Friday, March 17, 2017

डाबला में नशा मुक्ति कार्यशाला:




श्रीगंगानगर 17 मार्च 2017.
नशा करने वाला न केवल अपना जीवन बर्बाद करता है बल्कि अपने परिवार को भी पीड़ा, दुख, परेशानी, बैईज्जती व आर्थिक संकट भी सोगात में देता है तथा समाज पर बोझा बन कर स्वंयम नारकीय जीवन जीने को मजबूर हो जाता है। ये शब्द नशा मुक्ति परामर्श एवं उपचार केन्द्र श्रीगंगानगर के प्रभारी अधिकारी डाँ. रविकान्त गोयल ने मुख्य वक्ता के रूप मे श्री गुरू जम्भेशवर मन्दिर डाबला में आयोजित नशा मुक्ति कार्यक्रम मे ग्रामीण एवं विद्यार्थियों से कहे।

जिला पुलिस अधीक्षक  निर्देशानुसार चलाये जा रहे नशा मुक्ति अभियान के अन्तर्गत शुक्रवार को पुलिस थाना मुकलावा के माध्यम से श्री गुरू जम्भेशवर मन्दिर डाबला  में निःशुल्क नशा मुक्ति शिविर व कार्यशाला का आयोजन किया गया।

       नशा मुक्ति परामर्श एवं उपचार केन्द्र श्रीगंगानगर के प्रभारी डा. रविकान्त गोयल ने मुख्य वक्ता के रूप में अपने सम्बोधन में कहा कि नशा मानवता का दुशमन है नशा बहुत तेजी से फैलता हुआ अपनी गिरफ्त में बङो, स्त्री  व पुरूषाें को लेकर समाज को बेइंतहा नुकसान पहुंचा रहा है। डा. गोयल ने नशे के दोषों, दुष्प्रभावों पर वैज्ञानिक जानकारी देते हुये इससे बचने व छोड़ने के सरल उपाय बताये तथा उपस्थित जन समूह को जीवन भर नशा न करने व औरों को नशा मुक्त करने की शपथ दिलाई।

       कार्यक्रम में थानाधिकारी पुलिस थाना मुकलावा श्री रामप्रताप (उ.नि.) ने अपने सम्बोधन में कहा कि नशा मानवता का दुशमन है। नशे के कारण व्यक्ति मानव को मानव नहीं समझता तथा अत्याचारी बनकर मानवता के विरूद्ध गलत राह पर चलने लग जाता है, जबकि हमें गुरूओं के बताये मार्ग पर चलकर नशे से ना केवल खुद बचना चाहिए बल्कि दूसरे लोगो को भी नशों से बचाना चाहिए। नशे की वजह से अपराधो की संख्या मे बढोतरी होती है इससे हमे बचना चाहीए। कार्यक्रम में समाजसेवी श्री श्रीसीताराम जी बिशनोई श्रीगुरू जम्भेशवर मन्दिर डाबला के प्रधान  ने उपस्थित लोगों को नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित करते हुये श्रीगंगानगर जिले में पुलिस प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से चल रहे नशा मुक्ति अभियान व नशा मुक्ति परामर्श एवं उपचार केन्द्र की सेवाओं के बारे में अवगत करवाया।

इस अवसर पर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय डाबला के प्रधानाचार्य श्रीमहावीर प्रसाद ने अपने विचार वक्त करते हुए कहा कि विद्यार्थियो को न केवल नशे से स्वंय बचना चाहिए बल्कि अपने घर परिवार व गाँव को नशा मुक्त बनाने में अपना हर समभव सहयोग करना चाहिए।

कार्यक्रम मे समाज सेवी श्रीशिवराज जी भादु, श्री भुपराम जी डारा, पुर्व सरपंच श्रीरामकुमार कङवासरा, श्रीनत्थुरामजी सुथार, कोषाध्यक्ष श्रीदिनेश गोदारा  ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि नशे से न केवल स्वंय बचे बल्कि अपने घर परिवार व गाँव शहर को नशा मुक्त बनाने मे अपना हर सम्भव सहयोग करना चाहिए।

कार्यक्रम मे उपस्थित जन समुह ने जीवन भर नशा न करने की प्रतिज्ञा की, डाँ. गोयल द्वारा नशे के आदी रोगीयो की मौके पर जाँच कर परामर्श प्रदान किय गया।






No comments:

Post a Comment

Search This Blog