मंगलवार, 19 सितंबर 2017

राजस्थान में 12 नवम्बर को करेंगे तीसरे मोर्चे की घोषणा-घनश्याम तिवाड़ी श्रीगंगानगर में।

और

राजस्थान के पूर्व शिक्षा मंत्री और भाजपा में सीएम वसुंधरा के विरोधी नेता घनश्याम तिवाड़ी ने कहा है कि उन्होंने राज्यभर में लोकसंग्रह अभियान शुरू कर रखा है।

भाजपा नेता घनश्याम तिवाड़ी ने कहा है कि उन्होंने राज्यभर में लोकसंग्रह अभियान शुरू कर रखा है जो 10 नवम्बर को सम्पन्न हो जाएगा। इसके बाद सीकर के रामलीला मैदान में तीसरे मोर्चे के गठन का ऐलान किया जाएगा। वे सोमवार 18.9.2017 को यहां किसान अधिकार यात्रा में भाग लेने आए हुए थे। 

उन्होंने कहा कि राज्य में सामन्तशाही शासन चल रहा है। जिससे किसान, मजदूर, व्यापारी और छात्रों सहित सभी वर्ग त्रस्त हैं। ऐसे शासन से मुक्ति के लिए राज्य में तीसरे मोर्चे की जरूरत है। जब उनसे सवाल किया गया कि तीसरे मोर्चे का गठन कर रहे हो और भाजपा भी नहीं छोड़ रहे हो तब यह कैसे संभव है? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि पार्टी उन्हें निकाल दे।

तिवाड़ी ने खुलेआम स्वीकार किया कि उन्होंने सीएम हटाने की मुहिम शुरू कर रखी है जिसे हर वर्ग से समर्थन मिल रहा है। सीएम के पिछले कार्यकाल, जिसमें वे मंत्री थे, सरकार में रहते हुए सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध किया था।

एक पत्रकार ने तिवाड़ी से सवाल किया कि उनकी पार्टी का स्वरूप कैसा होगा तो उन्होंने कहा कि इसमें राइट टू एज्यूकेशन, राइट टू ट्रेवल, राइट टू हैल्थ ( शिक्षा चिकित्सा. व यात्रा का अधिकार होगा,)

 तिवाड़ी ने आरोप लगाया कि सरकार शिक्षा का निजीकरण कर रही है और रोडवेज को बंद करने की नीति पर चल रही है। 

तिवाड़ी ने कहा कि किसान, मजदूर, व्यापारी और विद्यार्थी के हित की रक्षा उनकी नयी पार्टी में की जाएगी। सर्वजन हिताय और सर्वजन सुखाय की नीति को लेकर पार्टी चलेगी।

एसआईआर बिल काला कानून

विधानसभा में पेश    *एसआईआर बिल काला कानून*विधानसभा में पेश एसआईआर बिल को उन्होंने काला कानून बताते हुए इसे तुरन्त खारिज करने की मांग की। पूर्व शिक्षामंत्री ने कहा कि इस कानून के तहत तीन लोग मिलकर किसान की जमीन हड़प लेंगे। इसमें किसान को अपना पक्ष रखने का अधिकार भी नहीं होगा। गुजरात यह कानून पहली बार आया, जिसके तहत हजारों किसानों की जमीनें ले ली गई।

 *तीसरे मोर्चे को बताया पहला मोर्चा*

एक सवाल के जवाब में तिवाड़ी ने कहा कि राज्य में तीसरे मोर्चे की जरूरत है। ऐसे मोर्चा पहले भी सफल होते रहे हैं। खुद की पार्टी को उन्होंने पहला मोर्चा बताया। उन्होंने कहा कि हर वर्ग उनके साथ जुड़ रहा है और वह सफल रहेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें