शनिवार, 20 अगस्त 2016

सरकार ने माना गंगानगर शहर गंदानगर बन रहा है:15 दिन में एक्षन प्लान:


प्रभारी मंत्री डा.रामप्रताप व प्रभारी सचिव श्रीगंगानगर में विधायकों व अधिकारियों संग:

श्रीगंगानगर, 19 अगस्त। जल संसाधन मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. रामप्रताप ने कहा कि श्रीगंगानगर शहर की दुर्दशा को लेकर सरकार गंभीर है तथा अधिकारियों को आगामी 15 दिवस में एक्शन प्लान बनाकर जल्द से जल्द जनता को राहत देनी होगी। उन्होंने कहा कि शहर के विकास के लिये 15 करोड़ के अलावा भी आर्थिक संसाधनों की कमी नही आने देंगे। 


जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभा हॉल में आयोजित जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे। श्रीगंगानगर में नेतेवाला के पास तथा करणपुर में राजकीय महाविधालय के पास सिंचाई विभाग की भूमि को उपयोग में लेने संबंधी चर्चा के दौरान यह बात कही। उन्होंनें कहा कि जहां पर सिंचाई विभाग की भूमि उपलŽध है तथा किसी सार्वजनिक परियोजनार्थ भूमि की आवश्यकता है तो विभाग अपनी भूमि सार्वजनिक उपयोग के लिये देने में कोई देरी नही करेगा।
 उन्होंने जिला रसद अधिकारी को निर्देशित किया कि जिले में गेहूं का वितरण पोश मशीन के माध्यम से करें तथा उसी दिन केरोसीन का वितरण भी किया जाये। उन्होंने अन्नपूर्णा भंडारों की स्थिति की समीक्षा की तथा निर्देश दिये कि अन्नपूर्णा भंडारों से आम उपभोक्ता को राहत मिलनी चाहिए। सरकार की मंशा है कि अन्नपूर्णा भण्डारों पर बाजार दर से 10 से 20 प्रतिशत तक खाद्य वस्तुएं सस्ती मिले।
जल संसाधन मंत्री ने अधिकारियों से कहा कि शहर की स्थिति में 15 दिवस में सुधार आना चाहिए। उन्होंने शहर में सीवरेज निर्माण की प्रगति तथा तीनों एसटीपी की प्रगति की समीक्षा करने पर सामने आया कि बाईपास स्थित एसटीपी आगामी दो माह में प्रारम्भ हो जायेगी तथा शुगरमिल एसटीपी का 70 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो चुका है तथा पुरानी  आबादी स्थित एसटीपी  का कार्य अभी प्रारम्भ नही हुआ है। उन्होंने निर्देश दिये कि शहर के मध्य राष्ट्रीय राजमार्ग द्वारा जो सडक़ का निर्माण किया जा रहा है, इस सडक़ के एक तरफ के कार्य को नाला इन्टरलोकिंग इत्यादि का कार्य पूर्ण कर आमजन के चलने योग्य होने के बाद दूसरे तरफ सडक़ का कार्य प्रारम्भ किया जाये। डॉ. रामप्रताप ने श्रीगंगानगर से करणपुर, गजसिंहपूर, रायसिंहनगर, अनूपगढ़, दन्तौर तक प्रस्तावित नये हाईवे का प्लान रास्ते में आने वाले शहर व गांव से बाईपास निकालकर बनाया जाये। उन्होंने श्रमिक पंजीयन योजना, भामाशाह योजना, मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान, उद्योग, कृषि, बिजली, पानी सहित विभिन्न विभागों की प्रगति की समीक्षा की तथा अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये।
आयुक्त वाणिज्य कर विभाग एवं जिले के प्रभारी सचिव श्री आलोक गुप्ता ने कहा कि दीपावली से पूर्व शहर की स्थिति को सुधारा जाये। उन्होंने जिले में प्रारम्भ किये गये आदर्श विधालयों की पूर्ण रिपोर्ट तेयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप योजनाओं का लाभ एवं भुगतान ऑनलाईन करने के लिये माईक्रो एटीएम खोले जाये या बीसी नियु€त किये जायें। भामाशाह योजना में 100 प्रतिशत नामांकन करने, पेयजल की डिग्गियों की सफाई करने के निर्देश दिये।
जिला कलक्टर श्री पी.सी.किशन ने कहा कि कोई भी अधिकारी अपने उतरदायित्वों से विमु€ख होता है तथा वह आमजन के लिये उपयोगी साबित नही होता है, तो ऐसे कार्मिकों का एपीओ नही निलम्बन ही किया जायेगा। उन्होंने कहा कि आदर्श विद्यालयों में 80 प्रतिशत स्टॉफ खेल मैदान, रंगरोगन तथा कम्प्यूटर कक्ष स्थापित होने चाहिए।
जिला कलक्टर श्री पी.सी.किशन ने कहा कि शहर में कही भी पोस्टर, पम्पलेट एवं  दीवारों पर नारे इत्यादि लिखे ना हो। सरकारी या निजी भवनों पर लगे होर्डिंग्स सम्पति विरूपण अधिनियम के तहत आते है तथा संबंधित के विरूद्घ जुर्माना लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि शहर में एकरूपता दिखें, इसके लिये नीले रंग का चयन किया गया है तथा शहर को पोलीथीन फ्री किया जायेगा। उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप खिलौना बैंक, चल पुस्तकालय तथा पुराने कपड़ों का संग्रह कर जरूरतमंदों तक पहुंचाये जायेंगे।
सूरतगढ़ विधायक राजेन्द्र सिंह भादू ने कहा कि श्रीगंगानगर शहर जिला मुख्यालय होने के कारण शहर साफ-सुथरा तथा अच्छा होना चाहिए। माननीय मुख्यमंत्री ने सूरतगढ़ यात्रा के दौरान शहर की सडक़ों के लिये 15 करोड़ रूपये की राशि दी है, जिसका सदुपयोग होना चाहिए। उन्होंने शिक्षकों के डेपुटेशन पर एतराज जताया तथा जिन विद्यालयों में शिक्षकों की कमी है, वहां अस्थाई व्यवस्था के तौर पर अन्य शिक्षकों को लगाया जाये। श्री भादू ने पेयजल परियोजनाओं को पूर्ण करने सहित सूरतगढ़ में सीवरेज कार्य सहित अन्य बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा की। बैठक में अनूपगढ़ विधायक श्रीमती शिमला देवी ने पेयजल परियोजनाओं की मरम्मत, राजकीय महाविधालय में प्रव€ता तथा अनूपगढ़ घडसाना क्षेत्र में चिकित्सक लगाने का अनुरोध किया।
बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री राहुल कोटोकी, एडीएम श्री करतार सिंह पूनिया, मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री विश्राम मीणा, शुगरमिल महाप्रबंधक श्री शंकरलाल शर्मा, एसीओ श्रीमती रचना भाटिया सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। 




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें