Tuesday, December 6, 2011

दारूडिय़ो -1

दारूडिय़ो
दारूडिय़ो कीं और ज्यादा भड़क ग्यौ-दारूडिय़ो तूं। दारूडिय़ो तेरो ईओ। दारूडिय़ो तेरो चेरमैन। दारूडिय़ो तेरो एमल्यो। साळौ सफेदपोस। आगै सूं मनै ना छेड़ी। बता दूंगा हां तेरी बणयौड़ी सीडी री बात। बलेकमेल करै।
बीचारो नेतो आपरो मूंडो ले र बेगो सो टप ग्यौ।
पतरकार बींरै खनै सूं दूर हटण लाग्यो जणा फेरूं बोल पड्यौ- अरे। पतरकार तूं कठै छापसी। तेरे खनै तो अखबार कठै है?


रेलवाई ठेसण रै सामी नेताजी री मूरती रै लारै पीरूं सिंझया रे बख्त री बात।
बठै जमावड़ो देख म्हूं भी जा र खड्यो हो ग्यौ। अेक जणो मूंधो पड्यौ कीं बड़ बड़ान लाग रयौ हो। बीं रै चारूं मेर खड्या लोग हँसी उडावता बातां करण लाग रया हा। अेक जणो बाईसीकल माथै अेक पग सड़क पर मेल्योड़ो खड्यो हो अर मोबाईल सूं फोटू लेवण लाग रयौ हो।
एक जणे सड़क माथै मूंधे पड्यै आदमी नै सीधो करयौ अर बोल्यो-देख तेरी फोटू उतारै है। मूंडो सावळ कर बैठ। तेरी फोटू छपसी।
बो अेक बार सामी झांक्यो अर बोल्यौ- अरे पतरकार। तूं म्हारी फोटू उतारै ह रै। थारै पतरकारां री फोटू छापसी म्हारै जिसा। छाप पतरकारां इैयो सागै सैटिंग करी।
बाईसिकल माथै खड्यो पतरकार बाईसिकल नै स्टैंड माथै खड़ी करी अर दारूडिय़े रै खनै जार कयौ-ओय दारूडिय़ा के बोले है रे। कुण लीया रै पीसा। कुण करी सैटिंग। थारै बाप करी कै।
दारूडिय़ो-पतरकार तूं है कै म्हूं हूं? अरे। तूं कींरो पतरकार। थनै सहर मांय री खबर भी पतौ नीं है। आच्छा आच्छा। आपरै बेली साथियां री फोटू कोनी छापै। तनै सरम आवै। नेड़े आजा बता दूं। मेरो नाम ना छाप दीजै।
पतरकार नेड़े ग्यौ।
दारूडिय़ै कयौ। कान लगा। अ लोग बाग सुण लैसी।
अेक जणे कहयौ- तेरो कै बिगडै है? नाम तो पतरकारां रा सामी आसी।
दारूडिय़ै- ना। मेरे चढ्योड़ी कोनी। सगळा रे सामी कोनी बताऊं।
दो चार जणा- सगळा रै सामी क्यूं नीं बतावै?
दारूडिय़ौ-ईज्जत है बींयारी ईज्जत है। इत्ती कोनी पीयोड़ी।
पतरकार दारूडिय़े रै मूंडै सारै कान लगायो।
दारूडिय़ो- बडा बडा अखबार। बडी बडी खबरां गा यब। समूची गा यब। ना फोटू ना खबर। करोड़ां रा महळ अर बाजार खड्या होवण लाग रैया है। गरीब री झोंपड़ी गिरावै जणा छापै कै करोड़ां रो कबजो छुडायौ। झौंपड़ी करोड़ां री अर महळ बाजार धेले रा। सुण पिछाण लै पतरकारां नै।
इतै म एक सफेद झक चोळे पाजामै आळो नेतो पूंच्यो अर पतरकार नै कयौ- पतरकार जी थै तो समझदार हो कठै दारूडिय़े सागै मगजमारी करण लाग रया हो।
दारूडिय़ो भडक ग्यौ-ओ। ओ। नेता। दारूडियौ कींया कयौ?
नेता- साळा चुप कर। दारूडियो और कहसूं दारूडिय़ो।
दारूडिय़ो कीं और ज्यादा भड़क ग्यौ-दारूडिय़ो तूं। दारूडिय़ो तेरो ईओ। दारूडिय़ो तेरो चेरमैन। दारूडिय़ो तेरो एमल्यो। साळौ सफेदपोस। आगै सूं मनै ना छेड़ी। बता दूंगा हां तेरी बणयौड़ी सीडी री बात। बलेकमेल करै।
बीचारो नेतो आपरो मूंडो ले र बेगो सो टप ग्यौ।
पतरकार बींरै खनै सूं दूर हटण लाग्यो जणा फेरूं बोल पड्यौ- अरे। पतरकार तूं कठै छापसी। तेरे खनै तो अखबार कठै है?
----------------------------------------------
दारूडिय़ा घणी बार इसी इसी बातां कह जावै जिका दूजा नीं कह सकै। दारूडिय़ा रै खनै ना जाणै कठै कठै सूं आ जावै अंदर की बातां। नुंई नुंई बातां। उडीक राखां हो क अगळी मुलाकात दारूडिय़े रै सागै कठै होवे? कीसे सहर मांय होवै।
----------------------------------------------

करणीदानसिंह राजपूत
राजस्थान सरकार सूं अधिस्वीकृत स्वतंत्र पत्रकार
23, करनाणी धरमशाला,
सूरतगढ़। राजस्थान
पिन 335 804
मो- 94143 81356
दिनांक 6 दिसम्बर 2011.

No comments:

Post a Comment

Search This Blog