सोमवार, 3 जुलाई 2017

विधायक पुलिस के विरुद्ध देंगे धरना: भ्रष्टाचारी​ के आरोप




अलवर 3 जुलाई 2017.

राजस्थान की भाजपा की अपनी ही सरकार के खिलाफ भाजपा के एमएलए मोर्चा खोल रहे हैं। वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी के बाद अब ज्ञानदेव आहूजा ने भी यही रास्ता अपनाया है।

दलित अत्याचार और लव जिहाद जैसे मामलों को लेकर अलवर के रामगढ़ से भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने अपनी ही सरकार के गृह मंत्री पर निशाना साधा है। इतना ही नहीं 4 जुलाई को वे अपनी मांगों को लेकर धरने पर भी बैठेंगे।

अलवर के सर्किट हाउस में मीडिया से बात करते हुए विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने कहा कि मंगलवार को वे रामगढ़ थाने पर धरना देंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले काफी समय से रामगढ़ थाना अधिकारी और सीओ साउथ अनिल बेनीवाल कुछ लोगों के साथ मिलकर अवैध खनन के डंपरों के जरिए लाखों रुपए की कमाई कर रहे हैं।

आहूजा के अनुसार खनन माफिया विधायक की बातों को अनसुना कर दलित लोगों पर अत्याचार कर रहे हैं। लव जिहाद की शिकायतों पर भी कार्रवाई नहीं हो रही है। इस सम्बंध में पुलिस अधीक्षक को भी शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने एक बार फिर अपनी ही सरकार की कार्यशैली पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि जिले व रामगढ़ में कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ती जा रही है। उन्होंने पुलिस पर सवालिया निशान लगाते हुए आगामी 4 जुलाई को रामगढ़  पुलिस थाने पर धरना, प्रदर्शन कर घेराव की चेतावनी दी है।

इससे पूर्व विधायक आहूजा शुक्रवार 30 जून को रामगढ़ स्थित भाजपा कार्यालय पर संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।

भाजपा विधायक आहूजा ने प्रेसवार्ता में आरोप लगाया कि जिले में कानून व्यवस्था बिगड़ती जा रही है। जिले में रामगढ़ समेत अन्य कई स्थानों पर लव जेहाद की घटनाएं हुई हैं और पुलिस इन घटनाओं के आरोपितों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। उन्होंने कहा कि उनकी तीन मांगें प्रमुख हैं।

इनमें जिले में बिगड़ती कानून व्यवस्था में सुधार कराने, जिले में बढ़ रही लव जेहाद की घटनाओं पर रोक तथा एेसी घटनाओं के आरोपितों की गिरफ्तारी कर पीडि़त पक्ष की लड़की की बरामदगी कराने और रामगढ़ पुलिस थाने के स्टॉफ का स्थानांतरण शामिल है। हालांकि थाने में अच्छा काम करने वाले दो-तीन पुलिसकर्मियों को छोड़कर शेष स्टाफ को बदलने कीे जरूरत बताई।

विधायक ने चेतावनी दी कि उनकी मांगों पर कार्रवाई नहीं हुई तो पहले चार जुलाई को रामगढ़ पुलिस थाने में धरना दिया जाएगा। इसके बाद जरूरत पड़ी तो जिला मुख्यालय स्थित पुलिस अधीक्षक कार्यालय के अंदर और इस पर भी मांगों का निराकरण नहीं हुआ तो प्रदेश पुलिस मुख्यालय पर धरना दिया जाएगा।

आहूजा ने कहा कि उन्हें पता है कि राज्य में भाजपा की सरकार और वे स्वयं भाजपा के विधायक हैं, खुद अपनी ही सरकार के खिलाफ धरना-प्रदर्शन नहीं करना चाहिए, लेकिन जिले में कानून व्यवस्था बिगडऩे के कारण उन्हें मजबूर होना पड़ रहा है।

भाजपा विधायक ने राज्य व केन्द्र सरकार की ओर से संचालित विभिन्न योजनाओं व नीतियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि दोनों ही स्थानों पर हमारी सरकारें अच्छा काम कर रही हैं। वार्ता के दौरान पार्टी की महिला मोर्चा अध्यक्ष जसबीर कौर, मण्डल अध्यक्ष गोपाल ठेकेदार, शिवलाल राजपूत, मनोज खण्डेलवाल, लक्की कुकडेजा,महेश साहू, अमनसिंह, कैलाश खण्डेलवाल, रामजीलाल यादव, वीरसिंह, मनीष गर्ग सहित अन्य पदाधिकरी मौजूद थे।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें