रविवार, 30 अक्तूबर 2016

दीपावली के अंधियारे आकाश में गर्म गैस का गुब्बारे उड़ाने का आनन्द:वाह...वाह.


अजब रोशनी गजब रोशनी के दौड़ते घोड़े और पियानो बजाती सजावट-
- करणीदानसिंह राजपूत -
सूरतगढ़। दीपावली यानि 30 अक्टूबर 2016 की रात। दीपावली की रात में अंधियारे आकाश में रोशनी से आलोकित गर्म गैस के गुब्बारे उड़ाने का आनन्द अपने आप में खुशियों से भरने वाला होता है और गुब्बारा उड़ाने वाले और देखने वाले वाह वाह कर उठते हैं। यह आनन्द इस बार अनेक लोगों ने उठाया।
सूर्यवंशी परिवार ने भी उड़ाए गुब्बारे। दीपू विशु बंटी ने किया कमाल। दूर दूर तक जाता दिखाई देता रहा गुब्बारा। कितनी चकरी कितने अनार बिखेरते रहे अनोखे रंग और कितने तीरों ने ऊंचे जाकर गगन में बिखेरे रंग।
खुले आकाश में दूर रोशनी के घोड़े दौड़ते आए नजर और कितनी सजावट बनी अनोखे पियानो का रूप।
लगा प्रकृति स्वयं ले रही है आनन्द।


 








कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें