शनिवार, 12 दिसंबर 2015

गांधी जी की डांडी यात्रा:यशवर्द्धनसिंह संधु जयपुर








देश चलता रहे,
भारत चलता रहे,
हर पल हर क्षण,
हर दिन हर रात
चौबीस घंटे,
हर माह,
हर साल।
निरंतर।













यशवर्द्धनसिंह संधु
जयपुर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें