहीं मिलेगा

हरियाणा में भाजपा के जिन विधायकों  के खराब रिपोर्ट​ कार्ड मिलेंगे उनके टिकट कटना तय माना जा रहा है।

हरियाणा की भाजपा सरकार के कामकाज का मूल्यांकन शुरू हो गया है। भाजपा हाईकमान राज्य में एक ऐसा सर्वे करा रहा, जिसके जरिए न केवल विधायकों की छवि का पता चल सकेगा, बल्कि सरकार की जनता में लोकप्रियता का पैमाना भी तय होगा। इस सर्वे के आधार पर पार्टी भविष्य में कड़े निर्णय ले सकती है। कई विधायकों के टिकट कट सकते हैैं तो कुछ विधायकों पर पार्टी फिर से दांव खेल सकती है।

भाजपा हाईकमान द्वारा कराया जा रहा सर्वे हिंदी में है। सांसदों की कार्य प्रणाली का फीडबैक पार्टी पहले ही ले चुकी है, जिसमें चार सांसदों को पार्टी की सेहत के लिए नुकसानदायक माना गया। मौजूदा सर्वे में चार पेज की प्रश्नावली के जरिए लोगों से उनकी राय जानी जा रही है। दिल्ली की एक निजी कंपनी को सर्वे की जिम्मेदारी सौंपी गई है।


भाजपा अध्यक्ष अमित शाह हाल ही में हरियाणा के दौरे पर आए थे। उनके जाने के करीब डेढ़ माह बाद शुरू हुए इस सर्वे को अगली चुनावी तैयारी से जोड़कर देखा जा रहा है। सर्वे के दौरान भाजपा अपनी सरकार के मुख्यमंत्री के बारे में भी लोगों की राय जान रही है। साथ ही लोगों से पूछा जा रहा कि यदि आज चुनाव हो जाए तो वे किस पार्टी को वोट डालेंगे।


सर्वे में पूछे जा रहे सवाल 


1. आपके क्षेत्र की सबसे बड़ी समस्या क्या है?
2.  क्या आपके विधायक ने आपकी समस्याओं को सुलझाने के लिए काम किया?
3. क्या वर्तमान राज्य सरकार ने आपकी समस्याओं को हल करने के लिए काम किया?
4. आपके विधायक ईमानदारी और छवि के मामले में कैसे हैैं?
5. जब आपको जरूरत होती है, क्या विधायक उपलब्ध रहते हैैं?
6. आपके क्षेत्र में राज्य सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि क्या है?
7. क्या राज्य की भाजपा सरकार के कामकाज से आप संतुष्ट हैैं?
8. क्या राज्य सरकार अपने चुनावी वादों को पूरा कर पाई है?
9. पिछली सरकार और वर्तमान राज्य सरकार में आप किसको बेहतर मानते हैैं?
10. राज्य सरकार ने जो 10 बड़े काम किए, उनके बारे में आपकी क्या राय है?
11. आपके राज्य के मुख्यमंत्री की छवि कैसी है?
12. मुख्यमंत्री के काम को एक से दस तक के स्केल पर कितने अंक देंगे?
13. यदि आप मुख्यमंत्री को छह से कम अंक देंगे तो उसका कारण भी बताएं?
14. अगर कल चुनाव हो जाएं तो आप किस पार्टी को वोट देंगे?
जागरण
21.9.2017.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें