मंगलवार, 31 मई 2016

तम्बाकु से मुंह, जीभ, होठ, गला, फेफडों के साथ अन्य अंगो मे भी केंसर का खतरा

श्रीगंगानगर, 31 मई। अन्तर्राष्ट्रीय तम्बाकु निषेध दिवस के अवसर पर जिला पुलिस अधीक्षक श्री राहुल कोटकी के निर्देशानुसार पुलिस थाना करणपुर के माध्यम से पंचायती धर्मशाला श्री करणपुर मे नशा मुक्ति शिविर का आयोजन किया गया। 
मुख्य वक्ता के रुप मे राजकीय नशा मुक्ति परामर्श एवम उपचार केन्द्र के प्रभारी डा. रविकान्त गोयल ने कहा कि तम्बाकु का सेवन चाहे धुम्रपान के रुप बीडी, सिगरेट, हुक्का या खाने चबाने के रुप जर्दा गुटखा, खैनी इत्यादी हर रुप मे स्वास्थ्य के लिए घातक सिद्ध होता है। तम्बाकु के सेवन ने मुंह, जीभ, होठ, गला, फेफडों के साथ-साथ शरीर के अन्य अंगो मे भी केंसर का खतरा तेजी से बढता है, जो कि मनुष्य की मौत का कारण होता है। तम्बाकु के सेवन से हाथो, पैरो की नाड़ियों मे खून का दौरा कम हो जाता है, जिससे बरगर रोग हो जाता है, हार्ट अटेक की संभावनाएं भी काफी हद तक बढ जाती है। 


इसलिए आज अन्तर्राष्ट्रीय तम्बाकु निषेध दिवस के अवसर पर हम सब सामूहिक रुप से तम्बाकु नामक नशे को जड से खत्म करने का संकल्प लेकर नशा मुक्त भारत के निर्माण मे सहयोंगी बने। 
नशा मुक्ति मुहिम के सेवादार श्री इन्द्र मोहन सिंह जुनेजा ने अपने सम्बोधन मे कहा कि नशा करना गलत है, क्योकि इससे परिवार बर्बाद हो जाते है। नशे के कारण भाई भाई का दुश्मन बन जाता है। गुरुओ एवं महापुरुषों ने भी नशा ना करने का उपदेश दिया है, जिस पर हमे चलना चाहिये ।
कार्यक्रम मे डॉ. संतोख सिहं ने अपने सम्बोधन मे कहा कि नशा मानवता का दुश्मन है। नशे के कारण व्यक्ति मानव को मानव नही समझता तथा अत्याचारी बनकर मानवता के विरुद्ध गलत राह पर चलने लग जाता है, जबकि हम सभी को महापुरुषो के बताये मार्ग पर चलकर न केवल खुद नशे से बचना चाहिये बल्कि दूसरे लोगो को भी नशे से बचाना चहिये ।
पुलिस थाना श्रीकरणपुर के आईसी एसएचओ राजकुमार उ.नि. ने कहा कि नशे के कारण व्यक्ति कई बार ना चाहते हुये भी अपराध कर अपना जीवन सलाखों के पीछे बिताने पर मजबूर होकर अपना व अपने परिवार का वर्तमान व भविष्य नष्ट कर बैठता है, इसलिए इन्सान को हर हालात मे नशे से दूर रहना चाहिये । तभी हमारे समाज मे शान्ति व खुशहाली आएगी।
कार्यक्रम मे डॉ. रेशम सिहं संधु, डॉ. हजारी लाल मुटलेजा, डॉ. संतोख सिहं भुल्लर, डॉ. मनजीत सिहं बराङ, डॉ. एमएस गिल, डॉ. संतोख सिहं, डॉ. तरसेम लाल, डॉ. अमरचन्द भुक्कल, डॉ. मोहनलाल, डॉ. देशराज, डॉ. हरीकिशन, डॉ. रामलाल दलपत, डॉ. पन्नालाल, डॉ. रमेश कुमार, डॉ. परमानन्द, डॉ. सुखजिन्द्र सिहं, डॉ. हनुमान, डॉ. बीरबल राम, डॉ राजु, डॉ. सुशील कुमार, डॉ. रामप्रताप गाबा, औमप्रकाश शर्मा, डॉ. रणवीर राणा, श्री प्रवीण राजपाल व चिमनलाल सहित कस्बा वासियों ने भाग लिया। इस अवसर पर उपस्थित जन समुह ने कार्यक्रम से प्रेरित होकर जीवन भर नशा न करने व नशा पीडितो का नशा छुडवाने की सामुहिक शपथ ली ।
कार्यक्रम मे आस पास के इलाका से आये नशा पीडित व्यक्तियों की जांच डा. रविकान्त गोयल ने की व उचित परामर्श प्रदान किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें