Monday, July 10, 2017

सूरतगढ में जिला स्तरीय वृक्षारोपण:हनुमान खेजड़ी मंदिर वृक्षकुंज:स्पेशल रिपोर्ट

- करणीदानसिंह राजपूत-

सूरतगढ़, 10 जुलाई 2017.जल संसाधन मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. रामप्रताप ने कहा कि प्रदेश की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे द्वारा प्रारम्भ की गई मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के सकारात्मक परिणाम दिखने लगे हैं।प्रदेश में बहुत सारे क्षेत्र में जल स्तर नीचे चले जाने से डार्क जोन घोषित कर दिया गया था। इस योजना के पश्चात डार्क जोन धीरे-धीरे समाप्त हो रहा है तथा भूमि का जल स्तर बढ़ रहा है। 

डॉ. रामप्रताप सोमवार को सूरतगढ़ में वन विभाग द्वारा आयोजित 68 वें वन महोत्सव के जिला स्तरीय कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान को लेकर माननीय मुख्यमंत्री भी बहुत गंभीर है। उन्होंने मुझे एक दिन में तीन जिलों में जाने के निर्देश दिये थे। आज के दिन श्रीगंगानगर, बीकानेर व हनुमानगढ़ जिले में जल स्वावलम्बन अभियान के तहत वृक्षारोपण के कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे है, जिसमें मुझे शामिल होना है। 

उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वज खेजड़ी के पेड़ लगाया करते थे तथा वृक्षों की पूजा करना भी हमारे धर्म ग्रंथों में है। उन्होंने कहा कि खेजड़ी का पेड़ मानव जीवन तथा पशुओं के लिये भी बहुत उपयोगी है। खेजड़ी के पेड़ के नीचे फसल दौगुणी होती है, जिसका लाभ किसान को मिलता है। खेजड़ी की सांगरी भी सब्जियों के रूप में उपयोग में ली जाती है। अधिक वृक्षारोपण करने तथा जल स्वावलम्बन अभियान से प्रदेश भर के तापक्रम में भी कमी आयी है तथा जहां वर्षा नही होती थी, उस क्षेत्र में भी बाढ़ जैसे हालात बना दिये हैं।टिब्बा क्षेत्रों में भी अच्छी बरसात हुई है। यह सभी पेड़ों की देन है। उन्होंने कहा कि पेड़ को लगाना जितना जरूरी है, उतना ही पेड़ को जीवित रखना भी जरूरी है। 


सूरतगढ़ विधायक श्री राजेन्द्र सिंह भादू ने कहा कि जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप ने माननीय मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे से मिलकर इस टिब्बा क्षेत्र को हरा भरा बनाने की सौगात इस क्षेत्र के किसानों को दी है। उन्होंने कहा कि किसानों को कृषि के लिये कृषि कनेक्शन मिलने से टिब्बा क्षेत्र भी लहलहाने लगेंगे, जिससे आमजन का जीवन स्तर सुधरेगा। यह सरकार की किसानों के लिये बहुत बड़ी सौगात है। टिब्बा क्षेत्र भी अन्य नहरी क्षेत्रों की तरह हराभरा होगा। 

श्री भादू ने कहा कि हनुमानजी की खेजड़ी मंदिर समिति के पदाधिकारी बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं तथा वृक्षकुंज भी इनकी देखरेख में पलेगा, ऐसी मैं उम्मीद करता हूं। उन्होंने वृक्षारोपण के लिये 28 बीघा भूमि देने पर समस्त नगरपालिका मंडल का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि वृक्षकुंज को संभालने का कार्य आमजन का होगा। उन्होंने कहा जो भी नागरिक मंदिर के दर्शन करने आये, वे एक पौधे को जरूर सिंचित करें। उन्होंने मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान को एक क्रांतिकारी कदम बताया तथा कहा कि प्रदेश की मुख्यमंत्री जब सूरतगढ़ दौरे पर आयेगी, तब उन्हें वृक्ष कुंज अवश्य दिखाया जायेगा। 

जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम ने कहा कि वृक्षारोपण का कार्य एक पुनीत कार्य है। जो निरन्तर चलता रहना चाहिए। परिवार में किसी सुअवसर पर भी वृक्षारोपण कर, कार्य की शुरूआत करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री ने जलस्वावलम्बन अभियान को गांवों के साथ-साथ शहरों में भी शुरू किया है। अभियान के दूसरे चरण में गंगानगर शहर व सूरतगढ़ शहर को शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि पेड़ों की रक्षा करना आम नागरिक का धर्म है और आज जिस वृक्षकुंज की शुरूआत की जा रही है, वह इस क्षेत्र के लिये उपयोगी साबित होगी। उन्होंने मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान में आमजन का सहयोग करने का आह्वान किया।

सभी को शपथ दिलवाई

आयोजित कार्यक्रम में सभी जनप्रतिनिधियों, आमनागरिकों, युवाओं तथा छात्र-छात्राओं को शपथ दिलाई कि राजस्थान मेरा प्रदेश है, जिसकी जल मृदा एवं वृक्ष संपदा हमारी धरोहर है। मैं सत्य निष्ठा के साथ ईश्वर को साक्षी मानकर प्रतिज्ञा करता हूं/करती हूं कि मैं मेरे द्वारा रोपित पौधों एवं राज्य की जल संरक्षण सरंचनाओं एवं मृदारोपी धरोहर की एक सजग प्रहरी के रूप में सदैव रक्षा करूंगा। उनकी सुरक्षा एवं उनके संवर्द्धन के लिये मन, वाणी एवं कर्म से प्रयत्नशील रहूंगा।

वट वृक्ष की पूजा अर्चना के साथ पौधारोपण की शुरूआत

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के तहत आयोजित वन महोत्सव कार्यक्रम में धार्मिक परम्पराओं के अनुरूप वट वृक्ष की पूजा अर्चना की गई तथा जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप, जिला कलक्टर श्री ज्ञानाराम, पुलिस अधीक्षक श्री हरेन्द्र महावर, विधायक श्री राजेन्द्र सिंह भादू, सीआरपीएफ के आईजी श्री गिरिश चावला ने वटवृक्ष का पौधारोपण कर वृक्षकुंज की शुरूआत की।


 वन विभाग के उपवन सरंक्षक श्री आशुतोष ओझा ने बताया कि सूरतगढ़ में प्राप्त 7 हैक्टर भूमि में 1750 पौधे लगाये जायेंगे तथा वन महोत्सव के अवसर पर पूरे जिले में आज के दिन 7 हजार पौधे लगाये जायेंगे। 


आयोजित कार्यक्रम में वृक्षकुंज की पटिट्का का अनावरण किया तथा रिबन काटकर वृक्षकुंज कार्यक्रम की शुरूआत की, अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित किया तथा विभिन्न विद्यालयों की छात्राओं ने सरस्वती वंदना, स्वागत गीत के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। 


 कार्यक्रम में सूरतगढ़ एडीएम श्री चांदमल, सीआरपीएफ के डीआईजी श्री सूरजपाल वर्मा, नगरपालिका सूरतगढ़ की अध्यक्ष श्रीमती काजल छाबडा, पंचायत समिति सूरतगढ की प्रधान श्रीमती बिरमा देवी, विकास अधिकारी श्रीमती रोमा सहारण,श्री नरेन्द्र राठी, सहित गणमान्य नागरिक व विद्यालयों के विद्यार्थी उपस्थित थे। 



No comments:

Post a Comment

Search This Blog