Saturday, May 27, 2017

आम आदमी पार्टी सूरतगढ़ में भ्रष्टाचार रोकने के लिए क्या करे?

- करणीदानसिंह राजपूत -


 सूरतगढ़ आम आदमी पार्टी ने 24 मई को फेसबुक पर सुझाव मांगे कि सूरतगढ़ में भ्रष्टाचार रोकने के लिए क्या किया जाए? 4 दिन में करीब 20 लोगों ने  सुझाव दिए हैं जिनमें एक सुझाव है कि आरटीआई के तहत सूचनाएं ली जाए और कोर्ट का रुख किया जाए। बाकी सुझावों में कोई दमदार सुझाव नहीं है।
 आम आदमी पार्टी की सदस्यता के लिए सूरतगढ़ में बड़ा उत्साह था और जगह-जगह काउंटर लगा कर दफ्तर खोल कर सदस्य भी बनाए गए थे।  लेकिन सच्चाई यह है कि लोग उस पार्टी की सदस्यता बढ़ाते हैं जिसमें दम खम नजर आता हो।
अभी तो भ्रष्टाचार मिटाने के लिए Facebook पर राय मांगी गई है। Facebook आम जनता की राय नहीं होती। Facebook के कुछ सदस्य होते हैं वह अपनी राय दे देते हैं।जैसा कि अभी हुआ है करीब 20 लोगों ने अपनी राय दी है जिसमें भी फालतू की बातें।
आम आदमी पार्टी में पार्टी की स्थापना के समय के सदस्य भी हैं लेकिन उनकी तरफ से आजतक कोई कार्यवाही नहीं हुई। कहीं शिकायत नहीं कोई मुकदमा नहीं।
कोई कोशिश भी नहीं हुई। अगर उनकी रुचि होती तो खुद आगे बढ़कर कार्यवाही करते और नए सदस्यों को प्रेरणा मिलती। नए सदस्य उत्साहित होते और कार्यवाही होने से लोगों का जुड़ाव भी बढता।
अभी भी यही कहा जा सकता है कि सूरतगढ़ में भ्रष्टाचार के समाचार तथ्यों  कागजातों सहित छपते रहे हैं।
आम आदमी पार्टी चाहे तो संबंधित विभागों से सूचना के अधिकार में नकलें लेकर उच्च स्तरीय शिकायत कर सकती है और भ्रष्टाचार​ निरोधक ब्यूरो में शिकायत कर सकते हैं। लोकायुक्त में शिकायत करते हैं तो जांच के बाद लोकायुक्त की तरफ से जांच रिपोर्ट​ सरकार के पास भेजी जाती है।सरकार के अधिकारियों की मर्जी होती है जैसे निपटाते हैं।लीपापोती करते हैं इसलिए अच्छा तो यही हो सकता है कि दस्तावेज प्राप्त कर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को शिकायत कर दी जाए।
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जांच के बाद दोषियों की गिरफ्तारी करने की शक्ति रखता है और उन्हें अदालत के समक्ष प्रस्तुत करता है। ब्यूरो रिश्वत के मामले में रंगे हाथों गिरफ्तार भी करता है ऐसा मामला हो तो ब्यूरो की सहायता तुरंत ली जानी चाहिए।
 भ्रष्टाचार मिटाने के लिए कोई कार्यवाही शुरू करनी हो तो संबंधित व्यक्ति के मेल-मिलाप रिश्ते मित्रता परिचय आदि को दरकिनार रखना होगा।
 पार्टी में जोशीले उत्साहित व्यक्ति आगे बढ़ें।
पार्टी की स्थापना काल के और पुराने पदाधिकारी वह कार्यकर्ताओं के लिए एक बात स्पष्ट कर दी है कि वे भ्रष्टाचार के विरोध करने वाले होते तो बहुत पहले कर चुके होते।

 अभी गुसाईसर सड़क का मामला आप की Facebook पर लगा हुआ है।मामला गंभीर है उस से संबंधित विभाग से सूचना के अधिकार में जानकारी ली जाए कि सड़क कब पूर्ण हुई और उसका भुगतान कितना और कब हुआ? उसके बाद कार्यवाही आगे की जा सकती है।
एक बात महत्वपूर्ण है कि आम आदमी पार्टी की सरकार दिल्ली में बहुमत से चुनी हुई सरकार है जिसे आरोप लगा लगाकर बाधाएं डालने में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी लगी हुई है। मंत्रीपद से निकाले गए कपिल मिश्रा की ओर से आरोप दर आरोप लगाए जा रहे हैं। अखबार और चैनल बढ़ा-चढ़ाकर प्रसारित कर रहे हैं ।हर मामला जांच का है। परिणाम जांच के बाद होंगे। लेकिन वो सच चुनी हुई सरकार को शुरू से लेकर अब तक काम नहीं करने दिया गया।
आम आदमी पार्टी सूरतगढ़ हो या अन्य स्थान की हो उससे उम्मीद है कि वह कब तक चुप रहेगी।उसके कार्यकर्ता कब तक चुप रहेंगे। वे स्थानीय भ्रष्टाचार करने वाले सत्ताधारियों के खिलाफ विभागीय अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही मैं आगे बढ कर कार्यवाही कर सकते हैं और करनी चाहिए।
पार्टी के नेता पर रोजाना राजनीतिक आक्रमण हो रहे हैं ऐसी स्थिति में आम आदमी पार्टी के स्थानीय नेताओं की कोई अणख है या नहीं?
कोई आन बान शान होती है।जहां जिस स्तर का भ्रष्टाचार मिले सत्ताधारी स्थानीय नेताओं कार्यकर्ताओं के विरुद्ध डट जाएं।

सूरतगढ़ में विधायक भारतीय जनता पार्टी का,नगर पालिका अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी की,पंचायत समिति की प्रधान भारतीय जनता पार्टी की यानी संपूर्ण क्षेत्र पर भाजपा का राज।

 यहां भ्रष्टाचार, अनियमितताएं, कार्य में देरी पर प्रतिपक्ष कांग्रेस पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) और जमींदारा पार्टी एकदम चुप है। इस चुप्पी के रिकॉर्ड को कायम रखना है तो आम आदमी पार्टी को भी चुप रहना चाहिए अगर इस रिकॉर्ड को तोड़ना है तो आम आदमी पार्टी को अपना कदम आगे बढ़ाना ही होगा। लोग क्या कहते हैं? क्या टिप्पणियां करते हैं ? इनकी अनदेखी करते हुए भ्रष्टाचार के विरुद्ध मोर्चा लेना ही होगा।


No comments:

Post a Comment

Search This Blog