Friday, June 16, 2017

मोदी जी, कपड़ा कारोबार का दर्दनाक सच्च जानें और आप से भी ये सवाल हैं



जीएसटी के तानाशाही नियम के विरोध में देशभर का कपड़ा कारोबार 15 जून 2017 को बंद रहा





सम्माननीय भारत के क्रांतिकारी ,नए डिजिटल  भारत के शिल्पिकार प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र जी मोदी,


आप को बहुत बहुत बधाई की आप केश लेस, डिजिटल भारत बनाना चाहते है।आप ने Gst रूपी सबका साथ सबका विकास का फॉर्मूला लाये और सबको ईमानदार बनाने के लिये इसमें आप ने प्रत्येक महीने में तीन बार ऑन लाइन रिटर्न और भूल होने पर जेल की सजा और 75 लाख की बिक्री पर सभी लेन देन ऑन लाइन।
बहुत बढ़िया फॉर्मूला लाये आप ने मोदी जी।इसका हम सब व्यव्सायी स्पोर्ट करते हे पर कुछ हमारे निवेदन हे हमारे देश के भाग्य विधाता श्रीमान मोदी जी आप से सिर्फ इनके जबाब आप जरूर देवे-
1/ आप सबसे पहले उदाहरण पेश करते हुवे अपने पार्टी के एकाउंट और लेन-देन पब्लिक के सामने हर 10 दिन में रखे।
2/ एक -एक रूपए का लेन-देन या चन्दा हो कहा से कैसे और किसने दिया जनता के सामने 10-10 दिन में डाटा के साथ रखे।
3/ आप के सुपर डुपर जुलूस, रैली के खर्चे भी 10-10 दिन के अंतराल में पब्लिक के सामने रखे।
4/ आपने पार्टी के प्रचार प्रसार के खर्चे भी पब्लिक के सामने 10-10 दिन के अंतराल में रखे।
5/ आप के और आप के पार्टी के प्रचार-प्रसार में करोड़ों कैडर जो दिन रात आप की सेवा में लगे रहते है उनका और उनके परिवार का खर्चा कहां से आता है 10-10 दिन के अंतराल में पब्लिक के सामने रखें।
6/ आप के विदेश दौरे का खर्चे का हिसाब 10-10 दिन के अंतराल में पब्लिक के सामने रखे।
7/ आप के प्रत्येक मंत्रालय के आय व्यय का हिसाब पब्लिक के सामने 10-10 दिन के अंतराल में रखे।
8/ आप ने चुनाव से पूर्व जो वादे किए और उनमे से कितने वादे आपने अभी तक पूरे किये वो पब्लिक के सामने रखें।
9/ आप ने कितनो को नोकरी दी वो हर 10-10 दिन में पब्लिक के सामने रखें।
10/ आप ने मेक इन इंडिया के तहत कितनी कम्पनियों की स्थापना करवाई पब्लिक के सामने रखें।
11/आप ने डिजिटल इंडिया के तहत करोड़ों पब्लिक के लिये क्या क्या और कैसी व्यवस्था की पब्लिक के सामने हर 10-10 दिन में रखें।
ऐसे हजारों प्रश्न है प्रधान मंत्री जी इन पर आज से आप पब्लिक के सामने रखें फिर हर आदेश को हम सर अाँखों पर सम्मान करते हुए मानेंगे और जो नहीं मानेंगे उनको भी मनवाने की कोशिश करेंगे।

प्रधानमन्त्री जी आप ने तो सभी बैंक कंप्यूटराइज होने के बाद भी लग-भग 8 महीने के बाद भी कितने के कितने नॉट और टोटल कितने नॉट बैंक में जमा हुऐ हिसाब नहीं दे सके और कम पढे़ लिखे साधारण व्यापारियों से महीने में 3 और एक वर्ष में 37 रिटर्न वो भी पूर्ण स्टॉक और सही हिसाब वरना जेल की सजा।
घर परिवार एक व्यवसाई कैसे चलाता है, वो आप क्या जानो मोदी जी। आप को कभी कमाने का मौका ही नहीं मिला।
एक व्यापारी रात दिन मेहनत कर अपना,अपने परिवार के साथ अपने से जुड़े लोगों के पेट पालने में सब कुछ गंवा देता है।
मोदी जी आप के पास अभी तो सभी साधन,संसाधन हैं एक बार इसके बारे में सर्वे करा कर तो देखे।
आज  भी संपूर्ण भारत वर्ष में जो भी सामाजिक,धार्मिक और सेवा के कार्यो में सबसे आगे आप को बिजनसमेन ही मिलेंगे।
कपड़ा व्यापार में आज भी कम शिक्षित वर्ग कपड़ा का व्यापार करते हैं और संपूर्ण भारत वर्ष में जितने कपड़े के व्यापार से जुड़े उन्में से 60-70% कंप्यूटर चलाना नहीं जानते ना ही कंप्यूटर द्वारा बिलिंग करते हैं।
5% टेक्स लगाना ही था तो एक जगह ले लेते इस तरह परेशान करने से क्या मेक इन इंडिया सफल होगा।
हिंदुस्तान के लोगों को सफल करना है तो जो दूसरों से चाहते हो वो पहले आप करें फिर हमें कहें हम हँसते हँसते स्वीकारेंगे।

बच्छराज बोथरा,

मंत्री-चेंबर ऑफ़ टेक्सटाइल एसोसियट्स -सिलीगुड़ी

No comments:

Post a Comment

Search This Blog