शनिवार, 10 सितंबर 2016

सरकार 2 नवम्बर तक छाबड़ा शराब बंदी समझौता लागू करेनही तो प्रदेश व्यापी अनशन शुरु करेगे।



2 नवम्बर तक सरकार (छाबडा जी के साथ हुआ समझोता) छाबड़ा समझौता लागू करे नही तो प्रदेश व्यापी अनशन- पूनम अंकुर छाबडा
   2 अक्टूबर को सूरतगढ़ में स्व. श्री गुरुशरण छाबडा जी स्मारक पर होगा सांकेतिक अनशन प्रदेश  सरकार की सदबुद्धि के लिए-राजपुरोहित

जयपुर 10-9-2016.
     जस्टिस फाॅर छाबडा जी संगठन संयोजक बहन *श्रीमती पूनम अंकुर छाबडा* ने एक प्रेस नोट जारी कर कहा की सम्पूर्ण शराब बंदी के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले *पूर्व विधायक स्व. श्री गुरशरण जी छाबडा साहब* के अनशन के दौरान हुए समझोते से सरकार बार बार मुकर रही है सरकार की मंशा प्रदेश में शराब बंदी करना नही लगती सरकार अपने निजी लालच के लिए प्रदेश की जनता के जीवन से खिलवाड कर रही है सरकार का रवैया जन हितकारी न होकर स्वयं हितकारी हो चुका है। आज शराब के कारण प्रदेश के हालत बद से बत्तर होते जा रहे है पर सरकार मूक बनी बैठी है ।
   *पूर्व विधायक स्व. श्री गुरशरण जी छाबडा* ने प्रदेश को शराब मुक्त करवाने और सशक्त लोकायुक्त के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी और सरकार अपनी ही पार्टी के विचार धारा से जूड़े पूर्व विधायक के साथ हुए समझोते को लागू नहीं कर रही। जिसे प्रदेश की जनता सहन नहीं करेगी अगर सरकार ने *2 नवम्बर* तक छाबडा साहब के साथ हुआ समझोता लागू नही किया  तो *"जस्टिस फाॅर छाबडा जी संगठन"* के सदस्य और शराब बंदी समर्थक जयपुर पहुँच कर संगठन संयोजक व् स्व. छाबडा साहब की पुत्रवधु *श्रीमती पूनम अंकुर छाबडा* और संगठन प्रदेश प्रभारी *भाई भैरु सिंह राजपुरोहित* के नेतृत्व में अनशन शुरु करेगे। जिससे पुरे प्रदेश से संगठन पदाधिकारी भाग लेगे और यह अनिश्चितकालिन अनशन प्रदेश में पूर्ण शराब बंदी और सशक्त लोकायुक्त लागू होने तक जारी रहेगा।
   वंही सरकार को चेताने के लिए पूर्व विधायक स्व. श्री गुरशरण जी छाबडा साहब की जन्मभूमि (सूरतगढ़) पर स्थित स्व. छाबडा जी स्मारक पर 2 अक्टूबर को श्रद्धाजली अर्पित कर सरकार को सदबुद्धि के लिए एक दिन का अनशन श्रीमती पूनम अंकुर छाबडा के नेतृत्व में किया जाएगा*


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें