सोमवार, 17 जुलाई 2017

गौ माता का दूध सड़कों पर बिखेरना गैरजिम्मेदाराना व नासमझी का कार्य

- करणीदानसिंह राजपूत-

राजस्थान में शहरों में दूध नहीं​ पहुंचाना उचित मगर सड़कों पर बिखेरना भी अनुचित व गैर जिम्मेदाराना प्रदर्शन था।

 किसान संगठनों द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर  17 जुलाई को गांवों में प्रातः 8 बजे से 12 बजे तक चक्का जाम व एक समय का दूध, फल, सब्जी जिन्स आदि सामान की शहर में सप्लाई बंद  करने का कार्यक्रम घोषित था। मुख्य सड़कों पर जाम सफल रहा। 

कई स्थानों पर दूध को बिखेरने का कार्य हुआ। चाहे यह कदम उकसाने से किया हो, लेकिन यह गलत था। गौ माता का अपमान ही हुआ।भविष्य में ऐसा कदम नहीं उठाने की कसम लेनी चाहिए। 

मीडिया में खबर बनाने के लिए सड़क पर टायर जलाकर प्रदर्शन करने कराने की घटनाएं होती रही हैं और उसमें अब दूध सड़कों पर बिखेरते दिखलाना! किसानों को ही सोचना चाहिए। शहरों में दूध नहीं देना था लेकिन दूध का उपयोग गांवों में कर लिया जाता।





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें