Saturday, September 23, 2017

फलाहारी बाबा बलात्कार मुकदमें में गिरफ्तार


अलवर। पुलिस ने फलाहारी बाबा को आश्रम की तलाशी व काफी पीड़ित लड़की द्वारा घटना स्थल को दिखाने व   पूछताछ के बाद 23  सितंबर को गिरफ़्तार कर लिया। बाबा की सरकारी चिकित्सालय में जांच कराने के बाद अदालत में पेश किया गया।

 यौन शोषण के आरोपी फलाहारी महाराज को कोर्ट ने छह अक्टूबर तक ​के लिए न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है। पुलिस ने अदालत को कहा कि बाबा अपना अपराध कबूल कर चुका है और अधिक पूछताछ की जरूरत नहीं है।

पुलिस बाबा को कोर्ट में लेकर पहुंची, तो बाबा ने मीडिया से कहा कि मुझे फंसाया गया है, मैं पूर्ण रुप से निर्दोष हूं। बाबा ने कहा कि उन्हें न्यायालय पर भरोसा है। इस दौरान कोर्ट में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात था।

वहीं आज सुबह पुलिस ने बाबा को गिरफ्तार करने से पूर्व ​निजी अस्पताल में ही लंबी पूछताछ की थी। इसके बाद बाबा का पुलिस ने अलवर के सरकारी अस्पताल में मेडिकल बोर्ड द्वारा मेडिकल कराया, जहां उसके स्वस्थ होने की रिपोर्ट आई है।

फलाहारी महाराज यानि रामानुजाचार्य कौशलेन्द्र प्रपन्नाचार्य के कमरे से जो सामान मिला हैं उसे देखकर पुलिस ही नहीं बल्कि उसके भक्त भी दंग रह गए। इसके बाद भी भक्तों ने जहां आंखों पर पट्टी बांधी हुई है वहीं पुलिस की काम करने की प्रक्रिया धीमी है। अलवर पुलिस पीड़ित बिलासपुर की इस युवती को फिर से आश्रम ले गई बाबा के कमरे की तस्दीक कराई जहां बाबा ने उसके साथ दुष्कर्म किया।


क्या क्या मिला कमरे से


एएसपी पारस जैन ने बताया कि रामकिशन कॉलोनी स्थित मधुसूदन सेवा आश्रम के कमरे में बाबा का निवास स्थान है। इस कमरे से बहुत बड़ी मात्रा में जड़ी बूटियां मिली हैं। इसके अलावा एक दर्जन से भी अधिक महिलाओं के पैरों में पहने जाने वाली पायल मिली हैं। पुलिस यह जानने का प्रयास कर रही है कि ये पायल बाबा के कमरे में कहां से आई और बाबा इनका क्या करता होगा। पुलिस ने कमरे से बाबा का लैपटॉप और कैमरा भी बरामद किया है। यानि बाबा हाईटैक था। क्योंकि सन्यासी या आध्यात्मिक पुरुष को इन सब चीजों की जरूरत नहीं होती।


बाबा के बिलासपुर आश्रम में भी छापा


बिलासपुर पुलिस ने बाबा के छत्तीसगढ़ के बिलासपुर के समीप पेन्ड्रा स्थित आश्रम पर भी छापा मारा है। इस आश्रम में राजस्थान के करीब एक दर्जन से अधिक लोग निवास करते हैं। वहां भी पुलिस ने बाबा के एक दर्जन से अधिक शिष्यों से पूछताछ की है। आश्रम में आस-पास से बड़ी संख्या में अनुयाई आते हैं। बाबा के अनुयाइयों में बड़ी तादात महिलाओं की है जिनसे बाबा अकेले में मिलता था।


शादी शुदा है बाबा


उधर पीड़िता के पिता ने बताया कि बाबा शादीशुदा है और उत्तरप्रदेश के कौशम्बी का रहने वाला है। बाबा के पत्नी और पुत्री भी है। बाबा का उत्तराधिकारी सुदर्शनाचार्य बाबा का भानजा है जो कि यहां अलवर में ही बाबा के साथ आश्रम में रहता है। बाबा के अलावा उसके दो और सगे भाई हैं और इनमें बाबा सबसे बड़ा है।


No comments:

Post a Comment

Search This Blog