Tuesday, November 1, 2016

श्री बिजयनगर को श्रीविजनगर नहीं लिखा जा सकता।

-करणी दान सिंह राजपूत -
श्री बिजय नगर को नगर पालिका के विज्ञापनों में श्रीविजयनगर छपवाया जा रहा है जो कानूनी गलत है। नगरपालिका के अध्यक्ष व अधिशाषी अधिकारी दोनों पर कानूनी कार्य वाही हो सकती है। बीकानेर रियासत के काल में राजकुमार बिजयसिंह के नाम पर इसका नाम करण किया गया था। नाम राज्य सरकार ही बदल सकती है। कोई भी व्यक्ति विज्ञापनों का भुगतान रुकवा सकता है। पालिका को संशोधन छपवाना चाहिए। दीपावली के विज्ञापनों में अभी ताज़ा गलती हुई है।

No comments:

Post a Comment

Search This Blog