Tuesday, September 19, 2017

गुजरात में तीसरा मोर्चा:बागी कांग्रेस नेता​ शंकर सिंह बाघेला ने करदी घोषणा


बागी कांग्रेस नेता शंकर सिंह वाघेला ने अहमदाबाद में मंगलवार को गुजरात में एक तीसरे मोर्चे के गठन की घोषणा की। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करेत हुए वाघेला ने कहा, “यह कहना मिथक है कि गुजरात में कोई वैकल्पिक राजनीतिक बल काम नहीं कर सकता।” हालांकि उन्होंने साफ तौर पर कहा कि वह स्वयं चुनाव नहीं लडेंगे। पिछले महीने कांग्रेस के खिलाफ विद्रोह करने वाले वाघेला ने कहा कि लोग भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस से उकता गए हैं और एक विकल्प के लिए बेताब हैं। उन्होंने जनविकल्प अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव प्रणाली जैसा सीधी जनभागीदारी का प्रयोग होगा। उन्होंने कहा कि देश के प्रत्येक राज्य में तीसरा मोर्चे है और जनविकल्प गुजरात में ऐसी भूमिका निभाएगी।

नवरात्रि से शुरू करेंगे चुनाव प्रचार

गत 21 जुलाई को अपने 77 वें जन्मदिवस पर कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष पद छोड़ने तथा पार्टी से नाता तोडने वाले वाघेला ने मंगलवार  19 सितंबर को कहा कि वह 21 सितंबर को नवरात्रि के पहले दिन से चुनाव अभियान की शुरुआत अंबाजी से करेंगे। कांग्रेस चुनाव नहीं जीतने वाली और 20 साल के भाजपा के शासन के प्रति भी लोगों में नाराजगी है। नया मोर्चा सभी 182 सीटों पर प्रत्याशी उतारने का प्रयास करेगा। इनका चयन स्थानीय जनता के माध्यम से स्वयंसेवियों की ओर से भेजे गए तीन नामों में से किया जाएगा। 


नाकारात्मक राजनीति नहीं करेंगे

देश में लोकतंत्र होने के बावजूद दलों में आंतरिक लोकतंत्र नहीं है और ये आलाकमान की व्यवस्था से चलते हैं। जनविकल्प इसके उलट एक प्रयोग है। वह नकारात्मक राजनीति नहीं करेंगे और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, अमित शाह, सोनिया गांधी अथवा राहुल गांधी पर व्यक्तिगत आक्षेप न कर उनकी सरकारों पर ही टिप्पणी करेंगे। जनविकल्प में जनता से जुडे मुद्दों पर आधारित सिद्धांत को स्वीकार करने वाले सभी का स्वागत होगा चाहे वह किसी भी दल का हो। राज्य में सबसे अधिक युवाओं और महिलाओं के मुद्दों के समाधान की जरूरत है।


हार्दिक पटेल से कोई संपर्क नहीं किया

वाघेला ने कहा कि जनविकल्प ने पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल अथवा ओबीसी एकता मंच के अल्पेश ठाकोर से न तो संपर्क किया है न ही उन दोनों ने बघेला से कोई संपर्क किया है। जन विकल्प जाति आधारित राजनीति का समर्थक नहीं है। यह गैर आरक्षित वर्गों के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को 25 प्रतिशत आरक्षण देने के लिए विधानसभा और संसद की मदद से कानून बनाने का समर्थक है। यह आरक्षण मौजूदा साढे़ उन्चास प्रतिशत के अतिरिक्त होगा। तमिलनाडु में ऐसी व्यवस्था है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में जाने वाले विधायक उनके इशारे पर नहीं गये बल्कि पार्टी ने उनकी बात न सुनकर एक तरह से उन्हें धक्का मार कर भाजपा में भेज दिया है। उन्होंने कहा कि उनके पुत्र महेन्द्रसिंह वाघेला भाजपा में जायेंगे या नहीं यह उन्हीं से पूछा जाना चाहिए।

अहुमदाबाद 19.9.2017.


No comments:

Post a Comment

Search This Blog