Tuesday, April 18, 2017

करनी प्रेस इंडिया 7 लाख दर्शकों से पार :नई ऊंचाइयों पर

-  करणीदानसिंह राजपूत -

बैशाखी पर्व के आसपास करणी प्रेस इंडिया 7 लाख के नजदीक पहुंच रही थी। बड़ी खुशी की बात है कि पाठकों  ने करणी प्रेस इंडिया के समाचार रिपोर्ट लेख टिप्पणी और फोटोग्राफ्स को पसंद किया है। पाठकों की रुचि पर करणी प्रेस इंडिया हर स्तर पर खरे रूप में प्रमाणित हुई है। पाठकों की संख्या आस-पास के अलावा देश के विभिन्न हिस्सों में तथा करीब 40- 50 अन्य देशों में भी अपनी पहुंच बना चुकी है।

समाचार पत्रों में समाचार एक बार पढ़ा जा सकता है इसमें आप जब चाहें पाठक समाचार पढ़ सकते हैं। कोई समय सीमा नहीं  है ।समाचार पत्रों में अनेक महत्वपूर्ण फोटो छपते नहीं या एक फोटो छप सकता है।करणी प्रेस इंडिया में महत्वपूर्ण फोटोग्राफ्स भी देने का भरपूर प्रयास रहता है और जलसों जुलूसों और धार्मिक आयोजनों के फोटोग्राफ्स अधिक से अधिक देने की कोशिश रहती है ताकि आयोजन में वे लोग भी उस आयोजन का आनंद उठा सकें जो शामिल नहीं हुए थे। करणी प्रेस इंडिया में समाचारों के अलावा काफी समय से सरकारी सूचनाएं देनी भी शुरू की गई है जो आम लोगों के लिए बहुत लाभदायक रही है। महत्वपूर्ण सूचनाएं होती है जो अनेक अखबार छापते नहीं या इलाके विशेष में रह जाती है। अनेक सरकारी फंक्शन को महत्वपूर्ण स्थान दिया जाने लगा है इसके अलावा विभिन्न इलाकों में जनांदोलन चलते हैं या जनता महत्वपूर्ण विषयों  को उठाती है, उनके ऊपर भी समाचार रिपोर्ट टिप्पणीयां दी जाने लगी है जिनका लाभ निश्चित रूप से पाठकों को मिला है।यही कारण है कि पाठक करणी प्रेस इंडिया को पसंद करने में आगे बढ़ रहे एक महत्वपूर्ण बात यह है कि कोई भी समाचार जब मिला तो उसे पुष्टि करके तत्काल देने की कोशिश भी रही है। करणी प्रेस इंडिया अपने समाचारों को अपने लेखों को अपडेट करने में भी आगे रही है।

एक मिशन है भ्रष्टाचार और दुराचार से मुक्त समाज बनाने का जिसके लिए कटिबद्ध हैं। कोई व्यक्ति कोई संगठन अगर अपराध करता है दुराचार में शामिल होता है तो उसका समाचार देने में करणी प्रेस इंडिया सदा आगे रहा है। समाचारों में निर्भीकता रही है। 

करणी प्रेस इंडिया के एक साथ अधिक सामग्री पढने के लिए क्लिक करें www.karnipressindia.com . इससे में पेज खुलेगा। Facebook पर और ऑल वर्ल्ड ब्लॉग पर भी लिंक दे रखा है। कुछ पाठक फेस बुक लिंक शीर्षक को ही पढ़ कर लाइक कर देते हैं।उसमें दी गई महत्वपूर्ण सामग्री से चूक जाते हैं। लिंक को क्लिक करके पूरा समाचार पढ़ते हैं जो एक उचित प्रक्रिया है।लेकिन इसमें एक क्लिक पर एक समाचार ही मिल पाता है। वैसे मेरा यह कहना है कि Facebook लिंक के साथ karni press india.com भी लिखा होता है उसे अगर क्लिक करें तो Facebook पर ओरिजिनल पेज खुलेगा और अधिक से अधिक समाचार पढ़ पाएंगें। कोशिश करें और आनंद मिलेगा क्लिक करने www.karnipressindia.com india.com

आपकाका शुभेच्छु,




करणी दान सिंह राजपूत

 स्वतंत्र पत्रकार 

सूरतगढ़ राजस्थान (इंडिया) संपर्क 94143 81356

No comments:

Post a Comment

Search This Blog