Friday, February 10, 2017

सूरतगढ़ में कलेक्टर और एसपी कार्यालय कहां हो जगह सुझाएंःचर्चाः



-  करणी दान सिंह राजपूत  -
 सूरतगढ़।
 राजस्थान भर में नए जिले बनाने की संभावनाओं को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है।
संभावित जिलों में सूरतगढ़ का नाम भी हम लोग ले रहे हैं। मान लो जैसे गणित में मानते हैं । सूरतगढ़ को जिला बनाने की घोषणा हो जाती है, तब जिला मुख्यालय के विभिन्न विभागों के कार्यालय कहां कहां खोले जा सकते हैं? स्थान सुझाने में तो कोई हर्ज वाली बात नहीं है,और न कोई आरोप प्रत्यारोप लगाने वाली बात है।
 चर्चा करने से ही कोई बात आगे बढ़ेगी और सुझावों से ही स्थानों का भी पता लगेगा। इस चर्चा में कोई भी बाकी क्यों रहे। सभी हिस्सा ले सकते हैं। सुझाव दे सकते हैं। चाहे वे राजनीतिज्ञ हों चाहे व्यापारी हों चाहे शिक्षक वकील हों या अन्य कार्य करने वाले हों या किसान हों।
मेरा ख्याल है कि सुझाव देने में किसी को भी पीछे नहीं रहना चाहिए।
हमारा जिला कलेक्टर का कार्यालय  कहां स्थापित किया जा सकता है?
जिला कलेक्टर के साथ कम से कम तीन अतिरिक्त जिला कलेक्टर भी होेंगे, उनके कार्यालय भी उसी स्थान पर होने चाहिए जहां जिला कलेक्टर का कार्यालय हो। जिला कलेक्टर कार्यालय और अतिरिक्त जिला कलेक्टरों के स्टाफ के कमरे आदि कितने हों जो कलेक्टर के कार्यालय के आस-पास हों। यहां वकीलों अरायजनवीसों आदि के कार्यालय कक्ष वाली जगह भी आसानी से मिल जाए। यह हुई जिला कलेक्टर कार्यालय की स्थापना।
जिले का दूसरा सबसे बड़ा पद जिला पुलिस अधीक्षक का होता है।इसका कार्यालय कहां स्थापित हो सकता है?  जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में जो स्टाफ होता है उसके कमरे आदि स्थान की जगह भी सोच कर ही जिला कलेक्टर के पास या दूरी पर जिला पुलिस अधीक्षक का कार्यालय कहां स्थापित हो सकता है? जहां जिला होगा वहां जिले की पुलिस लाइन भी होगी, तो पुलिस लाइन के लिए भी कौन सी जगह है जो उपयुक्त रहेगी।
जब जिला बनेगा तब जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक इनके कार्यालय कहां पर होने चाहिए?
जिला चिकित्सालय के अधिकारी, चिकित्सा अधिकारी  कार्यालय और स्टाफ उसके लिए भी सुझाव होने ही चाहिए।
 जिले में नागरिक सुरक्षा का जो स्टाफ होता है कार्यालय होता है उसके लिए भी उपयुक्त स्थान कहां पर होना चाहिए?
 जिला परिवहन अधिकारी का कार्यालय कहां होना चाहिए? जिला होगा तब न्यायिक अदालतों से संबंधित  जज व स्टाफ बढ़ेंगे तो उनके लिए न्यायाल आदि कहां पर स्थापित हों?
 यह सुझाव भी अहमियत रखता है।
 यह महत्वपूर्ण बड़े-बड़े कार्यालय है जिनके लिए सुझाव आएं तो बहुत अच्छी बात है।
अन्य कार्यालय धीमी गति से आवश्यकता के अनुरूप खुलते रहेंगे,लेकिन फिलहाल जहां बड़े कार्यालयों की बात है।
जिला कलेक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक के कार्यालय भारी-भरकम माने जाते हैं, इसलिए फिलहाल अगर इन इन के सुझाव भी लिए दिए जाएं तो लाभ ही है।
उसमें कोई हानि होने वाली बात नहीं है ।
जिन लोगों के मन में कोई सुझाव हो तो वह जरूर जनता के सामने आने चाहिए। तो आओ,चर्चा शुरू करें।

अधिकारी आएंगे तो कहीं कार्यालय में बैठेंगे तो सही। सड़क पर तोनहीं बैठेगें। जैसे पहले आरसीपी का लिखा करते थे। केवल टिक करने से तो मतलब नहीं निकलता। चर्चा करें।




No comments:

Post a Comment

Search This Blog