Thursday, June 1, 2017

सूरतगढ़ के दो इंजीनियरों को सीबीआई कोर्ट से कारावास की सजा

सूरतगढ़ के दो इंजीनियरों  को सीबीआई कोर्ट से सजा
दि1-6-2017.
 सूरतगढ़ के ठेकेदार चैन सिंह राठौड़ ने रिश्वत लेते गिरफ्तार करवाया था। सेना के एम ई एस विभाग के सहायक इंजीनियर जनार्दन प्रभु को 4 साल कैद और ₹3000 जुर्माना और सहायक इंजीनियर विजय कुमार को 3 वर्ष कैद की सजा और 2000रुपए जुर्माने की सजा से दंडित किया गया है। सीबीआई अदालत जोधपुर द्वारा 31 मई को सुनाए गये फैसले का मामला 2014 का है।
सीबीआई की विशेष अदालत जोधपुर के मजिस्ट्रेट एम आर सुथार ने दोनों इंजीनियरों को रिश्वत लेने का दोषी मानते हुए यह सजा सुनाई।
 एमईएस के ठेकेदार चैन सिंह राठौड़ सूरतगढ़ ने जून 2014 में बिल पास करने की एवज में रिश्वत मांगने की शिकायत की। सीबीआई ने शिकायत का सत्यापन करवाया। सीबीआई टीम ने
12 जून 2014 को  जनार्दन परब को ₹40000 की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया।
जनार्दन परब ने अपने बयान में कहा कि ₹20000 खुद के लिए और ₹20000 विजय कुमार के वास्ते लिए हैं। सीबीआई ने अनुसंधान के बाद 27 फरवरी 2015 को दोनों इंजीनियरों के विरुद्ध अदालत में चालान पेश किया। 28 सितंबर 2015 को दोनों के विरुद्ध अदालत में आरोप तय किए गए। सीबीआई ने अपनी ओर से 12 गवाह पेश किए इस प्रकरण में 25 मई 2017 को अंतिम बहस हुई। अदालत ने दोनों को दोषी माना और 31 मई 2017 को अपना निर्णय सुनाया।
**********************************

दीप विजुअल एंड आई केयर

भगत सिंह चौक सूरतगढ़।

25 साल में से सर्वश्रेष्ठ सेवा देने में आगे इलाके का उत्तम चश्मा घर जहां सभी सुविधाएं उपलब्ध।


***********************************







No comments:

Post a Comment

Search This Blog