Thursday, September 21, 2017

करणी माता : देवी सफेद चूहों वाली सूरतगढ़



 करणी माता मंदिर  फोटो करणीदानसिंह राजपूत

करणी माता-इस मंदिर में माता की प्रतिमा देशनोक मंदिर में स्थापित प्रतिमा की अनुकृति है। शिला पर गढ़ी हुई प्रतिमा सिंदूर सजी है, और प्रतिमा के दर्शन से यह आभास होता है मानों देवी मां असीम कृपा दृष्टि से भक्त की ओर देखती हुई आशीर्वाद दे रही है। फोटो करणीदानसिंह राजपूत

श्रद्धालु माता के दर्शन के बाद सफेद चूहों के दर्शन कर कृपा प्राप्त करते हैं।  फोटो करणीदानसिंह राजपूत

हवन करते हुए श्रदृधालु- फोटो इन्द्रसिंह बैंस
6 मई 2011 को शुभ मुहूर्त में प्रथम पूज्य भगवान गणेश, शिव परिवार, शिव लिंग,राधा कृष्ण, हनुमान, देवियों में लक्ष्मी, सरस्वती, दुर्गा, संतोषी,शीतला, और काली की प्रतिमाओं की स्थापना की गई। इस शुभ समय पर हवन किया गया जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने देवी देवताओं की कृपा दृष्टि प्राप्त की।

शिवपरिवार व शिव लिंग-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

भगवान गणेश माता लक्ष्मी और माता सरस्वती-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

माता दुर्गा संतोषी और राधा कृष्ण-फोटो करणीदानसिंह राजपूत

माता शीतला काली हनुमान और मंदिर पर त्रिशूल स्थापना करते श्रदृधालु-
 फोटो करणीदानसिंह राजपूत

करणीदानसिंह राजपूत
सूरतगढ, 6 मई 2011. राजस्थान में श्रीगंगानगर जिले के विश्व विख्यात कस्बे सूरतगढ़ में हनुमानगढ़ श्रीगंगानगर बाई पास पर करणी माता का यह मंदिर। इस मंदिर में माता की प्रतिमा देशनोक मंदिर में स्थापित प्रतिमा की अनुकृति है। शिला पर गढ़ी हुई प्रतिमा सिंदूर सजी है, और प्रतिमा के दर्शन से यह आभास होता है मानों देवी मां असीम कृपा दृष्टि से भक्त की ओर देखती हुई आशीर्वाद दे रही है। श्रद्धालु माता के दर्शन के बाद भैरूंजी के दर्शन करते हैं और उसके बाद सफेद चूहों के दर्शन कर कृपा प्राप्त करते हैं। माता करणी के दर्शन और पूजन के लिए हर धर्म संप्रदाय और जाति के श्रद्धालु दूर दूर पहुंचते हैं। अनेक नव विवाहित जोड़े सहित अपने परिवार जनों के साथ पहुंचते हैं। नव रात्रों में हवन और पूजन तथा कन्याओं को भोजन कराने की परंपरा है।
    वर्षों पहले किसी दृष्टांत से प्रभावित होकर यहां पर करणी माता का चित्र रख कर पूजन अर्चन शुरू किया गया था, और भक्तों के जुड़ाव के साथ ही मंदिर का निर्माण हुआ। इस मंदिर की देखरेख और संचालन राजपूत क्षत्रिय संघ करता है।
श्रद्धालओं की सोच थी कि इस मंदिर में मां करणी के अलावा अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाएं भी स्थापित की जाएं। इसके बाद यहां 6 मई 2011 को शुभ मुहूर्त में प्रथम पूज्य भगवान गणेश, शिव परिवार, शिव लिंग,राधा कृष्ण, हनुमान, देवियों में लक्ष्मी, सरस्वती, दुर्गा, संतोषी,शीतला, और काली की प्रतिमाओं की स्थापना की गई। इस शुभ समय पर हवन किया गया जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने देवी देवताओं की कृपा दृष्टि प्राप्त की। 

 पुजारी सुलतान तावणिया है, जिनके अनुसार मंदिर सुबह 6 बजे से 11 बजे  तक और संध्या में 4 बजे से रात्रि 8-30 तक खुला रहता है।
-----------------------------------------------------------

ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ


No comments:

Post a Comment

Search This Blog